मुख्यपृष्ठनए समाचारहालिया अध्ययन का चौंकाने वाला तथ्य, हेपेटाइटिस दगाबाज है! ठीक होने के...

हालिया अध्ययन का चौंकाने वाला तथ्य, हेपेटाइटिस दगाबाज है! ठीक होने के बाद भी ले सकता है जान

सामना संवाददाता / मुंबई
हेपेटाइटिस सी से ठीक होने के बाद भी लोगों की मौत होने की संभावना बनी रहती है। इस बीमारी से ठीक हुए लोगों के मरने की संभावना सामान्य लोगों की तुलना में तीन से १४ गुना अधिक होती है। हाल ही में हेपेटाइटिस सी से ठीक हुए २० हजार लोगों पर किए गए अध्ययन में यह निष्कर्ष सामने आया है। अध्ययन में बताया गया है कि अधिकांश लोगों की मौत का कारण दवा और लीवर से जुड़ी बीमारी थी। अध्ययन के निष्कर्ष बीएमजे में प्रकाशित हुए हैं।
उल्लेखनीय है कि हेपेटाइटिस सी एक वायरस है, जो लीवर को संक्रमित करता है। इसके शिकार लोगों को समय पर इलाज न मिलने पर लीवर को भारी क्षति पहुंचती है। फिलहाल बीमारी के इलाज के लिए इंटरफेरॉन आधारित थेरेपी का उपयोग किया जाता था, जो अक्सर अप्रभावी साबित होता था। हालांकि, डायरेक्ट-एक्टिंग एंटीवायरल (डीएए) के रूप में जानी जाने वाली नई दवाएं २०११ में विकसित की गर्इं। इसके चलते करीब ९५ प्रतिशत से अधिक रोगियों का अब वायरोलॉजिकल तरीके से उपचार किया जाता है, जो मृत्यु के जोखिम को काफी हद तक कम करता है। वहीं यूके और कनाडा व् तीन समूहों में हुआ विभाजन
हेपेटाइटिस सी से ठीक हुए लोगों को बीमारी की गंभीरता के आधार पर तीन समूहों में विभाजित किया गया था। २-४ वर्षों की औसत अवधि में डेटा को राष्ट्रीय चिकित्सा रजिस्ट्रियों से जोड़ा गया और मृत्यु के कई कारणों की जांच की गई, जिनमें लीवर वैंâसर, लीवर फेलियर, ड्रग रिलेटेड डेथ, एक्सटर्नल कॉजेज और सर्कुलेटरी सिस्टम डिजीज शामिल हैं। उम्र को ध्यान में रखने के बाद रोग गंभीरता समूहों और सामान्य आबादी की तुलना में मृत्यु दर काफी अधिक थी। स्कॉटलैंड में सभी रोगियों की दर सामान्य जनसंख्या की तुलना में ४.५ गुना अधिक थी। यहां ९८ लोगों की मौतें अनुमानित थी, जबकि ४४२ की मौतें हुर्इं। इसी तरह ब्रिटिश कोलंबिया में दरें ३.९ गुना अधिक थीं। यहां २०९ लोगों की मौत अपेक्षित थी, लेकिन यहां ८०२ मौतें हुर्इं।
ाâे  शोधकर्ताओं की एक टीम ने हेपेटाइटिस सी का इलाज करा चुके लोगों में मृत्यु दर को मापने और उनकी तुलना सामान्य आबादी से करने का निर्णय लिया। उन्होंने ब्रिटिश कोलंबिया (कनाडा), स्कॉटलैंड और इंग्लैंड में किए गए जनसंख्या अध्ययनों के डेटा की जांच की, जिसमें २१,७९० लोग शामिल थे। ये सभी साल २०१४ और २०१९ के बीच हेपेटाइटिस सी से ठीक हो गए थे।

अन्य समाचार