मुख्यपृष्ठसमाचारभाजपा सरकारों का सदमा.... बारात पर पथराव

भाजपा सरकारों का सदमा…. बारात पर पथराव

केंद्र की भाजपा सरकार देश से क्राइम खत्म करके रामराज्य स्थापित करने की बात करती है। लेकिन देश में खासकर जिन राज्यों में भाजपा की सरकार या उसकी समर्थित सरकार है, वहां शांति नहीं बल्कि अशांति बरकरार है। बता दें कि मध्य प्रदेश की भाजपा शिवराज सरकार के राज में बारात में बैंड बजाने पर पथराव कर दिया जा रहा है। बिहार में नीतीश राज में शराबबंदी के बावजूद आम आदमी की बात कौन करे, पुलिस वाले शराब पी रहे हैं तो वहीं हरियाणा में पुरानी रंजिश की वजह से एक महिला की हथौड़ा मारकर हत्या कर दी जाती है। मतलब साफ है कि इस मोदी सरकार की वजह से लोग शांति में नहीं बल्कि सदमे में जीने को मजबूर हैं। प्रस्तुत है `भाजपा सरकारों का सदमा’ से संबंधित रिपोर्ट…
बारात पर पथराव
मध्यप्रदेश के राजगढ़ में एक बार फिर से दलित की बारात पर कुछ लोगों द्वारा पथराव किया गया। मंगलवार देर रात कुछ मुस्लिम युवक बैंड और ढोल बजाने पर इतने आक्रोशित हुए कि बारातियों से मारपीट करते हुए जमकर र्इंट-पत्थर बरसाए। थाना प्रभारी प्रभात गौड़ ने बताया कि मंगलवार को मदन मालवीय की बेटी अंजू की शादी थी। सुसनेर के रहने वाले लक्की पिता सुरेश चौहान बारात लेकर जीरापुर पहुंचे थे। रात साढ़े ११ बजे के करीब बारात निकल रही थी, तभी ढोल बजाने को लेकर मुस्लिम समुदाय के २० से २५ लोगों ने बारातियों और ढोल वाले के साथ मारपीट की। हमले में बाराती पक्ष के चार लोग घायल हैं। पुलिस के अनुसार प्रारंभिक पड़ताल में मस्जिद के सामने ढोल बजाने को लेकर विवाद होना पता चला है। लड़की के भाई अंकित मालवीय ने बताया कि मंगलवार रात को चचेरी बहन अंजू की बारात सुसनेर से आई थी। रात में घोड़ी पर सवार होकर दूल्हा बारातियों के साथ निकला। हम सब बारात के स्वागत के लिए गेट पर खड़े थे। बारात माता जी मोहल्ले स्थित मस्जिद के सामने से निकली तो बैंड और ढोल को बंद करवा दिया गया क्योंकि हमारे गांव में यह प्रथा बना रखी है कि मस्जिद के सामने कोई बैंड-बाजे नहीं बजाएगा।
हथौड़ा मारकर हत्या
हरियाणा के अंबाला में सरकारी स्कूल के चौकीदार के बेटे ने पुरानी रंजिश के चलते एक महिला के सिर पर हथौड़ा मारकर उसकी हत्या कर दी। ये घटना साहा थाने के अंतर्गत केसरी गांव की है। साहा पुलिस ने महिला के बेटे की शिकायत पर आरोपी कृष्ण के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। केसरी गांव में रहने वाले जगतार सिंह ने पुलिस को शिकायत में बताया कि बुधवार सुबह उसकी मां मेमो देवी घर से पशुओं का गोबर डालने कुरड़ी पर गई थी। उसी वक्त वह घूमने-फिरने के लिए बजीदपुर गांव की ओर निकला। रास्ते में उसने देखा कि गांव में रहने वाले जगमाल के पशुओं के बाड़े के मेन गेट के सामने कृष्ण उसकी मां से हाथापाई कर रहा था। जब तक वह दौड़कर वहां पहुंचा, तब तक कृष्ण ने हथौड़े से उसकी मां के सिर में २-३ वार किए। सिर में हथौड़ा लगने से उसकी मां गली में ही गिर पड़ी। वारदात के बाद आरोपी कृष्ण मौके से फरार हो गया। वह लहूलुहान हालत में मां को लेकर शाहाबाद के आदेश मेडिकल कॉलेज पहुंचा, जहां डॉक्टरों ने जांच के बाद महिला को मृत घोषित कर दिया। जगतार ने बताया कि १५ दिन पहले उनकी पड़ोसी कृष्ण के साथ मकान के छज्जे को लेकर मामूली कहासुनी हो गई थी। दरअसल छज्जे के कारण उसके ८ वर्षीय भतीजे सुखप्रीत को चोट लगते-लगते बची, तब उसकी मां ने कृष्ण को सलाह दी थी कि वह अपने मकान के छज्जे को ठीक करवा ले। इसी बात को लेकर कृष्ण उनकी मां से रंजिश रखने लगा और इसी रंजिश में उसने उसकी मां की जान ले ली।
शराबी बिहार पुलिस
बिहार सरकार के शराबबंदी के सपने पर पानी फेरने में वर्दीधारी भी आगे हैं। बता दें कि मीनापुर थाना में तैनात एएसआई रामचंद्र पंडित शराब पीते पकड़े गए हैं। हैरान करने वाली बात तो ये है कि एक शराब पीने के मामले में आरोपी को भी वे पैग बनाकर पिला रहे थे। हालांकि इसकी अभी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। एएसआई की गिरफ्तारी की पुष्टि एसएसपी जयंतकांत ने की है। बता दें कि आरोपी जमादार पूर्व में टाउन थाना में तैनात था। यहां से तबादला होकर मीनापुर गया था। सूत्रों की मानें तो उसे शराब पीने की लत थी। वह अक्सर जब ड्यूटी से ऑफ होता था तो शराब का सेवन करता था। रात भी उसने शराब पी थी। इसका पता ट्रेनी अधिकारी को लग गई थी। उन्होंने उसकी ब्रेथ एनालाइजर से जांच करवाई। इसमें अल्कोहल पीने की पुष्टि हुई। इसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया। एएसआई को टाउन थाना में रखा गया है। जब मीडियाकर्मियों ने उससे घटना के संबंध में पूछताछ की तो कहा- सॉरी। जिंदगी में पहली बार गलती हो गई। हम तो कभी हाथ भी नहीं लगाते हैं। कहा कि रात को एक बारात में शामिल होने चले गए थे, वहीं पर कुछ लोगों ने जबरदस्ती पिला दी।

अन्य समाचार