मुख्यपृष्ठनए समाचारविधानमंडल और सड़क की लड़ाई में शिवसेना की ही होगी विजय! संजय...

विधानमंडल और सड़क की लड़ाई में शिवसेना की ही होगी विजय! संजय राऊत ने व्यक्त किया आत्मविश्वास  

सामना संवाददाता / मुंबई
गुवाहाटी में मौजूद बागी एकनाथ शिंदे को २४ घंटों में मुंबई में वापस लौटने का एक अवसर दिया था, लेकिन अब समय निकल चुका है। विधानमंडल में बहुमत सिद्ध करते समय विजय हमारी ही होगी। अब लड़ाई सड़क पर हुई तो भी हम ही जीतेंगे, ऐसा विश्वास शिवसेना नेता-सांसद संजय राऊत ने कल व्यक्त किया।
नरीमन प्वाइंट स्थित वाय.बी. चव्हाण सेंटर में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष सांसद शरद पवार, शिवसेना नेता-सांसद संजय राऊत की उपस्थिति में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेताओं और शिवसेना नेताओं की बैठक हुई। इस बैठक में आगे की रणनीति पर विस्तृत चर्चा हुई। इसके बाद संजय राऊत ने मीडिया से संवाद स्थापित किया।
वाय.बी. चव्हाण सेंटर में महाविकास आघाड़ी की स्थापना हुई थी। इसी सेंटर में फिर बैठक हुई, इसका उल्लेख कर संजय राऊत ने आगे कहा कि इसी सभागृह से महायुति की घोषणा हुई थी और इसी जगह को साक्षी मानते हुए मैं कह रहा हूं कि महाविकास आघाड़ी सरकार मजबूत है। महाविकास आघाड़ी की सरकार अगले ढाई वर्ष पूरा करेगी और फिर से सत्ता में आएगी। शरद पवार केवल महाविकास आघाड़ी के ही नहीं, बल्कि भीष्म पितामह और हिंदुस्थान के नेता हैं। शरद पवार और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच लगातार चर्चा हो रही है। आज ही शरद पवार और उद्धव ठाकरे के बीच बातचीत हुई है। राष्ट्रवादी कांग्रेस, कांग्रेस और शिवसेना के नेता लगातार एक-दूसरे के संपर्क में हैं, मजबूती से एक साथ हैं। ऐसा विश्वास उन्होंने जताया।

हमारी पूरी तैयारी
एकनाथ शिंदे २४ घंटों में मुंबई लौट आएं। महाविकास आघाड़ी पर चर्चा संभव है, ऐसा आह्वान गुरुवार को संजय राऊत ने किया था। उसी कड़ी में उन्होंने आगे कहा कि हमने उन्हें वापस लौटने का अवसर दिया, लेकिन अब समय निकल गया है। यशवंतराव चव्हाण के साक्षी से व शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे की स्मृति को वंदन कर कह रहा हूं कि विधानमंडल में हमारी ही विजय होगी। लड़ाई सड़क पर हुई तो भी यह लड़ाई हम ही जीतेंगे। जिन्हें हमारा सामना करना है वह मुंबई में आए। एकनाथ शिंदे और उनके साथ के विधायकों ने बहुत ही गलत कदम उठाया। हमारी पूरी तैयारी है। अब तुम आओ, ऐसा आह्वान इस दौरान संजय राऊत ने किया। महाविकास आघाड़ी सरकार अगले ढाई वर्ष तक सत्ता में रहेगी ऐसा मैं आत्मविश्वास के साथ कह रहा हूं। ऐसा संजय राऊत ने कहा।

ऐसी धमकियों को भाजपा का समर्थन है क्या?
इस बीच इससे पहले संजय राऊत ने सुबह उनके निवासस्थान पर मीडिया से संवाद स्थापित किया। केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने गुरुवार को ट्विटर के माध्यम से शरद पवार को धमकी दी थी। इसका जिक्र करते हुए संजय राऊत ने कहा कि पूर्व में शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे, उद्धव ठाकरे को धमकी दी थी। अब शरद पवार को धमकी देने तक कुछ लोगों की मस्ती बढ़ गई है। यह भाजपा की यही संस्कृति है क्या? शरद पवार का आदर यहां तक ​​कि प्रधानमंत्री मोदी भी करते हैं। केंद्रीय मंत्री की ऐसी धमकियों को प्रधानमंत्री का समर्थन है क्या? ऐसा सवाल उन्होंने किया।

अब निष्ठा की कसौटी
एकनाथ शिंदे की बगावत से संबंधित पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि अब यह नियमानुसार लड़ाई है। उनके साथ कुछ विधायक होंगे लेकिन महाविकास आघाड़ी के सभी नेता एक साथ हैं। लोकतंत्र बहुमत के आंकड़ों पर चलता है। जिस दिन विधायक मुंबई में पहुंचेंगे, उस दिन उनकी निष्ठा, शिवसेनाप्रमुख के प्रति भक्ति और शिवसेना के प्रति इनकी असली परीक्षा होगी। सभागृह में महाविकास आघाड़ी की तरफ विधायकों का जनमत रहेगा, ऐसा विश्वास संजय राऊत ने इस दौरान व्यक्त किया।

शिवसेना महासागर
एकनाथ शिंदे ने गुवाहाटी में विधायकों के सामने भाषण करते समय हमारे साथ महाशक्ति है, ऐसा उल्लेख किया था। उनकी खबर लेते हुए संजय राऊत ने कहा कि शिवसेना एक महासागर है। वह हमेशा उफान मारता है। महासागर कभी समाप्त नहीं होता। लहरें आती-जाती हैं। यह भी निकल जाएगी लेकिन जो गए उन्हें पछतावा होगा।

अन्य समाचार

ऊप्स!