मुख्यपृष्ठनए समाचारभगत सिंह छात्र मोर्चा पर एनआईए की कार्रवाई को लेकर भड़के विद्यार्थी,...

भगत सिंह छात्र मोर्चा पर एनआईए की कार्रवाई को लेकर भड़के विद्यार्थी, बीएचयू सिंह द्वार पर किया विरोध प्रदर्शन

उमेश गुप्ता / वाराणसी

भगत सिंह छात्र मोर्चा पर एनआईए की कार्रवाई से बीएचयू स्टूडेंट, नागरिक समाज, बीएसएम और एपवा के सदस्यों में आक्रोश है। छात्र-छात्राओं ने सिंह द्वार पर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान सरकार पर उत्पीड़न का आरोप लगाया। साथ ही गीत गाकर विरोध जताया। वहीं इंकलाब जिंदाबाद व पुलिस विरोधी नारे लगाए। आधे घंटे के तय समय सीमा के बाद पुलिस ने छात्रों को कैंपस में भेज दिया।
एनआईए की टीम ने मंगलवार को भगत सिंह छात्र मोर्चा के सदस्यों के यहां छापेमारी की थी। छात्राओं के फ्लैट में छापेमारी की। लैपटाप आदि कब्जे में लेकर छानबीन में जुटी रही। कार्रवाई से बीएचयू स्टूडेंट व नागरिक समाज समेत अन्य छात्र संगठनों में आक्रोश है। इसके विरोध में छात्रों ने बुधवार की शाम जुलूस निकाला। इस दौरान सिंह द्वार पर विरोध-प्रदर्शन किया। इस दौरान सुरक्षा के मद्देनजर मौके पर काफी मात्रा में पुलिस फोर्स पहुंच गई। एसीपी भेलूपुर प्रवीण कुमार सिंह ने छात्रों को विरोध-प्रदर्शन के लिए आधे घंटे का समय दिया।
छात्रों का कहना रहा कि जो भी सरकार के खिलाफ आवाज उठा रहा है। उसे जेल भेज दिया जा रहा है। सरकार तानाशाही कर रही है। यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मसाला पेपर और दस्तक पत्रिका को हम लोगों से जोड़कर देखा जा रहा है। हम इसका पूर्ण विरोध करते हैं। पुलिस ने निर्धारित समयावधि के बाद छात्रों को सिंह द्वार से हटाकर कैंपस के अंदर भेज दिया।
बता दें कि काशी हिंदू विश्वविद्यालय की दो छात्राओं से मंगलवार को NIA की टीम ने 8 घंटे पूछताछ की थी। इस पूछताछ के बाद NIA ने उनका लैपटॉप, मोबाइल, सिम और कई पम्फलेट जब्त किए थे। बुधवार को NIA ने अपनी प्रेस रिलीज जारी करते हुए स्टूडेंट आकांक्षा आजाद के कनेक्शन प्रतिबंधित नक्सली संगठन CPI Maoist से होने की जानकारी दी है। NIA के अनुसार, आकांक्षा को वाराणसी में संगठन को मजबूत करने और नए सदस्य बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गयी थी।

अन्य समाचार