मुख्यपृष्ठअपराधश्रद्धा हत्याकांड: आफताब को मांस खाने की ‘भूख’! समाजसेविका का खुलासा

श्रद्धा हत्याकांड: आफताब को मांस खाने की ‘भूख’! समाजसेविका का खुलासा

  • आफताब के दोस्त भी चाहते हैं उसे मिले मौत
  • दिल्ली पुलिस ने दर्ज किए १४ लोगों के बयान

सामना संवाददाता / मुंबई
निर्भया के बाद श्रद्धा हत्याकांड में नित नए खुलासे हो रहे हैं। इस हत्याकांड में नया खुलासा नालासोपारा क्षेत्र की समाजसेविका ने किया है। वसई-पूर्व में रहनेवाले आफताब को मांस खाने की भूख रहती थी। वह श्रद्धा को भी मांस खाने के लिए मजबूर करता था। समाजसेविका पूनम बिड़लान ने बताया कि श्रद्धा के नॉनवेज खाने से इनकार करने पर वह उसकी जमकर पिटाई करता था। श्रद्धा हत्याकांड में पुलिस ने वसई में अब तक १४ लोगों के बयान दर्ज किए हैं। सभी ने आफताब के हैवानियत की दास्तां बयां की है। अभी लोग आफताब को कड़ी सजा दिलाने के लिए खुलकर सामने आ रहे हैं।

श्रध्दा ने मांगी थी मदद
पूनम बिड़लान ने बताया कि मुंबई में रहने के दौरान श्रद्धा उनसे तीन बार मदद मांगने आई थी। एक बार तो पूनम श्रद्धा को लेकर तुलिंज पुलिस थाने पहुंच गई थी और आफताब के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थीं। अगले दिन इस मामले में एफआईआर भी दर्ज कराई जानी थी, इसके लिए श्रद्धा भी तैयार थी मगर आफताब के माता-पिता की बातों में आकर श्रद्धा ने शिकायत करने से इनकार कर दिया।
दोस्तों ने की फांसी की मांग
आफताब के दोस्त शशांक मोदी ने बताया कि टीवी पर आफताब की हैवानियत देखकर मैं हैरान हूं। किसी भी झगड़े का एक हल होता है। मैं आफताब का दोस्त हूं मगर उसके लिए कड़ी सजा की मांग करता हूं। कोर्ट उसे जल्द-से-जल्द फांसी या उम्रवैâद की सजा सुनाए। शशांक मोदी ने बताया कि आफताब के माता-पिता कुछ दिन पहले अपना घर किराए पर देना चाहते थे क्योंकि उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी।
दिनभर जांच में जुटी रही पुलिस
बता दें कि दिल्ली पुलिस श्रद्धा हत्याकांड के सिलसिले में छानबीन के लिए वसई आई है। दिल्ली पुलिस ने माणिकपुर पुलिस की मदद से १४ लोगों से पूछताछ कर उनके बयान दर्ज किए हैं। इन लोगों में श्रद्धा के दोस्त लक्ष्मण नाडार, राहुल राय, गॉडविन, शिवानी म्हात्रे और उनके पति, श्रद्धा के मैनेजर करण, श्रद्धा-आफताब के फ्लैट मालिक जयश्री पाटकर और यूनिक पार्क के सचिव का समावेश है। साथ ही पुलिस ने उन लोगों के भी बयान लिए जहां आफताब का परिवार रहता था। इनमें अब्दुल्ला खान, यूनिक पार्क के अध्यक्ष रामदास केवट और गोविंद यादव, जिन्होंने आफताब का सामान वसई से छतरपुर भेजा था, का समावेश था।
वसई से दिल्ली भेजा था सामान
वसई-पूर्व स्थित एक फ्लैट में श्रद्धा और आफताब दिल्ली जाने से पहले एक साथ रहते थे। अब दिल्ली पुलिस ने गोविंद यादव नाम के एक व्यक्ति से पूछताछ की है, जिसने कथित तौर पर वसई-पूर्व के फ्लैट से दिल्ली के छतरपुर तक घरेलू सामान ले जाने में उनकी मदद की थी। श्रद्धा और आफताब ने सामान शिफ्टिंग के लिए २० हजार रुपए दिए थे। ५ जून, २०२२ का बिल मिला है। हालांकि गोविंद ने पुलिस को बताया कि वह आफताब से कभी नहीं मिला और न ही उसे व्यक्तिगत रूप से जानता है। ऑनलाइन ऑर्डर मिलने के बाद उसने माल शिफ्ट किया था।
होटल में भी पहुंची पुलिस
पुलिस सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस ने सोमवार को एक पांच सितारा होटल के कर्मचारियों का बयान दर्ज किया। आफताब मुंबई में एक पांच सितारा होटल में काम करता था। इसके बाद वो काम छोड़कर श्रद्धा के साथ काम करने लगा। पुलिस की एक टीम शहर के उस पांच सितारा होटल के कर्मचारियों से पूछताछ कर रही है, जहां आरोपी आफताब पूनावाला ने ट्रेनी शेफ के तौर पर काम किया था।

अन्य समाचार