मुख्यपृष्ठसमाचारहिंदू पक्षकार की हुंकार ..फव्वारा चलाकर दिखाएं!

हिंदू पक्षकार की हुंकार ..फव्वारा चलाकर दिखाएं!

• विष्‍णु जैन का दावा नंदी महाराज से लेकर शिवलिंग तक है रास्ता
• वकीलों की हड़ताल के कारण कल टल गई थी
सामना संवाददाता / वाराणसी
ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा हो गया, इसको लेकर देश में तमाम तरह की चर्चाएं जारी हैं। इस मामले में कल वाराणसी कोर्ट में सुनवाई होने वाली थी लेकिन वकीलों की हड़ताल के चलते टल गई। अब इस केस पर कल सुनवाई होगी। गौरतलब है कि कोर्ट ने आज ज्ञानवापी परिसर की सर्वे रिपोर्ट भी दाखिल करने के आदेश दिए हैं। बता दें कि आज सुनवाई से पहले हिंदू पक्ष के दो वकील हरिशंकर जैन और विष्णु जैन मीडिया के सामने आए। उन्होंने दो नई मांगों का जिक्र किया। विष्‍णु जैन ने हुंकार भरते हुए कहा कि ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने में मिले शिवलिंग को दूसरा पक्ष फव्‍वारा कह रहा है। अगर ऐसा है तो वह फव्‍वारा चलाकर दिखा दें। फव्‍वारा है तो वहां वाटर सप्लाई का पूरा सिस्टम भी होगा। ऐसे में प्रतिवादी पक्ष को जांच में ऐतराज क्यों है? उन्होंने यह भी दावा किया कि नंदी महाराज के सामने व्यासजी के कक्ष से लेकर शिवलिंग तक रास्ता जाता है। कोर्ट से वहां खुदाई कराने की मांग की गई है।
दूसरे वकील हरिशंकर जैन ने कहा कि जहां शिवलिंग मिला है, उसके नीचे तहखाने का सर्वे कराया जाना चाहिए। सामने की दीवार को साफ करके अच्छे तरीके से वीडियोग्राफी होनी चाहिए। हमें उम्मीद है कि कोर्ट हमारे इस प्रार्थना पत्र पर तथ्यों और साक्ष्य के आधार पर फैसला सुनाएगी।
वकीलों ने लेटर जलाकर की नारेबाजी
दरअसल प्रदेश सरकार के विशेष सचिव प्रफुल्ल कमल की ओर से राज्य के सभी डीएम को एक पत्र भेजा गया है। वकीलों का आरोप है कि पत्र में विशेष सचिव ने जैसा लिखा है, उससे लगता है कि उनकी मंशा वकीलों को अराजक संबोधित करने की है। हड़ताल के दौरान कल वकीलों ने विशेष सचिव का लेटर जलाकर नारेबाजी की। वकीलों के विरोध के बाद विशेष सचिव प्रफुल्ल कमल ने प्रदेश के सभी डीएम को एक नया लेटर जारी किया है। इसमें उन्होंने अपने १४ मई के पत्र को निरस्त करने की बात कही है।
अजय मिश्रा से तैयार कराई जाए सर्वे रिपोर्ट
हिंदू पक्ष के एक वादी ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र देकर कोर्ट द्वारा कार्यमुक्त किए गए एडवोकेट कमिश्नर अजय मिश्रा से सर्वे रिपोर्ट तैयार करने के लिए कहा है। वादी ने कहा कि ६ और ७ मई को ज्ञानवापी के सर्वे की कार्रवाई उन्हीं के द्वारा संपन्न की गई थी। अजय कुमार मिश्रा का सहयोग लिए बगैर रिपोर्ट अधूरी रहेगी। बता दें कि अजय मिश्रा पर मुस्लिम पक्ष ने एतराज जताते हुए उनको हटाने की मांग की थी। हालांकि तब कोर्ट ने उनको नहीं हटाया था। बाद में सर्वे की जानकारी लीक करने के मामले में कोर्ट ने उनको हटा दिया था।

एमआईएम प्रवक्ता गिरफ्तार
वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद में मिले शिवलिंग मामले पर कमेंट करना असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एमआइएम के प्रवक्ता और नेता दानिश कुरैशी को महंगा पड़ गया। एमआईएम नेता दानिश कुरैशी को अमदाबाद की साइबर क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि दानिश कुरैशी ने शिवलिंग को लेकर आपत्तिजनक पोस्ट लिखी थी। इसके बाद विश्व हिंदू परिषद ने उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। गौरतलब है कि मुस्लिम पक्ष ने शिवलिंग मिलने के दावे को नकारा है। मुस्लिम पक्ष का कहना है कि वह शिवलिंग नहीं, बल्कि फव्वारा है, जो लगभग हर मस्जिद में लगा होता है।

अन्य समाचार