मुख्यपृष्ठसमाचारकलियुग का श्रवण कुमार! मौत के मुंहाने पर था अफ्रीकन पिता, अपनी...

कलियुग का श्रवण कुमार! मौत के मुंहाने पर था अफ्रीकन पिता, अपनी किडनी दान देकर बचाई जान

सोशल मीडिया पर आजकल परिवारों के टूटने और बड़े-बूढ़ों पर अत्याचार की घटनाएं अक्सर जानने-सुनने को मिलती हैं। वृद्ध माता-पिता को मारने-पीटने, घर से बाहर कर वृद्धाश्रमों में दाखिल करवाने के शर्मनाक मामलों के बीच एक सुखद दृश्य सामने आया है। मामला ४७ वर्षीय अफ्रीकन नागरिक से जुड़ा हुआ है। इस व्यक्ति की किडनी खराब होने पर वह मौत के मुंहाने पर खड़ा था। ऐसे में उसके २० वर्षीय बेटे ने अपनी किडनी दान कर पिता की जान बचाई है। यह मामला सामने आने के बाद कलियुग के इस श्रवण कुमार की सराहना चहुंओर हो रही है।
जानकारी के अनुसार अफ्रीकन नागरिक अचु पैट्रिक एनडिफोर (४७) की हुई जांच में पांचवें चरण की क्रोनिक किडनी रोग होने की जानकारी सामने आई। इसके बाद उसे ३६ महीने तक हेमोडायलिसिस पर रखा गया था। उसका सप्ताह में हेमोडायलिसिस किया जाता था। लॉकडाउन के दौरान मरीज की तबीयत अधिक खराब हो गई। स्थानीय डॉक्टरों ने उसे किडनी ट्रांसप्लांट की सलाह दी थी।
हिंदुस्थान आया मरीज
डॉक्टरों की सलाह के बाद किडनी ट्रांसप्लांट के लिए मरीज मार्च २०२२ में अपनी पत्नी और बेटे के साथ हिंदुस्थान आ गया। जीएचसी अस्पताल के कंसल्टेंट नेफ्रोलॉजिस्ट और ट्रांसप्लांट फिजिशियन डॉ. निखिल शिंदे ने बताया कि उसकी रक्त शर्करा और रक्तचाप को स्थिर किया गया। इसके बाद फिर मरीज को डायलिसिस पर रखा गया। इसके अलावा सर्जरी से पहले उसे विशिष्ट आहार दिया जा रहा था।
मैच नहीं हुई पत्नी की किडनी
डॉ. निखिल शिंदे ने कहा कि चिकित्सकीय कारणों के चलते मरीज की पत्नी किडनी दान करने में असमर्थ थी। ऐसे में बेटे ने किडनी दान करने की इच्छा व्यक्त की। सारी जांच प्रक्रिया करने के बाद बेटे की किडनी को पिता के शरीर में प्रत्यारोपित किया गया। इसके बाद अफ्रीकन नागरिक को नई जिंदगी मिली है।

अन्य समाचार