मुख्यपृष्ठनए समाचारशरद पवार अटल हैं और अटल रहेंगे? ... राकांपा सांसद सुप्रिया सुले...

शरद पवार अटल हैं और अटल रहेंगे? … राकांपा सांसद सुप्रिया सुले का दावा, भुजबल की बातों में नहीं है कोई तथ्य

सामना संवाददाता / मुंबई
राकांपा सांसद सुप्रिया सुले ने अजीत पवार गुट और छगन भुजबल पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने राकांपा पर लगे सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। छगन भुजबल ने मीडिया को दिए इंटरव्यू में कई बातें कहीं थीं। सुप्रिया सुले ने कहा कि राकांपा अध्यक्ष शरद पवार को सुबह शपथ ग्रहण समारोह और २ जुलाई २०२३ को शपथ ग्रहण समारोह दोनों के बारे में जानकारी नहीं थी। ये सभी पैâसले उन्हें अंधेरे में रखकर लिए गए थे। शरद पवार अपने सिद्धांत पर अटल हैं और रहेंगे। भाजपा ने राकांपा पर झूठे आरोप लगाए, भाजपा ने ही राकांपा को ऑफर दिया था।
सुप्रिया सुले को अध्यक्ष बनाने जा रहे थे शरद पवार?
अध्यक्ष पद के प्रस्ताव पर बात करते हुए सुले ने कहा कि शरद पवार ने उन्हें अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव दिया था, लेकिन प्रस्ताव अस्थिर था। इस प्रस्ताव के पीछे तीन अहम बातें थीं। शरद पवार कभी भी भाजपा के साथ नहीं जाना चाहते थे, लेकिन भाजपा के साथ जाकर सरकार बनाना सैद्धांतिक तौर पर सही नहीं था। सांसद सुले ने कहा कि उन्होंने पुलिस में संविदा भर्ती का भी विरोध किया है। यह त्रिदलीय सरकार है। राकांपा पुलिस में संविदा भर्ती का भी विरोध करती है। सुप्रिया सुले ने यह भी सवाल उठाया है कि अगर सरकारी नौकरियां कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर होनी हैं तो आरक्षण का क्या होगा? यह पूरा कार्यक्रम भ्रष्टाचार है। उन्होंने यह भी चेतावनी दी है कि यदि समय मिला तो हम सड़कों पर उतरेंगे। बता दें कि कुछ दिन पहले महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने दावा किया था कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने का विचार राकांपा अध्यक्ष शरद पवार का था।

अन्य समाचार