मुख्यपृष्ठनए समाचारकोरोना पर स्वाइन फ्लू भारी! राज्य में आठ महीनों में मिले २,३३७...

कोरोना पर स्वाइन फ्लू भारी! राज्य में आठ महीनों में मिले २,३३७ मरीज, ९८ की मौत

सामना संवाददाता / मुंबई
महाराष्ट्र समेत पूरे देश में बीते कुछ दिनों से कोरोना का खतरा कम होता दिखाई दे रहा है। हालांकि महाराष्ट्र में स्वाइन फ्लू का दायरा तेजी से बढ़ रहा है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक बीते आठ महीनों में प्रदेश में स्वाइन फ्लू के २,३३७ मरीज मिले हैं, जबकि इलाज के दौरान ९८ मरीजों की मौत हुई है। आंकड़ों के मुताबिक इस महामारी के सबसे अधिक ७७० मरीज पुणे में मिले हैं, जबकि ३३ की मौत भी यहीं हुई है।
महाराष्ट्र में कोरोना के नियंत्रित होने के चलते प्रतिबंध मुक्त त्योहार और उत्सव मनाए जा रहे हैं। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, दही-हंडी के बाद अब आज से गणेशोत्सव की शुरुआत हो गई है। दूसरी तरफ राज्य में बड़ी तादाद में वैक्सीनेशन हुआ है। इसके चलते कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आई है। हालांकि बीते आठ महीनों में स्वाइन फ्लू के मरीजों में वृद्धि हुई है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने सचेत रहने की सलाह दी है। कोरोना का खतरा अभी तक टला नहीं है। इस बीच स्वाइन फ्लू से संक्रमित होनेवाले मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। विभाग ने यह भी आह्वान किया है कि गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोग मास्क का इस्तेमाल करें।
जिलेवार मरीजों के आंकड़े
स्वास्थ्य विभाग की तरफ से दिए गए आंकड़ों के अनुसार मुंबई में ३४८ मरीज मिले हैं, जबकि तीन की मौत हुई है। इसी तरह ठाणे में ४७४ मरीज मिले हैं, जिसमें १४ की मौत हुई है। कोल्हापुर में १५९ मरीज मिले हैं, साथ ही १३ मरीजों की मौत हुई है। एक जनवरी से २८ अगस्त के बीच पुणे में सर्वाधिक ७७० मरीज मिले हैं, जबकि ३३ मरीज मिले हैं।
मौसमी बीमारियों को मनपा दे रही मात
मुंबई में बढ़ती मौसमी बीमारियां जहां टेंशन खड़ा कर रही हैं, वहीं इन्हें मात देने के लिए मनपा पूरी तरह से मुस्तैद है। सप्ताह भर में डेंगू के ४२, मलेरिया के २२७ और स्वाइन फ्लू के ७८ नए मरीज मिल मिले हैं। एक से आखिरी अगस्त तक डेंगू के १४७, मलेरिया के ७३६ और स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या १८३ पर पहुंच गई है। इसी तरह लेप्टो के ६१, गैस्ट्रो के ४४४, पीलिया के ५१ और चिकनगुनिया के तीन मरीज मिले हैं।

 

अन्य समाचार