मुख्यपृष्ठनए समाचारशरद पवार ने चेताया-मतदान का मौका मिलते ही लोग सबक सिखाएंगे

शरद पवार ने चेताया-मतदान का मौका मिलते ही लोग सबक सिखाएंगे

सामना संवाददाता / मुंबई
पिछले चुनाव में उन्होंने जनता की मदद ली थी। जनता ने उन्हें चुनाव में जीत दिलाई और भाजपा को चुनाव हराया। लेकिन आज उन्होंने भाजपा के खेमे में जाकर बैठने का निर्णय लिया है। लेकिन कल जब जनता को वोट देने का मौका मिलेगा तो मतदाता यह जरूर सोचेंगे कि वे कौन-सा बटन दबाएं और उन्हें कहां भेजें? ऐसी जोरदार चेतवानी देते हुए एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने अजीत पवार गुट पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जनता ऐसे लोगों को सबक जरूर सिखाएगी। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि जब तुम कहते हो कि मैं बूढ़ा हो गया हूं, तो मुझमें तुमने क्या देखा? ऐसा सवाल किया।

एनसीपी की ओर से कल बीड में आयोजित स्वाभिमान सभा में पवार बोल रहे थे। इस अवसर पर एनसीपी प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटील, अनिल देशमुख, जीतेंद्र आव्हाड, विधायक रोहित पवार, बीड विधायक संदीप क्षीरसागर आदि उपस्थित थे।

अपने भाषण में शरद पवार ने उप मुख्यमंत्री अजीत पवार, मंत्री धनंजय मुंडे और बीड में अजीत पवार गुट के नेताओं का नाम लिए बिना उन्हें फटकारते हुए चेतावनी दी।
शरद पवार ने कहा कि पिछले चुनाव में उन लोगों ने जनता की मदद ली थी। जनता ने उन्हें चुना और भाजपा को हरा दिया। वे भाजपा को हराकर सत्ता में आए, लेकिन आज भाजपा के खेमे में जाकर बैठने का निर्णय लिया है। ऐसे में कल जब जनता को वोट देने का मौका मिलेगा तो जनता ऐसे लोगों को सबक जरूर सिखाएगी।
अंकुश लगाने का समय आ गया
शरद पवार ने केंद्र सरकार की भी आलोचना की। आज के शासक समाज में खाई पैदा कर रहे हैं। आप सावधानी बरतें। महिलाओं के साथ अन्याय किया जा रहा है, लेकिन भाजपा चुप है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मणिपुर जाना था और उस पर बोलना चाहिए था। वहां तो वे गए नहीं, सदन में भी अविश्वास प्रस्ताव के समय आखिरी कुछ मिनटों में अपनी बात रखी। पवार ने कहा कि सत्ता का दुरुपयोग करनेवालों पर अंकुश लगाने का समय आ गया है।

तुम कहते हो मैं बूढ़ा हो गया हूं…
शरद पवार की उम्र का मुद्दा अजीत पवार और उनके गुट के विधायक अमर सिंह पंडित ने उठाया था। इस खबर को शरद पवार ने खास अंदाज में लेते हुए कहा, ‘आप कहते हैं कि मैं बूढ़ा हो गया हूं, आपने मुझमें क्या देखा?’ जब शरद पवार ने यह पूछा तो खूब हंसी और तालियां गूंजीं। पवार ने कहा कि युवा पीढ़ी के सहयोग से यहां कई लोग हारे हैं।
मोदी को फडणवीस से सलाह लेनी चाहिए
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी १५ अगस्त को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में मणिपुर का जिक्र करना भूल गए। लेकिन उन्होंने घोषणा की ‘मैं वापस आऊंगा।’ यह कहना ठीक है कि मैं फिर वापस आऊंगा। लेकिन पहले देवेन्द्र फड़णवीस से सलाह ले लें। २०१९ में फडणवीस ने कहा कि मैं वापस आऊंगा। वे आए भी, लेकिन दोयम दर्जे की स्थिति में।
गलत लोगों के हाथ में महाराष्ट्र
मुख्यमंत्री जिस ठाणे जिले से हैं, उस जिला अस्पताल में २४ घंटे में २७ मौतें हुर्इं, लेकिन मुख्यमंत्री को न तो अफसोस है और न ही पछतावा। इससे साफ है कि महाराष्ट्र सरकार किस दिशा में जा रही है।

मैं बस इतना ही कह सकता हूं कि अगर आप सत्ता के साथ जाना चाहते हैं तो जाइये, लेकिन जिनसे आपको कुछ लाभ हुआ है, आपने जीवन में जिनसे कुछ लिया है, कम से कम उन लोगों के प्रति थोड़ी मानवता रखने की कोशिश करें। अगर ऐसा नहीं किया तो लोग तुम्हें समय पर उचित सबक सिखाएंगे।

अन्य समाचार