मुख्यपृष्ठस्तंभसेहत का तड़का : डाइट है फिटनेस का मूल-रणदीप ने घुड़सवारी से...

सेहत का तड़का : डाइट है फिटनेस का मूल-रणदीप ने घुड़सवारी से साधी सेहत

एस. पी. यादव

प्रयोगधर्मी अभिनेता रणदीप हुड्डा का जन्म २० अगस्त १९७६ को हरियाणा के रोहतक शहर में डॉक्टर रणबीर हुड्डा और आशा हुड्डा के घर हुआ। हरियाणा के मोतीलाल नेहरू स्कूल ऑफ स्पोर्ट्स में पढ़ाई करते समय उनमें फिटनेस के प्रति लगाव पैदा हुआ। उन्होंने तैराकी और घुड़सवारी में राष्ट्रीय स्तर पर पदक जीते। बतौर निर्माता अपनी हालिया फिल्म ‘स्वातंत्र्य वीर सावरकर’ के लिए चार महीने में २६ किलो वजन घटाकर उन्होंने सभी को चौंका दिया। रणदीप हुड्डा संतुलित डाइट को सबसे ज्यादा महत्व देते हैं।
घरवाले चाहते थे कि रणदीप हुड्डा एक डॉक्टर बने, इसलिए उन्हें हरियाणा से दिल्ली के आर. के. पुरम स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल में पढ़ाई करने भेज दिया गया। लेकिन वहां रणदीप थिएटर की ओर आकर्षित हुए और स्कूल के नाटकों में हिस्सा लेने लगे। स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद रणदीप १९९५ में ऑस्ट्रेलिया चले गए। जहां से उन्होंने मार्केटिंग  में स्नातक और बिजनेस मैनेजमेंट में मास्टर डिग्री हासिल की। वर्ष २००० में हुड्डा भारत लौटे और एक एयरलाइन में मार्केटिंग विभाग में काम करने लगे। बाद में दिल्ली में शौकिया तौर पर मॉडलिंग और थिएटर में काम शुरू कर दिया। एक नाटक के रिहर्सल के दौरान निर्देशक मीरा नायर ने उन्हें देखा और २००१ में हुड्डा ने मीरा नायर की फिल्म ‘मानसून वेडिंग’ से बॉलीवुड में कदम रखा। इस दौरान उन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में नसीरूद्दीन शाह के एक्टिंग वर्कशॉप में भी हिस्सा लिया। अपने दो दशक से ज्यादा लंबे फिल्म करियर में रणदीप हुड्डा ने ‘डी’, ‘वन्स अपॉन ए टाइम इन मुंबई’, ‘साहब बीवी और गैंगस्टर’, ‘हाईवे’, ‘सरबजीत’, ‘मैं और चार्ल्स’ जैसी कई उल्लेखनीय फिल्मों में काम किया है। वेबसीरिज ‘इंस्पेक्टर अविनाश’ से उन्होंने ओटीटी की दुनिया में भी दस्तक दे दी है।
तल्लीन होकर करते हैं कसरत
रणदीप को एसी जिम के बजाय खुले जिम में पसीना बहाते हुए कसरत करना पसंद है। उन्हें कार्डियो से विशेष लगाव नहीं है, लेकिन कसरत की शुरुआत वे ट्रेडमिल रनिंग जैसी कार्डियो एक्सरसाइज से ही करते हैं। वे आधा घंटे तक तल्लीन होकर कसरत करते हैं, जिसमें सर्किट ट्रेनिंग, वेट ट्रेनिंग, पुल-अप्स, पुश-अप्स, स्ट्रेचिंग, कार्डियो और स्ट्रेंथ ट्रेनिंग जैसी कसरतें शामिल होती हैं। उन्हें घुड़सवारी का शौक है और वह दिन में दो-तीन घंटे घुड़सवारी करते हैं।
सख्त नहीं, संतुलित डाइट प्लान
रणदीप हुड्डा सख्त डाइट प्लान के बजाय संतुलित डाइट प्लान को महत्व देते हैं। बकौल रणदीप, ‘फिटनेस में सही डाइट सबसे ज्यादा महत्व रखती है।’ वह पैलियो डाइट (एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन्स और फाइटोन्यूट्रिएंट्स से भरपूर डाइट), इंटरमिटेंट फास्टिंग के जरिए अपना वजन नियंत्रित रखते हैं।
ऐसा है खानपान
वह रोजाना लगभग एक दर्जन अंडे खा लेते हैं। दूध, दही, पनीर जैसे डेयरी उत्पाद उनके भोजन में शामिल होते हैं। लीन प्रोटीन, कम कार्बोहाइड्रेट और स्वस्थ वसा वाले आहार को प्राथमिकता देते हैं। नारियल पानी और हरी सब्जियों का सेवन करते हैं। उन्हें जापानी डिश सुशी, तंदूरी रोटी, तड़केवाली दाल, आलू-गोभी, गाजर-मेथी की सब्जी, पनीर-पुलाव खूब पसंद है।

रणदीप की पसंदीदा गाजर-मेथी सब्जी की रेसिपी
सामग्री: एक गुच्छा मेथी, पाव किलो गाजर, एक चम्मच तेल, एक छोटा चम्मच जीरा, दो चुटकी हींग, दो बारीक कटी हरी मिर्च, बारीक कटा अदरक का एक छोटा टुकड़ा, एक चम्मच पिसा धनिया, एक छोटा चम्मच काली मिर्च, एक छोटा चम्मच अमचूर और स्वादानुसार नमक।
विधि: मेथी और गाजर को साफ कर बारीक काट लें। कड़ाही में तेल गर्म करें। इसमें जीरा डालकर भूनें। फिर हींग डाल दें। आंच को धीमा कर अदरक और मिर्ची डालकर भूनें। अब इसमें कटी मेथी डालकर दो मिनट तक भूनें। अब इसमें गाजर डालकर एक मिनट तक भूनें। नमक, काली मिर्च, और पिसा धनिया डालें। सभी सामग्री को अच्छे से मिलाएं। गाजर के गलने तक ढक कर पकाएं।
फायदे: विटामिन ए और सी, कैरोटीनॉइड और पर्याप्त फाइबर होने के कारण यह हृदय रोगियों और डाइबिटीज के मरीजों के लिए भी अच्छा आहार है। यह पाचनतंत्र को स्वस्थ रखने, इम्यूनिटी को मजबूत करने, आंखों की रोशनी बढ़ाने के साथ-साथ शरीर से दूषित तत्वों को बाहर निकालने में कारगर है।

अन्य समाचार