मुख्यपृष्ठसमाचारशिवसेना जम्मू-कश्मीर इकाई की पुकार, हिंदुस्थानी संस्कृति न करें बेकार!

शिवसेना जम्मू-कश्मीर इकाई की पुकार, हिंदुस्थानी संस्कृति न करें बेकार!

-स्कूलों में राज्य की रीति के अनुरूप यूनिफॉर्म लागू करने की अपील
सामना संवाददाता / जम्मू। शिवसेना जम्मू-कश्मीर इकाई ने कुछ निजी स्कूलों द्वारा छात्रों पर थोपी जा रही पश्चिमी सभ्यता पर कड़ा एतराज जताते हुए कल शिक्षा निदेशक को एक ज्ञापन सौंपने के साथ निजी स्कूल मालिकों से हिंदुस्थानी संंस्कृति के अनुरूप यूनिफार्म लागू करने की अपील की। शिवसेना जम्मू-कश्मीर प्रमुख मनीष साहनी समेत कुछ सिख संगठनों के कार्यकर्ताओं ने जम्मू के एक निजी स्कूल में सिख छात्रा को लेकर हुए विवाद एवं उक्त मांगों को लेकर शिक्षा निदेशक को ज्ञापन सौंपा। साहनी ने कहा कि शिवसेना जम्मू-कश्मीर इकाई की यही है पुकार, हिंदुस्थानी संस्कृति को निजी स्कूल बेकार न करें।
स्कूल निदेशक को सौंपा ज्ञापन
शिवसेना जम्मू-कश्मीर इकाई की तरफ से कहा गया कि खासकर जम्मू संभाग के स्कूलों में जिस प्रकार से धार्मिक सद्भाव बिगाड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं वह निंदनीय है और हमारी सांस्कृतिक एवं सामाजिकता के तानेबाने को बिखेरने की साजिश हो रही हैं, जिसे शिवसेना सहन नहीं करेगी। साहनी ने शिक्षा निदेशक को बताया कि गत दिवस जम्मू के सैनिक कॉलोनी के एक निजी स्कूल ने सिख धर्म को मिले संवैधानिक अधिकारों को लेकर विवाद खड़ा हुआ था। जिसके तूल पकड़ने से पूर्व ही शिवसेना तथा सिख संगठनों ने स्कूल प्रशासन के साथ मिल कर सुलझा लिया गया। साहनी ने बताया कि शिक्षा निदेशक को सौंपे ज्ञापन में मांग की गई है कि निजी स्कूलोेंं द्वारा प्रदेश की संस्कृति के विपरीत छात्राओं को युनिफॉर्म थोपे जाने पर तुरंत रोक लगे। इस मौके पर आरटीआई कार्यकर्ता बलविंद्र सिंह, मीडिया सलाहकार दीपक शर्मा भी उपस्थित थे।

अन्य समाचार