मुख्यपृष्ठसमाज-संस्कृतिसमाज-संस्कृति : दहिसर में स्मृति सभा आयोजित

समाज-संस्कृति : दहिसर में स्मृति सभा आयोजित

  • दहिसर में स्मृति सभा आयोजित
    मुंबई। `बयार मित्र परिवार’ के कार्यकारिणी सदस्य स्वर्गीय उमेश उदयभान सिंह और स्वर्गीय जयराजी राममणि दुबे की याद में एक स्मृति सभा का आयोजन किया गया। सभा दहिसर स्थित भारतीय सद्विचार मंच समाज कल्याण केंद्र  सभागृह में आयोजित की गई थी, जिसमें समाज के लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। सभा में उपस्थित वरिष्ठ समाजसेवी डॉ. राधेश्याम तिवारी ने श्रीमती दुबे और युवा समाजसेवी उमेश सिंह की प्रशंसा की। इस स्मृति सभा में वरिष्ठ समाजसेवी डॉ. हृदय नारायण मिश्र, अंतर्राष्ट्रीय सरयूपारीण ब्राह्मण परिषद के अध्यक्ष डॉ. आर के चौबे, डॉ. सलिल चौबे, डॉ. शिवश्याम तिवारी, हरिशंकर तिवारी, गोविंद तिवारी, डॉ. किशोर सिंह, उमेंद्र मिश्र, आजाद मिश्र, डॉ. राजेश शुक्ला, अभिनेता मनीष मिश्र आदि उपस्थित थे। सभा के दौरान २ मिनट का मौन रखकर दिवंगत जनों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।
  • लाइब्रेरी का उद्घाटन
    मुंबई। बांद्रा-पूर्व स्थित उत्तर भारतीय संघ भवन में गत गुरुवार को डॉ. राम मनोहर त्रिपाठी लाइब्रेरी का उद्घाटन संपन्न हुआ। लाइब्रेरी का उद्घाटन डॉ. त्रिपाठी की बेटी डॉ. मंजू पांडे और बेटे तथा वरिष्ठ पत्रकार अनुराग त्रिपाठी ने किया। कार्यक्रम का आयोजन उत्तर भारतीय संघ के अध्यक्ष संतोष आरएन सिंह ने किया था। लाइब्रेरी का उद्घाटन करते हुए अनुराग त्रिपाठी अपने पिता की यादों में खो गए। उन्होंने कहा कि बाबूजी बहुत ही सॉफ्ट थे। उन्‍होंने हमें कभी नहीं डांटा। हमारा परिवार इतना साधारण था कि अन्य बच्चों की तरह हम भी दूसरों के घर टीवी देखने जाते थे। पिताजी नगर विकास, आवास मंत्री तक रहे लेकिन उनके पास खुद का घर तक नहीं था। हम लोग नानाजी के मकान में रहते थे। कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्रों की हस्तियां उपस्थित थीं। कार्यक्रम का संचालन उत्तर भारतीय संघ के युवा अध्यक्ष संजय सिंह ने किया।
  • कैंसर पर जागरूकता अभियान
    मुंबई। सारकोमा कैंसर के बारे में जागरूकता फैलाने  के लिए `विनर्स ऑन व्हील्स’ साइक्लोथॉन का आयोजन किया गया। यह आयोजन अपोलो कैंसर सेंटर्स द्वारा किया गया, जिसमें स्थानीय स्कूलों के बच्चों सहित १७० से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया। इस पहल का उद्देश्य जीवन की बेहतर गुणवत्ता के लिए कैंसर के उपचार के बारे में जागरूकता पैदा करना और सकारात्मकता को प्रोत्साहित करना था। इस बात पर प्रकाश डालने के लिए कि कैसे एक कैंसर  रोगी, जिसका अच्छी तरह से इलाज हुआ है, वह एक सफल जीवन जी सकता है। लोगों ने स्वेच्छा से अपोलो के ब्रांड एंबेसेडर के रूप में साइक्लोथॉन में भाग लिया। इस कार्यक्रम की शुरुआत अपोलो कैंसर  सेंटर्स की ऑन्कोलॉजी टीम के चिकित्सकों ने हरी झंडी दिखाकर की।

अन्य समाचार