मुख्यपृष्ठस्तंभसेहत का तड़का : सेहत की सेविंग बढ़ाओ

सेहत का तड़का : सेहत की सेविंग बढ़ाओ

एस. पी. यादव
जितना खाओ, उतना खपाओ के मंत्र में यकीन करते हैं अनिल कपूर
लगभग चार दशकों से अपने सधे हुए अभिनय के साथ-साथ अपनी छरहरी काया को लेकर प्रशंसकों के बीच चर्चा में बने रहनेवाले अभिनेता-निर्माता अनिल कपूर का जन्म २४ दिसंबर १९५६ को फिल्म निर्माता सुरिंदर कपूर और निर्मला कपूर के घर चेंबूर, मुंबई में हुआ। ६६ साल की उम्र में भी बेहद फिट और जवां नजर आनेवाले अनिल कपूर अपनी सेहत का सारा श्रेय जीवन में स्थिरता और व्यायाम की निरंतरता को देते हैं।

चेंबूर के अवर लेडी ऑफ परपिच्युअल सकर हाईस्कूल से स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद अनिल कपूर ने सेंट जेवियर्स कॉलेज से इंटर तक पढ़ाई की। पढ़ाई से ज्यादा उनका मन अभिनय की ओर आकर्षित था। उन्होंने १९७९ में फिल्म ‘हमारे-तुम्हारे’ में एक छोटी-सी भूमिका के साथ अभिनय आरंभ किया। हालांकि, फिल्म ‘वो सात दिन’ से बतौर अभिनेता उन्हें पहचान मिली। अब तक लगभग १०८ फिल्मों में काम कर चुके अनिल कपूर ने बॉलीवुड, साउथ की फिल्मों के अलावा हॉलीवुड की फिल्मों भी काम किया। ‘मेरी जंग’, ‘मि. इंडिया’, ‘तेजाब’, ‘बुलंदी’, ‘पुकार’, ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ जैसी कई बेहतरीन फिल्मों में उन्होंने यादगार किरदार निभाए।
नियमित व्यायाम को देते हैं महत्व
स्थिरता और निरंतरता को फिटनेस के लिए जरूरी माननेवाले अनिल कपूर कहते हैं कि फिटनेस बाहरी नहीं, बल्कि अंदरूनी होनी चाहिए। अपनी दमदार बॉडी से लोगों को प्रभावित करने की बजाय भीतर से स्वस्थ होना ज्यादा जरूरी है। अनिल कपूर सप्ताह में तीन दिन जिम में एक्सरसाइज करते हैं, जबकि तीन दिन बाहर खुले वातावरण में व्यायाम करते हैं। वे वॉर्म-अप, कार्डियो और वेट ट्रेनिंग को महत्व देते हैं, लेकिन अपनी एक्सरसाइज में निरंतर बदलाव लाते रहते हैं। रनिंग, सिटअप्स, वॉल एक्सरसाइज, डिप्स आदि के जरिए अपनी काया को स्लिम-ट्रिम बनाए रखते हैं।
सेहत के सेविंग अकाउंट में बैलेंस बढ़ाओ
बकौल अनिल कपूर, ‘आप रोजाना जितनी कैलोरी लेते हैं, उसी अनुपात में वैâलोरी बर्न करना चाहिए। अगर आपने २५० कैलोरी ग्रहण किया और व्यायाम कर ३०० कैलोरी खपा दी तो ५० कैलोरी आपकी सेहत के सेविंग अकाउंट में बैलेंस हो जाती है। सेहत के सेविंग अकाउंट में बैलेंस बढ़ाना जरूरी है। इसके साथ ही जीवन में जो कुछ मिला है, उससे संतुष्ट रहना और भगवान के प्रति शुक्रगुजार होना सबसे ज्यादा जरूरी है।’ अनिल कपूर जल्द सोने और जल्द जागने में यकीन करते हैं। वे अक्सर सुबह पांच से छह बजे के बीच व्यायाम करते हैं।
ऐसी है अनिल कपूर की आहारचर्या
अनिल कपूर जीवन में सकारात्मकता, व्यायाम में निरंतरता और पर्याप्त नींद को समग्र सेहत का तीन सूत्र मानते हैं। वे सुबह सबसे पहले खाली पेट एक लीटर पानी पीते हैं। इसके बाद नाश्ते में प्रोटीनयुक्त सैंडविच, अंडा, जई, सलाद और फल खाते हैं। लंच में फिश-करी, मटर सूप, उबली ब्रोकली या सेलेरी लेते हैं। रात के भोजन में अक्सर सॉस के साथ सलाद खाते हैं। कभी-कभार ब्राउन राइस लेते हैं।
दक्षिण भारतीय व्यंजन पसंद
अनिल कपूर हर ढाई घंटे बाद कुछ हल्का-फुल्का, लेकिन पौष्टिक आहार लेते हैं। इस तरह दिन में पांच-छह बार छोटी-छोटी खुराकों में भोजन करते हैं। सेब और स्ट्राबेरी के जूस के अलावा वह पर्याप्त पानी पीते हैं। अनिल कपूर दक्षिण भारतीय व्यंजन पसंद करते हैं। उन्हें इडली, सांभर, चटनी, डोसा के साथ तरह-तरह के आचार खाना पसंद है। इन दिनों वे चावल, रसम और दही खाना पसंद करते हैं। इडली को वह सेहत के लिए सबसे सुरक्षित आहार मानते हैं। शुगर और जंकफूड से परहेज करते हैं। दाल-मखनी और मछली करी से भी उन्हें विशेष लगाव है।

अनिल कपूर का पसंदीदा
पोहा इडली की रेसिपी

सामग्री:
एक कप इडली रवा, एक छोटी कटोरी पोहा, एक छोटी कटोरी उड़द दाल, थोड़ा-सा तेल और स्वादानुसार नमक।
विधि:
इडली रवा, पोहा और उड़द दाल को साफ कर दो घंटे पानी में भिगो दें। मिक्सर में इनका घोल तैयार कर अलग निकाल लें। अब सभी तरह के घोल को एक बाउल में अच्छी तरह मिलाकर खमीर आने के लिए पांच-छह घंटे के लिए रख दें। बाद में इस घोल को स्टीमर में रखकर इडली तैयार करें और नारियल की चटनी के साथ परोसें।
फायदे:
पोहा इडली की एक खुराक से लगभग ३३ वैâलोरी ऊर्जा, १.३ ग्राम प्रोटीन, ६.७ ग्राम कार्बोहाइड्रेट, ०.३ ग्राम फाइबर और ०.१ ग्राम वसा मिलता है। पर्याप्त वैâल्शियम और फास्फोरस होने के कारण यह हड्डियों को मजबूत बनाने, पाचन-तंत्र में सुधार लाने और वजन को नियंत्रित रखने में कारगर है।

(लेखक स्वास्थ्य विषयों के जानकार, वरिष्ठ पत्रकार व अनुवादक हैं। ‘स्वास्थ्य सुख’ मासिक के संपादक रह चुके हैं।)

अन्य समाचार