मुख्यपृष्ठस्तंभझांकी: राम नाम पर लूट, शर्मिला पर निगाहें, 'मैं भी केजरीवाल' की...

झांकी: राम नाम पर लूट, शर्मिला पर निगाहें, ‘मैं भी केजरीवाल’ की दूसरी मुहिम

अजय भट्टाचार्य

राम नाम पर लूट

वीएचपी के अयोध्या के एक सदस्य ने ठगी करने वाले से फोन पर बात की, राम मंदिर के नाम पर चंदा मांगने वाले ने बताया, ‘ज्यादा से ज्यादा चंदा दें, नाम नंबर डायरी में नोट किया जाएगा।। जब मंदिर कंपलीट हो जाएगा तो आप सबको अयोध्या बुलाया जाएगा। मैं अयोध्या से बोल रहा हूं… ।’ यह उस वार्तालाप का एक अंश है, जिसमें विश्व हिंदू परिषद के एक कार्यकर्ता ने एक वेब पेज पर दिए गए संपर्क नंबर से बात की। हुआ दरअसल यह कि अब तक राम जन्मभूमि मंदिर के नाम पर चंदा मांगने का कथित एकाधिकार विहिप ने अपने पास ही रखा हुआ है। राम नाम की लूट में राजनीतिक लुटेरों से लेकर फर्जी धंधेबाज भी जुटे हुए हैं। सोशल मीडिया पर फर्जी आईडी `श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र अयोध्या, उत्तर प्रदेश’ नाम का पेज बनाया गया है। पेज पर क्यूआर कोड भी डाला गया है। यहां अपील की जा रही है कि राम मंदिर के नाम पर चंदा दें। अब विहिप ने गृह मंत्रालय, डीजीपी उत्तर प्रदेश और दिल्ली पुलिस कमिश्नर को पत्र लिखा है। वीएचपी ने इस पत्र में राम मंदिर के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। विश्‍व हिंदू परिषद के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता विनोद बंसल के मुताबिक उन्होंने गृह मंत्रालय, डीजीपी उत्तर प्रदेश और दिल्ली पुलिस कमिश्नर को लिखा है कि ऐसे लोगों पर एक्शन लें।

शर्मिला पर निगाहें

आंध्र प्रदेश में सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस में भीतर ही भीतर बहुत कुछ खदक रहा है। वाईएसआरसी के मुखिया जगन मोहन रेड्डी की बहन वाईएस शर्मिला कभी भी कांग्रेस में शामिल हो सकती हैं। हाल ही में पार्टी और विधायकी से इस्तीफा दे चुके मंगलगिरी के विधायक अल्ला रामकृष्ण रेड्डी ने घोषणा की है कि वे वाईएस शर्मिला की टीम में शामिल होंगे, जिन्हें आंध्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त किए जाने की उम्मीद है। आरके के नाम से मशहूर रेड्डी पूर्व मुख्यमंत्री वाईएस राजशेखर रेड्डी के वफादार के रूप में जाने जाते हैं। उन्होंने अभी तक आधिकारिक तौर पर कांग्रेस में शामिल होने का फैसला नहीं किया है। किसी अन्य राजनीतिक दल में शामिल होने या न होने का उनका फैसला शर्मिला के फैसले पर निर्भर करेगा। वैसे भी वाईएसआरसी से इस्तीफा देने के बाद आरके ने शर्मिला से मुलाकात की और राज्य में हालिया राजनीतिक घटनाक्रम पर चर्चा की। उनका यह बयान इन अटकलों के बीच आया है कि शर्मिला अपनी वाईएसआर तेलंगाना पार्टी का कांग्रेस में विलय कर सकती हैं और आंध्र प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार कर सकती हैं। आरके के इस्तीफे ने वाईएसआरसी और आंध्र प्रदेश दोनों की राजनीति में राजनीतिक बदलाव की एक शृंखला शुरू कर दी है, क्योंकि सत्तारूढ़ दल ने पूर्ववर्ती गुंटूर और प्रकाशम जिलों में ११ विधानसभा क्षेत्रों के लिए नए प्रभारी नियुक्त किए हैं। शर्मिला के अगले कदम पर सभी की निगाहें टिकी हैं।

‘मैं भी केजरीवाल’ की दूसरी मुहिम

हस्ताक्षर अभियान ‘मैं भी केजरीवाल’ की सफलता से उत्साहित आम आदमी पार्टी आगामी ४ जनवरी से ‘मैं भी केजरीवाल’ सार्वजनिक संवाद मुहिम शुरू करेगी। गिरफ्तार होने पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इस्तीफा देना चाहिए या पद पर बने रहना चाहिए, इस पर जनता की प्रतिक्रिया लेने के लिए ‘मैं भी केजरीवाल’ हस्ताक्षर अभियान १ दिसंबर से ३० दिसंबर तक चलाया गया था। आगामी ‘मैं भी केजरीवाल जनसंवाद अभियान’ के लिए घर-घर अभियान की सफलता और पार्टी वैâडर के प्रशिक्षण के संबंध में पार्टी मुख्यालय में एक बैठक बुलाई गई। बैठक में दिल्ली के मंत्री इमरान हुसैन और पार्टी नेता दिलीप पांडे, जरनैल सिंह, कुलदीप कुमार, ऋतुराज झा, राजेश गुप्ता, गुलाब सिंह और जितेंद्र सिंह तोमर शामिल हुए। `आप’ के सभी विधायक, पार्षद, जिला अध्यक्ष और जिला सचिव भी मौजूद रहे। `आप’ के राज्यसभा सांसद संदीप पाठक के अनुसार अभियान ने अनुमान से कहीं अधिक सफलता हासिल की। इस सफलता को आगे बढ़ाने के लिए पार्टी अब दिल्ली में `मैं भी केजरीवाल जन संवाद’ अभियान शुरू कर रही है, जो ४ जनवरी, २०२४ से शुरू हो रहा है, जिसमें पार्टी के सभी मंत्रियों, विधायकों और पार्षदों की भागीदारी होगी। हस्ताक्षर अभियान की तरह, हमें `मैं भी केजरीवाल जन संवाद’ को भी बड़ी सफलता बनाना है। हमें जन संवाद अभियान के दौरान पूरी दिल्ली से अधिक से अधिक लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करनी है।

अन्य समाचार