मुख्यपृष्ठनए समाचारदाम सुनकर सर्दी में छूट रहा पसीना! ...४०० रुपए तक पहुंचे लहसुन के दाम

दाम सुनकर सर्दी में छूट रहा पसीना! …४०० रुपए तक पहुंचे लहसुन के दाम

 लहसुन-अदरक बिगाड़ रहे खाने का स्वाद
योगेंद्र सिंह ठाकुर / पालघर
प्याज के बाद अब लहसुन और अदरक के दाम बढ़ने लगे हैं। इस वर्ष मई माह में जो लहसुन ६० से ८० रुपए प्रति किलो में बिक रहा था। वर्तमान में ४०० रुपए किलो से भी ज्यादा महंगा हो गया है। थोक बाजार में ही लहसुन १८० से २५० रुपए प्रति किलो बिक रहा है यानी लहसुन की कीमतों में तीन गुना से ज्यादा बढ़ोतरी हो गई है। बढ़ते दामों की वजह से न केवल रसोई का बजट गड़बड़ाने लगा है, बल्कि खाने का जायका भी बदल गया है। बताया जा रहा है कि बाहर से लहसुन की आवक कम है, जिसके चलते लहसुन के दामों में तेजी से उछाल आया है।
खाने का स्वाद बिगड़ा
अचानक सब्जियों के दाम बढ़ने से लोगों के खाने का स्वाद बिगड़ गया है। लहसुन के दाम भी फुटकर दुकानों में ३०० से ४०० रुपए प्रति किलोग्राम हो गए हैं। अदरक भी १६० से २०० रुपए प्रति किलोग्राम तक बिक रहा है। बढ़ती महंगाई बहुत से लोगों ने प्याज, टमाटर, लहसुन और अदरक खरीदना फिलहाल छोड़ सा दिया है।
ठंड में लहसुन की मांग अधिक
लहसुन के फुटकर विक्रेता समर यादव ने बताया कि पिछले साल पैदावार अधिक थी और बाहर से भी खूब लहसुन आ गया था जिसके चलते ५० किलो की कट्टी ५० रुपए में नीलाम हुई थी, जबकि इस साल कम माल होने के कारण अच्छा लहसुन ३०० रुपए से ४०० रुपए प्रति किलो तक में बिक रहा है। उन्होंने बताया कि ठंड में लहसुन की मांग अधिक हो गई है।
जीरा भी ७०० रुपए किलो
सब्जी में तड़के के काम में आने वाला जीरा भी आसमान छू रहा है। जो जीरा पिछले साल २०० से २५० रुपए प्रति किलो तक बिक रहा था, वहीें जीरा अब ७०० रुपए से भी अधिक बिक रहा है।
सलाद में केवल मूली 
लहसुन, अदरक, प्याज और टमाटर महंगा होने से खाने का स्वाद ही बिगड़ गया है। हालात ऐसे हैं कि अब तो दाल में भी लोग तडक़ा नहीं लगा रहे हैं। होटलों में भी सलाद की प्लेट में से प्याज गायब हो गया है और प्याज की कमी मूली पूरी कर रही है।

अन्य समाचार