मुख्यपृष्ठसमाचारसुभासपा ओमप्रकाश राजभर सपा के साथ मजबूती के साथ जुड़े हैं:अखिलेश यादव

सुभासपा ओमप्रकाश राजभर सपा के साथ मजबूती के साथ जुड़े हैं:अखिलेश यादव

उमेश गुप्ता / वाराणसी। विधानसभा चुनाव का परिणाम ऐतिहासिक रहा है। भाजपा हमें पीछे करना चाहती थी, लेकिन जनता ने हमारा सम्मान बढ़ाया है। हमारी नीतियों को समर्थन दिया है। सरकार भले नहीं बनी, लेकिन हमारी सीट और वोट फीसदी बढ़ी है। ईवीएम पर बहस नहीं, लेकिन कई जगह काउंटिंग रोकी गई और हमारे प्रत्याशी को हराया गया। वाराणसी दक्षिण की सीट पर कुछ ऐसा ही हुआ। २० राउंड तक हम जीत रहे थे, लेकिन २५वें राउंड में १० हजार वोटों से हरा दिया गया। इसका ऑडियो, वीडियो भी जारी हुआ।

यह बातें सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहीं। बगैर किसी पूर्व सूचना के निर्धारित समय से १५ मिनट पहले सदर विधायक दुर्गा प्रसाद यादव के आवास पर पहुंचे अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनी है। हम उम्मीद करते हैं कि अबकी पहले की तरह से झूठ नहीं बोलेगी और अपना वादा पूरा करेगी।

ओमप्रकाश राजभर और अमित शाह की मुलाकात के बारे में कहा कि यह भाजपावालों की न्यूज हो सकती है। ओमप्रकाश आज भी सपा के साथ मजबूती से खड़े हैं।

विधान परिषद चुनाव पर कहा कि चुनाव जीतने के लिए हमें इस बार प्रशासन से भी लड़ना पड़ेगा। भाजपा द्वारा घोषित प्रत्याशी के बारे में कहा कि भाजपा की सूची में जातिवादी सोच दिख रही है। हम जारी करते तो जातिवादी हो जाते।

उन्होंने कहा कि हम चुनाव में हारे नहीं हैं। आगे हमारा वोट व सीट वैâसे बढ़ेगी और भाजपा घटेगी, इसे सपा जानती है। महंगाई, बेरोजगारी हमारा मुद्दा होगा। हमने अपने मेनिफेस्टो में भी इसे शामिल किया था। युवा चाहता भी था कि सपा की सरकार बने और नौकरी मिले। उन्होंने कहा कि बाबासाहब भीमराव आंबेडकर देश में लोकतंत्र चाहते थे और आंबेडकर वादियों को साथ लेकर आगे बढ़ेंगे। उन्होंने बसपा पर सीधे तौर पर तो कोई आरोप नहीं लगाया, लेकिन कहा कि ऐसी चर्चा सुनने में आई थी कि बसपा ने अपना वोट भाजपा को ट्रांसफर कर दिया।

उन्होंने कहा कि चुनाव परिणाम की समीक्षा पर बहस न हो, इसके लिए कश्मीर फाइल रिलीज कर दी गई। इस फिल्म से होनेवाले मुनाफे को कश्मीरी पंडितों को स्थापित करने की जरूरत है। इसके लिए बननेवाली कमेटी में पॉलिटिकल लोगों को शामिल नहीं किया जाना चाहिए। कमेटी में कश्मीरी पंडित हों, ताकि वह अपने स्तर से धन खर्च कर सकें।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि नीति आयोग के आंकड़े पर सरकार को सोचना होगा कि प्रदेश वैâसे आगे बढ़े। साथ ही उन्होंने जोड़ा कि सरकार को समय देना चाहिए। शपथ ग्रहण में शामिल होने के सवाल पर कहा कि मुझे नहीं लगता कि जा सकूंगा, क्योंकि न्योता नहीं मिला है।

अन्य समाचार