मुख्यपृष्ठस्तंभनकली मौत से पब्लिसिटी पाने की बेशर्मी?

नकली मौत से पब्लिसिटी पाने की बेशर्मी?

रमेश ठाकुर

मौत परम शाश्वत सच है जिसके साथ मनुष्य को कभी भी मजाक नहीं करना चाहिए। मौत तो सृष्टि द्वारा निर्धारित अंतिम सत्य है, भला उससे साथ क्या खिलवाड़ करना? सोचो अगर काल ने किसी के साथ थोड़ा-सा भी मजाक कर दिया तो उसका क्या होगा, सभी को पता है? मौत का उपहास उड़ाने का मतलब होता है प्राकृतिक और कुदरत की रची संयुक्त संस्कृति के साथ ठिठोली करना। ऐसी ही हरकत अभिनेत्री पूनम पांडे ने अपनी नकली मौत की खबर पैâलाकर की है, जो इस वक्त चर्चाओं का विषय बनी हुई है। दरअसल, उन्होंने पब्लिसिटी की चाह में ऐसा पाप कर डाला है, जिसकी माफी तीनों लोकों में उन्हें कहीं नहीं मिलने वाली। मौत की अफवाह से उनके चाहने वालों की जन-भावनाएं कुछ घंटों के लिए कितनी आहत हुई होंगी, शायद इसका अंदाजा उन्हें नहीं है? उनको लगा होगा कि मौत की अफवाह पैâलाकर वह लोगों की सहानुभूति पाएंगी और पब्लिसिटी लूट लेंगी? पर उन्हें नहीं पता उन्होंने लोगों की नजरों में अपना विश्वास कितना खो दिया है। शायद अब भविष्य में लोग उन पर न तो एतबार करेंगे और न ही यकीन?
गौरतलब है कि पूनम औसत दर्जे की अभिनेत्री और मॉडल रही हैं। उन्हें हमेशा काम की तलाश रही। आज तक उन्हें कोई कायदे का रोल नहीं मिला। एक कड़वी सच्चाई ये भी है कि अपनी हरकतों के चलते वो कभी मायानगरी में फिट नहीं बैठ पाईं। ऊटपटांग हथकंडों के जरिए ही उन्होंने थोड़ा-बहुत नाम कमाया। भारतीय टीम का किक्रेट वर्ल्डकप जीतने पर न्यूड होकर स्टेडिएम में चक्कर लगाने जैसे दावे करके वो प्रशंसकों की नजरों में पहले ही गिर चुकी थीं। इसके अलावा भी उनके तकरीबन बयान पारिवारिक और भारतीय संस्कृति के विरुद्ध ही रहे। इसी कारण पूनम के परिवार ने भी उनसे किनारा किया हुआ था। जिस दिन उन्होंने अपनी मौत की झूठी खबर पैâलाई तो उनके प्रशंसकों को एकाएक विश्वास नहीं हुआ। वो जानते हैं कि पूनम कितनी ड्रामेबाज हैं। अचानक हुई मौत पर सभी को संदेह हुआ। और हुआ भी कमोबेश वैसा ही जिसका सभी को अंदेशा था। दूसरी सुबह खुद प्रकट होकर उन्होंने नाटकीय अंदाज में अपनी मौत की बात का खंडन कर डाला। झूठी खबर को उन्होंने सर्वाइकल वैंâसर के प्रति जागरूकता पैâलाना बताया, जिसे भी लोगों ने सिरे से नकार दिया। अगर उन्हें वास्तव में वैंâसर मरीजों की इतनी परवाह है तो इसके लिए वह जागरूकता वैंâप लगा सकती हैं, धन को डोनेट कर सकती थीं, लेकिन नहीं, उन्हें तो बस सनसनी पैâलानी थी।
निश्चित रूप से अभिनेत्री पूनम पांडे ने अपनी मौत की अफवाह पैâलाकर न सिर्फ मौत की कड़ी सच्चाई के साथ खिलवाड़ किया है, बल्कि अनगिनत लोगों की भावनाओं को भी आहत किया है। अभिनेत्री का मकसद सिर्फ पब्लिसिटी पाना मात्र था। लेकिन उन्होंने ऐसा करके बहुत गवां दिया। एक पुरानी कहावत है ‘गांव का एक व्यक्ति गांव वालों को ‘शेर आया, शेर आया’ कहकर परेशान करता था। गांव वाले जब उसकी मदद के लिए पहुंचते तो वो सबका उपहास उड़ाता। लेकिन एक दिन सच में शेर आ गया, तब भी उसने लोगों को सहायता के लिए बुलाया