मुख्यपृष्ठटॉप समाचारशिंदे सरकार को सुध नहीं गृहमंत्री गायब हैं!

शिंदे सरकार को सुध नहीं गृहमंत्री गायब हैं!

-६-६ मुस्लिम देशों से होकर गेटवे पहुंची थी संदिग्ध नौका, तीन गिरफ्तार

सामना संवाददाता / मुंबई

राज्य की शिंदे सरकार को आम लोगों की सुरक्षा की कोई सुध नहीं है। जिस गृहमंत्री के हवाले राज्य की सुरक्षा है, वे गायब हैं। ऐसे में मुंबई में अगर कोई बड़ा हादसा हो जाए तो इसका जिम्मेदार कौन होगा? यह वह सवाल है जो आम मुंबईकरों के मन में कौंध रहा है। इसका कारण है कि हाल ही में मुंबई में एक विदेशी बोट घुस आई और पुलिस को इसका पता काफी बाद में चला। खतरे की बात यह है कि यह विदेशी नौका ६-६ मुस्लिम देशों से होकर मुंबई पहुंची। इस मामले में पुलिस ने बोट पर सवार तीन लोगों को गिरफ्तार किया है और उनसे पूछताछ कर रही है।
गौरतलब है कि मुंबई में २६/११ को हुए हमले को भला कौन भूल सकता है। पाकिस्तानी आतंकवादियों ने समुद्री सुरक्षा को भेदते हुए कफ परेड में बधवार पार्क के पास अपनी बोट लगाई थी और तीन दिनों तक दक्षिण मुंबई के कई प्रमुख ठिकानों पर कहर बरपाया था। उस घटना में करीब २०० लोगों की मौत हुई थी। उस घटना में शामिल एक आतंकी अजमल कसाब पकड़ा गया था। उस घटना के बाद मुंबई पुलिस ने समुद्री सुरक्षा को काफी मजबूत किए जाने का दावा किया था। पर १६ वर्षों बाद फिर से समुद्री सुरक्षा को एक बोट ने भेदा है। हालांकि, यह एक कुवैती बोट है, पर यह पाकिस्तान होते हुए मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया पर पहुंची है। बोट पर सवार तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
मिली जानकारी के अनुसार, पुलिस ने बोट पर सवार तीनों नागरिकों को गिरफ्तार करने के बाद कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें रिमांड पर भेज दिया गया। पुलिस अब इन तीनों से पूछताछ कर रही है। बताया जाता है कि ये तीनों कुवैत से आए और अवैध रूप से हिंदुस्थान में घुसपैठ करने के प्रयास में थे। अदालत ने इन तीनों को १० फरवरी तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है। पुलिस अब इस बात का पता लगा रही है कि इन लोगों ने किस मार्ग से मुंबई में प्रवेश किया और क्या उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्र में कोई अपराध किया है।
दक्षिण मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया के पास संदिग्ध बोट में पकड़े गए आरोपियों की पहचान नित्सो डिट्टो (३१ वर्षीय), विजय विनय एंथनी (२९ वर्षीय) और जे साहायत्ता (२९ वर्षीय) के रूप में हुई है। उन्हें मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया था। पुलिस के अनुसार, उनके ऊपर पासपोर्ट (हिंदुस्थान में प्रवेश) नियमों के प्रावधानों के तहत देश में प्रवेश के लिए प्रक्रिया का पालन न करने का मामला दर्ज किया है। पुलिस ने कल बुधवार को अदालत को अपना रिमांड नोट सौंपा, जिसमें उसने कहा कि बम निरोधक दस्ते ने बोट की जांच की है। हालांकि, दस्ते को उसमें कोई विस्फोटक पदार्थ नहीं मिला। इसमें कहा गया है कि पुलिस ने बोट से जीपीएस बरामद किया है, जिसे जांच के लिए भेजे जाने की जरूरत है, ताकि तीनों के कुवैत से हिंदुस्थान आने के रास्ते का पता लगाया जा सके। पुलिस ने बताया कि शुरुआती जांच के दौरान आरोपियों ने बताया कि वे २८ जनवरी को कुवैत से रवाना हुए थे और

अन्य समाचार

कुदरत

घरौंदा