मुख्यपृष्ठनए समाचारठाणे के शिवसेना की विभागीय बैठक ... बागियों को सिखाएंगे सबक! ...शिवसैनिकों...

ठाणे के शिवसेना की विभागीय बैठक … बागियों को सिखाएंगे सबक! …शिवसैनिकों ने भरी हुंकार

सामना संवाददाता / ठाणे
शिवसेना और जनता के साथ विश्वासघात करके पद हासिल करनेवाले बागियों को सबक सिखाया जाएगा। उक्त हुंकार भरते हुए शिवसेना सांसद राजन विचारे ने शिवसैनिकों से आगामी मनपा चुनाव में ताकत दिखाने के लिए एकजुट होकर काम करने का निर्देश दिया।
बता दें कि ठाकरे गुट के शिवसेना ठाणे जिला शाखा की ओर से नूरी बाबा दरगाह रोड स्थित अनुराधा मंगल कार्यालय में कोपरी, नौपाड़ा, चंदनवाड़ी, पांचपखाड़ी, खोपट, महागिरी के सभी पदाधिकारियों एवं शिवसैनिकों की विभागीय बैठक आयोजित की गई थी। इस दौरान शिवसेना की उप नेता अनीता बिर्जे, ठाणे के सांसद राजन विचारे, संपर्कप्रमुख मधुकर देशमुख, जिला प्रमुख केदार दिघे, शिवसेना प्रवक्ता चिंतामणि कारखानिस, शहर प्रमुख प्रदीप शिंदे और शिवसेना के अन्य अधिकारी बड़ी संख्या में मौजूद थे।
कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए विचारे ने शिंदे गुट पर हमला बोलते हुए कहा कि बागियों के जाने से बालासाहेब द्वारा रोपी गई शिवसेना रूपी वृक्ष के सड़े-गले पत्ते अब गिर गए हैं और अब शिवसेना के इस पेड़ में निष्ठावान शिवसैनिकों के पत्ते अब भी हैं और यही पत्ते आगामी दिनों में बागियों को सबक सिखाने का काम करें। विचारे ने कहा कि धर्मवीर आनंद दिघे के नाम का उपयोग कर अपनी राजनीतिक रोटी बागियों ने सेंकी है, लेकिन धर्मवीर की विरासत को आगे बढ़ाने का काम अब शिवसेना और सभागृह में बैठे शिवसैनिक करेंगे। उन्होंने कार्यकर्ताओं से अपने वार्ड में मतदाता सूची की सावधानी से जांच करने, नागरिकों के साथ सीधे संवाद साधने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि जिस तरह शिवसेना पिछले २५ वर्षों से ठाणे मनपा पर भगवा फहरा रही है, उसी तरह आगे भी शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में मनपा में भगवा फहराने का विश्वास जताया। विचारे ने कहा कि कुछ स्वार्थी नेताओं ने शिवसेना पार्टी के साथ विश्वासघात कर सत्ता हासिल की है और निष्ठावान शिवसैनिकों को परेशान किया है। ठाणे की शिवसेना को इन नेताओं ने बदनाम किया है ऐसे लोगों को सबक सिखाने का आह्वान विचारे ने किया।
युवाओं का छीना जा रहा रोजगार
सांसद विचारे ने कहा कि सिर्फ मुख्यमंत्री पद पाने के लिए शिवसेना पार्टी को छोड़ कर भाजपा के साथ मिलकर सत्ता हासिल करने वाले महाराष्ट्र की वर्तमान सरकार राज्य से उद्योगों को गुजरात में भेजने का काम कर रही है इसलिए हमारी युवा पीढ़ी को मिलने वाले रोजगार को छीनने का गंदा काम इस समय इस महाराष्ट्र में चल रहा है।

अन्य समाचार