मुख्यपृष्ठनए समाचारदुकानदार ग्राहकों को लगा रहे हैं लाखों रुपए का चूना...एमआरपी से अधिक...

दुकानदार ग्राहकों को लगा रहे हैं लाखों रुपए का चूना…एमआरपी से अधिक मूल्य पर बेच रहे हैं दूध-दही!

अधिकारी अपना कमीशन बढ़ाने में जुटे
योगेंद्र सिंह ठाकुर / पालघर
पालघर और दहानू के वानगांव जैसे ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों से सरेआम लूट हो रही है। यहां अमूल और गोकुल कंपनी का दूध और दही बेचने वाले दुकानदार ग्राहकों से प्रिंट रेट से अधिक कीमत वसूल कर रहे हैं। ग्राहकों के विरोध करने पर उन्हें कई तरह के खर्च बता दिए जाते हैं, जबकि दुग्ध कंपनिया दुकानदारों को सभी खर्च जोड़कर प्रिंट रेट में कमीशन देकर दूध-दही पहुंचा रही हैं। लेकिन दुकानदार एक लीटर दूध पर दो से तीन रुपए ज्यादा और एक किलो दही पर १० रुपए ज्यादा कीमत वसूल रहे हैं। २७ रुपए पैकेट का दूध ३० रुपए में और ३३ रुपए पैकेट का दूध ३५ से ३६ रुपए तक बिक रहा है। वहीं३५ रुपए का पैकेट ३८ रुपए में बिक रहा है। लोगों को तबेले से गाय-भैंस का दूध नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में लोग मिल्क पार्लरों से दूध के पैकेट खरीद रहे हैं। लेकिन शहर के मिल्क पार्लरों पर प्रिंट रेट से अधिक रेट पर उपभोक्ताओं को दूध के पैकेट बेचे जा रहे हैं। खास बात तो यह है कि इस बात की जानकारी अधिकारियों को होने के बावजूद भी मिल्क पार्लरों के संचालकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जा रही है। मिल्क पार्लर पर दूध पैकेट खरीदने के बाद बिल की मांग किए जाने पर भी बिल उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है और कह दिया जाता है कि बगैर बिल के ही दूध लेना है तो लो। गौरतलब है कि दुग्ध कंपनिया विभिन्न तरह के पैकेटों में दूध बिक्री के लिए बाजार में सप्लाई करती हैं, साथ ही इन पैकेट के दाम भी अलग-अगल निर्धारित हैं। वानगांव जैसे इलाकों के दुकानदार कंपनी द्वारा निर्धारित प्रिंट रेट से अधिक कीमत ग्राहकों से वसूल रहे हैं।

 

अन्य समाचार