" /> शिवसेनाप्रमुख देते थे वचन पूरा करने पर जोर!-उद्योग मंत्री सुभाष देसाई

शिवसेनाप्रमुख देते थे वचन पूरा करने पर जोर!-उद्योग मंत्री सुभाष देसाई

हिंदूहृदयसम्राट माननीय शिवसेनाप्रमुख श्री बालासाहेब ठाकरे वचन को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध रहते थे। यही कारण है कि शिवसेना का वचननामा संक्षिप्त रहता है। इसकी हर पांच साल में समीक्षा की जानी चाहिए। जनप्रतिनिधि अपने निर्वाचन क्षेत्र की जनता से जो वादे किए थे, उसके लिए प्रयासरत रहना आवश्यक है। ताकि जनता से किए गए वादे को पूरा कर सकें। ऐसा प्रतिपादन उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने किया। महाराष्ट्र विधानमंडल सचिवालय वि.स. पागे संसदीय-प्रशिक्षण केंद्र की ओर से आयोजित कार्यक्रम में देसाई ने उक्त बातें कही। उक्त कार्यक्रम का उद्घाटन गत मंगलवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे हाथों किया गया था।
देसाई ने कहा कि जनता के प्रति कृतज्ञता इस सभागृह के कामकाज के माध्यम से होता है। जनता की आशाओं और आकांक्षाओं को प्रतिबिंबित करनेवाला बजट होना चाहिए। जनप्रतिनिधियों को चाहिए कि वे अपने काम के माध्यम से जनता के प्रति कृतज्ञता प्रकट करें। इसके लिए वे अपने पसंदीदा विषय का गहराई से अध्ययन करें और उसे सदन में व्यक्त करें। मुझे अपने निर्वाचन क्षेत्र के लिए क्या मिला? मेरे खाते में कितने रुपए का प्रावधान किया गया? किसको क्या मिला? उसका समाधान कारक उत्तर मिले, तो ही सफल बजट कहा जाएगा।
बजट एक ढांचा
देसाई ने कहा कि बजट एक ढांचा है। राज्यपाल और संविधान द्वारा निर्धारित एक सूत्र है। इस फॉर्मूले के अनुसार विभिन्न योजनाओं के लिए धन आवंटित किया जाता है। सत्ताधारी दल के रूप में कार्य करते समय राज्य के प्रत्येक समूह का विचार किया जाता है। रोजगार बढ़ाने, प्रति व्यक्ति आय बढ़ाने पर जोर दिया जाता है। बजट पूरे राज्य का होता है। विधायक राज्य का प्रतिनिधि होता है इसलिए जनप्रतिनिधि के विचार राज्यव्यापी विचार होने चाहिए।
विभागीय योजना का लें लाभ
कई विभाग योजनाओं की घोषणा करते हैं, उसका अध्ययन करें। उद्योग विभाग द्वारा मुख्यमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम हाथ में लिया गया है। इससे स्वरोजगार के अवसर मिलते हैं। इसके लिए निरंतर प्रयासरत रहना आवश्यक है। कुछ लोग उत्साही हैं। कुछ लोग मेहनती होते हैं। उन्हें इस योजना के माध्यम से रोजगार मिलता है। इसके अलावा देसाई ने अपने निर्वाचन क्षेत्र गोरेगांव में संस्था माध्यम से किए गए अनेक कामों का उल्लेख करते हुए विस्तार से जानकारी दी।