मुख्यपृष्ठनए समाचारमऊ नामांकन में सपाइयों का बवाल! घोषी चुनाव में सपा प्रत्याशी के...

मऊ नामांकन में सपाइयों का बवाल! घोषी चुनाव में सपा प्रत्याशी के साथ जिलाध्यक्ष को नहीं मिली नामांकन में अनुमति

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ
घोसी विधानसभा उप चुनाव में अभी से प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा भेद-भाव का आरोप लगने लगा। समाजवादी प्रत्याशी सुधाकर सिंह के नामांकन के दौरान गुरुवार को कलेक्ट्रेट पर समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष को अंदर भेजने को लेकर सपा कार्यकर्ता और पुलिस के बीच तीखी नोक-झोंक हुई। सपा कार्यकर्ताओं की मांग थी कि जिस प्रकार से भाजपा जिलाध्यक्ष भाजपा प्रत्याशी के साथ नामांकन कक्ष में गए थे, उसी प्रकार से सपा जिलाध्यक्ष को भी जाने दिया जाए। सपा कार्यकर्ताओं द्वारा बहुत प्रयास और तीखी नोक-झोंक के बाद भी पुलिस ने सपा जिलाध्यक्ष को नामांकन के लिए अंदर नहीं जाने दिया, जिसके बाद अधिकारियों के समझाने पर मामला शांत हो सका।

बता दें कि विधानसभा चुनाव २०२२ में योगी आदित्यनाथ की सरकार में मंत्री रहे दारा सिंह चौहान ऐन मौके पर पार्टी छोड़ कर सपा में चले गए थे। योगी सरकार के दो और मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य और धर्म सिंह सैनी जो योगी आदित्यनाथ की सरकार से बगावत कर सपा में गए थे, उन्हीं के साथ चौहान भी मुख्यमंत्री पर तरह-तरह का जुबानी आरोप लगा कर सपा में गए थे। प्रदेश में दोबारा योगी सरकार फिर से बन जाने के बाद संघर्ष से डरे चौहान सपा की पीठ में छुरा घोंप कर भाजपा में शामिल हो गए। इसके कारण उन्हें विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र देना पड़ा। उसी सीट पर अब उपचुनाव हो रहा है। घोषी की घटना पर समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता रामगोविंद चौधरी ने कहा कि भाजपा ने आज से ही गुंडागर्दी शुरू कर दिया। हमारे कार्यकर्ताओं का मनोबल गिराने के लिए प्रशासन आरएसएस का स्वयं सेवक बन कर काम कर रही है। हम उनकी तानाशाही का मुंहतोड़ जवाब देंगे। यही वहां की कानून व्यवस्था खराब होगी तो स्थानीय प्रशासन और भारतीय जनता पार्टी इसकी जिम्मेदार होगी।

अन्य समाचार