मुख्यपृष्ठस्तंभश्री-वास्तव उ-वाच : नहीं आएंगे नाग

श्री-वास्तव उ-वाच : नहीं आएंगे नाग

  • अमिताभ श्रीवास्तव
  • नहीं आएंगे नाग
    यह  सिर्फ मान्यता है। परंपरा है। इसे अंधविश्वास से भी जोड़ा जा सकता है किंतु हमारे शास्त्रों में लिखी कहानी है और आस्था का अर्थ रखती है। इसलिए भी प्रचलित है। ये महज जानकारी के लिए कि मान्यताओं में हिंदुस्थान के कई गांवों में आज भी ऐसा किया जाता है। अब बात करें आखिर ये मान्यता है क्या? दरअसल, नागपंचमी आने वाली है और इस दिन अपने घर के बाहर एक ऋषि का नाम लिख देने से नाग घर में नहीं घुसते। शास्त्रों में दर्ज है एक कहानी। महाभारत काल में शमीक मुनि के शाप की वजह से तक्षक नाग ने राजा परीक्षित को डंस लिया था। पिता की मृत्यु का बदला लेने के लिए परीक्षित के पुत्र जनमेजय ने सभी सर्पों का नाश करने के लिए सर्पेष्टि यज्ञ का आयोजन किया था। नागों ने अपने संरक्षण हेतु महान ऋषि आस्तिक मुनि से उन्हें बचाने की प्रार्थना की। ब्रह्माजी के वरदान के कारण आस्तिक मुनि ने इस यज्ञ को समाप्त करवाकर नागों के प्राण बचाए थे। तब नागों ने आस्तिक मुनि को वचन दिया कि वो उस स्थान पर कभी प्रवेश नहीं करेंगे जहां आस्तिक मुनि का नाम लिखा होगा। तो परंपरा है कि दीवारों पर लिखते हैं आस्तिक मुनि की दुहाई। नाग नहीं आते।
  • भैंस महंगे, शेर सस्ते
    बात पाकिस्तान की है। यही देश है जो भुखमरी, आर्थिक तंगी से गुजर रहा है मगर पैसा हथियारों की खरीद-फरोख्त में लगा रहा है। हालात ऐसे बन गए हैं कि तंगी की वजह से चिड़ियाघर के शेर सस्ते दामों में बेच रहे हैं, जबकि भैंसे महंगी हैं। न्यूज चैनल समा टीवी ने एक रिपोर्ट जिसमें यहां लोगों को शेर बेचे जा रहे हैं, वह भी बेहद कम कीमत पर। यह कारनामा खुद चिड़ियाघर के अधिकारी कर रहे हैं, जिन्हें शेरों को पालने की जिम्मेदारी दी गई है, मगर शेर उनके लिए इतने महंगे साबित हो रहे हैं कि वे इसे भैंसों से भी कम कीमत पर आम लोगों को बेच रहे हैं। यह कारनामा वे पहली बार नहीं कर रहे बल्कि, इससे पहले भी कई बार अंजाम दे चुके हैं। लाहौर सफारी चिड़ियाघर प्रशासन अपने कुछ अफ्रीकी शेरों को डेढ़ लाख रुपए पाकिस्तानी करेंसी में बेच रहा है। रिपोर्ट में बताया गया है कि यहां भैंसों की कीमत भी इससे अधिक है, जितने में चिड़ियाघर प्रशासन शेरों को बेच रहा है। बताइए क्या हालत हो गई है पाकिस्तान की?
  • बिल्ली से डरा अमेरिका
    ये कोई आम बिल्ली नहीं है, बल्कि ऐसी अजीबोगरीब है कि अमेरिका के लोग डर रहे हैं और प्रशासन ने एडवाइजरी भी जारी कर दी है। दरअसल, संयुक्त राज्य अमेरिका में इन दिनों एक अजीबोगरीब बिल्ली घूम रही है। प्रशासन ने इसे खतरनाक मानते हुए इसकी तस्वीरें जारी की हैं और लोगों से इस पर नजर रखने तथा देखते ही सूचना देने को कहा है। इस अजब-गजब और भयानक बिल्ली की तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है और कुछ यूजर इसे अलग ही टाइप का जानवर बता रहे हैं। बिल्ली की तस्वीरें सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक  पर स्ट्रॉन्ग आइलैंड एनिमल रेस्क्यू लीग ने जारी की। इसमे उन्होंने बताया कि इस बिल्ली के बारे में उन्हें किसी नागरिक ने फोन पर जानकारी भेजी है और यह अब भी आईलैंड पर खुलेआम घूम रही है। अधिकारियों ने नागरिकों को इस खतरनाक जानवर से सतर्क  रहने को कहा है।
  • बॉस हो तो ऐसी!
    यदि ऐसा बॉस हो तो फिर क्या कहने, कर्मचारी भी मन लगाकर काम करते हैं। जी हां, दुनिया की ये बेस्ट बॉस है। अमेरिकी अंडरवियर गारमेंट्स ब्रांड की सीईओ सारा ब्लेकली को दुनिया की सबसे बेहतरीन बॉस बताया जा रहा है। इसकी वजह है उन्होंने अपने कर्मचारियों को खास बोनस दिया। इसमें फस्र्ट क्लास के दो टिकट और ८ लाख रुपए शामिल हैं। सारा ब्लेक्ली और उनकी कंपनी का नाम है स्पैनेक्स, जो अंडरवियर गारमेंट बनाती है। एक वीडियो जारी हुआ, जिसमें वह अपने कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कह रही हैं कि मैं एक ग्लोब घुमा रही हूं, क्योंकि इस पल का जश्न मनाने के लिए मैंने आप सभी को दुनिया में कहीं भी घूमने का फस्र्ट क्लास का दो टिकट देने का पैâसला किया है और इसके साथ ही १०,००० डॉलर (करीब आठ लाख रुपए) भी दिए जाएंगे। सारा ने कहा कि मैं बेहद खुश हूं कि कड़ी मेहनत से हम सब यहां पहुंचे हैं। मैं चाहती हूं आप सभी इस खुशी को अपने-अपने तरीके से मनाएं और इसे यादगार क्षण में तब्दील करें। यह आपके लिए जीवनभर के लिए यादगार बन जाए आप उसे इस तरह से जीएं, तो इस तरह वो बन गई दुनिया की बेस्ट बॉस।

लेखक सम सामयिक विषयों के टिप्पणीकर्ता हैं। ३ दशकों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं व दूरदर्शन धारावाहिक तथा डाक्यूमेंट्री लेखन के साथ इनकी तमाम ऑडियो बुक्स भी रिलीज हो चुकी हैं।

अन्य समाचार