मुख्यपृष्ठसमाचारसायबर जालसाजों का समर जाल!.... होटल-रिसोर्ट बुकिंग के नाम पर बना रहे...

सायबर जालसाजों का समर जाल!…. होटल-रिसोर्ट बुकिंग के नाम पर बना रहे शिकार

• डिस्काउंट और ऑफर बना हथियार
• राज्य सायबर सेल ने दी सावधानी बरतने की हिदायत
सामना संवाददाता / मुंबई । गर्मी की छुट्टियों में अगर आप घूमने-फिरने का प्लान बना रहे हैं और ऑनलाइन रिसोर्ट-होटल की बुकिंग कर रहे हैं तो सावधान हो जाएं। समर महीने में सायबर जालसाज एक्टिव हो गए हैं जो होटल, रिसोर्ट्स की बुकिंग करने के नाम पर ठगी की वारदात को अंजाम दे रहे हैं। पेट्रोकेमिकल कंपनी में उच्च पद पर काम करनेवाले मुंबई निवासी एक अधिकारी को रिसोर्ट बुकिंग के नाम पर लाखों रुपए का चूना लगाने की घटना सामने आई है। अधिकारी ने सायबर जालसाजों के खिलाफ बांद्रा पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है। महाराष्ट्र सायबर सेल ने समर महीने में ऑनलाइन बुकिंग करनेवालों को सावधानी बरतने की हिदायत दी है।
पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक शिकायतकर्ता बांद्रा की एक हाइप्रोफाइल सोसायटी में रहता है। पीड़ित एक पेट्रोकेमिकल कंपनी में नेशनल सेल्स हेड के पद पर कार्यरत है। शिकायतकर्ता को कंपनी के कामकाज के सिलसिले में तीन दिन के लिए पुणे जाना था। इसके लिए उन्होंने इंटरनेट पर होटल सर्च किया था। इसके बाद वेबसाइट पर लिखे हुए नंबर पर संपर्क किया। दूसरी तरफ से फोन उठानेवाले व्यक्ति ने अपना परिचय रॉय के रूप में दिया और रिसोर्ट के मैनेजर राज से बात कराई। जालसाजों ने होटल में कमरा सहित अन्य सुविधाओं के नाम पर १.०८ लाख रुपए चूना लगा दिया, जिसकी शिकायत पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई है।
डिस्काउंट के लालच में हो रहे हैं शिकार
महाराष्ट्र के सायबर सेल के पीआरओ संजय शिंत्रे के मुताबिक ऑनलाइन जालसाजों की कई घटनाएं सामने आई हैं। लोग ऑनलाइन बुकिंग के दौरान डिस्काउंट और ऑफर देख रहे होते हैं और इसी चक्कर में जालसाजों के शिकार बन जाते हैं। डिस्काउंट के चक्कर में वे ये देखने की कोशिश भी नहीं करते कि जिस वेबसाइट पर वह बुकिंग कर रहे हैं या सर्च कर रहे हैं, वो असली है या नहीं।
इस तरह करें पहचान
महाराष्ट्र सायबर सेल के मुताबिक जो वेबसाइट https:// से शुरू होती हैं, उनके फ्राॅड होने का खतरा रहता है जबकि असली वेबसाइट में एक अतिरिक्त ‘s’ यानी https:// लगा होता है। यहां इसका मतलब सुरक्षा यानी सेफ्टी से होता है। साइबर विशेषज्ञों का कहना है कि होटल बुकिंग ही नहीं, शराब की दुकान, रेस्टोरेंट, कस्टमर केयर सर्विस जैसी तमाम जगह पर नंबरों में इस तरह की छेड़छाड़ आम बात हो गई है, जिसके जरिए लोगों को ठगा जा रहा है।

अन्य समाचार