मुख्यपृष्ठनए समाचारशिंदे सरकार का सुतली खरीदी में भी भ्रष्टाचार ... ७२ रुपए प्रति...

शिंदे सरकार का सुतली खरीदी में भी भ्रष्टाचार … ७२ रुपए प्रति किलो की सुतली ४१० रुपए प्रति किलो से खरीदी

सामना संवाददाता / मुंबई
शिवसेना से घात करनेवाले मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र की ‘घाती’ सरकार के शासनकाल में राज्य में हर तरफ लूट-खसोट मची है। सरकार में शामिल लोग जहां भी संभव हो, वहां हाथ मारने में व्यस्त हैं। साधारण सुतली को भी इस सरकार ने नहीं छोड़ा, सुतली खरीद में भी भ्रष्टाचार किया गया है। जिस सुतली की कीमत बाजार में ७२ रुपये प्रति किलो है, उसे घाती सरकार ने छह गुना अधिक कीमत पर खरीदा। इसमे करोड़ों रुपए के भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जा रहे  हैं। शिंदे सरकार पर सुतली खरीदी में करोड़ों का भ्रष्टाचार किए जाने का आरोप कल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने लगाया।
सरकारी गोदामों में बड़ी मात्रा में सुतली का उपयोग होता है। पटोले ने कहा, खुले बाजार में सुतली की कीमत ७२ रुपए प्रति किलोग्राम है, लेकिन शिंदे सरकार ने वही सुतली ४१० रुपए प्रति किलोग्राम पर खरीदी। शिंदे फडणवीस-पवार सरकार द्वारा पसंदीदा ठेकेदारों को बढ़ी हुई कीमतों के साथ टेंडर दिए जाते हैं। पटोले ने यह भी आरोप लगाया कि यह काम मंत्रालय के सामने निर्मल भवन में किया जाता है। उन्होंने कहा कि जनता की मेहनत की कमाई को दिनदहाड़े लूटा जा रहा है।
उद्योग ले जाने के लिए मोदी महाराष्ट्र में
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महाराष्ट्र के हीरा उद्योग और अन्य बड़े उद्योगों को गुजरात ले जाने के लिए ही महाराष्ट्र दौरे पर आए, ऐसा आरोप नाना पटोले ने किया है। वेदांता-फॉक्सकॉन जैसे उद्योग जो लाखों नौकरियां देते हैं, उन्हें केंद्र की भाजपाई सरकार गुजरात लेकर गई। बीते डेढ़ वर्षों से कई उद्योगों को गुजरात और दूसरे राज्यों में ले जाया गया है। पटोले ने कहा कि मोदी महाराष्ट्र में स्थापित उद्योगों को छीनने के इरादे से आए हैं।
सदावर्ते फडणवीस के आदमी हैं… 
गुणरत्न सदावर्ते नाम के एक वकील सार्वजनिक बयान दे रहे हैं कि वह मराठा समुदाय को आरक्षण नहीं मिलने देंगे और इस सदावर्ते से देवेंद्र फडणवीस ऐसा बुलवा रहे हैं। नाना पटोले ने कहा कि इससे यह स्पष्ट है कि फडणवीस मराठा आरक्षण के खिलाफ हैं और वही मराठा और ओबीसी के खिलाफ विवाद पैदा कर रहे हैं।

अन्य समाचार