लेकिन उस दिन मदद के लिए कोई गांव वाला नहीं पहुंचा और शेर ने उसे निवाला बना लिया। ईश्वर न करें कहीं ऐसा भविष्य में पूनम पांडे के साथ हो जाए? नकली मौत से पब्लिसिटी पाने की जो बेशर्मी इस अभिनेत्री ने दिखाई है। उसके बाद फिल्म जगत के कई सेलेब्स और सोशल मीडिया यूजर्स पूनम पांडे पर थू-थू कर रहे हैं। घटना के दिन से ही घर में वैâद हैं और बाहर आकर किसी का वह सामना नहीं कर पा रहीं। ऊपर से कानूनी कार्रवाई होने की भी सुगबुगाहट होने लगी है। डरी हुई हैं, फोन भी बंद किया हुआ है, परिवार के लोग भी बात नहीं कर रहे। फिल्म इंडस्ट्री के लोगों ने भी पूनम का सामाजिक बहिष्कार करना शुरू कर दिया है।
पूनम की तरह कभी मशहूर रैपर एमिनेम ने अपनी मौत की झूठी अफवाह पैâलाकर सोशल मीडिया पर सहानुभूति बटोरी थी, लेकिन उसके बाद उनको लोगों की भयंकर नाराजगी का सामना करना पड़ा। फुटबॉलर डेविड बेकहम ने भी कुछ ऐसा ही करके अपने प्रशंसकों को आहत किया था। १९८३ में एक अमेरिकी मॉडल मारिया ने भी अपनी मौत की नकली खबर सार्वजनिक की थी? लेकिन वो झूठी खबर एक सप्ताह के भीतर ही सच में तब्दील हो गई थी, मारिया की एक सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हुई। सेलेब्स को थोड़ा सोचना चाहिए कि जो व्यक्ति लोकप्रियता के शिखर पर पहुंच जाता है, तब उसके चाहने वालों की संख्या भी हजारों-लाखों में पहुंच जाती है। ऐसे में अपने चहेते अभिनेता-अभिनेत्री के संबंध में वो दुखद खबर वैâसे सहन कर पाएंगे। साउथ के बड़े अभिनेता एमजी रामचंद्र की लोकप्रियता को शायद ही कोई भूल पाए, उन्हें लोग भगवान की तरह पूजते थे। जब उनका देहांत हुआ, तो उनके गम में दर्जनों प्रशंसकों ने अपनी जान तक दे दी थी। यहां तक किसी ने अपने जीभ काटी तो किसी ने अपनी नस? खुदा-न-खास्ता अगर पूनम पांडे के पास भी इतनी लोकप्रियता होती, तो उनकी इस झूठी खबर से कितना नुकसान प्रशंसकों को पहुंचता।
इस हरकत से पूनम कानूनी पचड़े में भी पड़ सकती हैं। वहीं ऑल इंडिया सिने वर्कर्स एसोसिएशन ने भी पूनम पर एक्शन लेने का मन बनाया है। वैसे, गौर से देखें तो इस अभिनेत्री का संपूर्ण जीवन गैर वाजिब हरकतों, ढिठाई, लड़ाई-झगड़ा, उल्टे-सीधे दांव-पेच भिड़ाना और असामाजिक तत्वों में ही उलझा हुआ है। विवाद तो जैसे उनके साथ साये की तरह चलते हैं। मायानगरी में कइयों के साथ लिव-इन में रहना, गुपचुप तरीके से शादियां करना हमेशा से जारी रहा। १० सितंबर, २०२० को उन्होंने रहस्यमय तरीके से निर्देशक सैम अहमद से भी विवाह रचाया और दो सप्ताह में ही उनसे अलग हो गईं। यही नहीं उन्होंने सैम पर पुलिस थाने में गंभीर धाराएं लगवाकर जेल भी पहुंचवा दिया। दरअसल, इन हरकतों से भी वह पब्लिसिटी कमाती रहीं। पूनम ने सर्वाइकल मरीजों का जिस तरह से मजाक उठाया है उसे भी जायज नहीं ठहरा सकते। सर्वाइकल वैंâसर वास्तव में बहुत तकलीफदेह होता है तभी तो केंद्रीय बजट में सरकार को इस बीमारी के लिए टीका अभियान छेड़ने का एलान करना पड़ा। लेकिन कुछ भी हो, पूनम पांडे ‘नकली मौत’ की आड़ लेकर ‘सच्ची पब्लिसिटी’ ज्यादा वक्त तक पाने में सफल नहीं हो सकीं।

अन्य समाचार