मुख्यपृष्ठस्तंभझांकी : ठगों का अमृतकाल

झांकी : ठगों का अमृतकाल

अजय भट्टाचार्य

अमृतकाल में गुजरात मॉडल के ठगों की चांदी है। फर्जी पीएमओ अफसर किरण पटेल को जमानत मिल चुकी है। खास बात यह है कि उसे जमानत देते हुए श्रीनगर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत ने कहा है कि चार्जशीट देखने से यह साफ है कि जांच एजेंसी ने आरोपी के खिलाफ आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान वाली आईपीसी की धारा ४६७ के तहत अपराध को हटा दिया है, जिसके बाद आरोपी व्यक्ति द्वारा किए गए शेष अपराध के लिए केवल ७ साल तक की सजा का प्रावधान है, जबकि ‘मूल्यवान सुरक्षा, वसीयत आदि की जालसाजी’ से संबंधित धारा ४६७ में आजीवन कारावास या १० साल और जुर्माने की सजा का प्रावधान है। अदालत ने कहा, ‘यह धारा, जो अदालत द्वारा मार्च में पटेल की पहली जमानत अर्जी खारिज करने के मुख्य आधारों में से एक थी, को जांच अधिकारी ने ‘गैर-मौजूदा सामग्री के आधार पर’ हटा दिया है। प्रधानमंत्री कार्यालय के एक अधिकारी की नकल करने के आरोप में पटेल को ३ मार्च को श्रीनगर के ललित होटल से गिरफ्तार किया गया था। उसे जम्मू-कश्मीर प्रशासन के अधिकारियों द्वारा सुरक्षा कवर के साथ-साथ ‘अत्यधिक संवेदनशील स्थानों’ तक पहुंच प्रदान की गई थी, जबकि बकौल पुलिस सामान्य तौर पर ‘कोई भी आम व्यक्ति या पर्यटक वहां पहुंचने के लिए अधिकृत नहीं है।’

राजा की साली से तकरार हो गई
रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया की साली साध्वी सिंह ने हजरतगंज कोतवाली में एक खबरिया चैनल के संवाददाता, संपादक और राजा भैया की पत्नी के खिलाफ मानहानि की शिकायत दर्ज कराई है। मामला राजा भैया और उनकी पत्नी भानवी के तलाक संबंधी खबर से जुड़ा है। साध्वी ने लिखा है कि सोमवार की शाम चैनल ने राजा भैया तलाक कांड पर विशेष खोजी खबर दिखाई जिस पर संवाददाता ने कहा कि मेरे अपने जीजा से अनैतिक संबंध हैं, जिससे मैं गर्भवती भी हो गई थी और उन्होंने मेरा गर्भपात भी कराया। जिसको देख एवं सुनकर मैं हतप्रभ रह गई। इससे मेरे पारिवारिक एवं समाजिक जीवन में भूचाल आ गया। मेरी दो पुत्रियां हैं। मेरी पैतृक संपत्ति का विवाद अपनी बड़ी बहन भानवी कुमारी से चल रहा है, जिसके कारण भानवी कुमारी द्वारा जान-बूझकर झूठा एवं मनगढंत आरोप लगाया गया। उक्त टी.वी. चैनल के किसी भी पत्रकार द्वारा समाचार चलाने के पहले आरोप के संबंध में न कोई बात की न मेरा वक्तव्य लिया, जिसके कारण प्रार्थिनी के चरित्र का हनन किया गया। किसी भी न्यूज चैनल या पत्रकार को यह अधिकार नहीं है कि किसी महिला का इस प्रकार से चरित्र हनन करे एवं न्यूज चैनल पर प्रसारित करे। उपरोक्त घटना की साजिश में मेरी बहन श्रीमती भानवी कुमारी, चैनल के वाइस चेयरमैन, संवाददाता व एंकर सम्मिलित हैं। इनके विरुद्ध संगत धाराओं में प्राथमिकी दर्ज कर प्रभावी कार्यवाही करने का कष्ट करें, अन्यथा की स्थिति में प्रार्थिनी अपनी मर्यादा बचाने के लिए आत्महत्या करने के लिए विवश होगी।

पीके नई पार्टी बनाएंगे
पिछले ११ महीने से बिहार के गांव-गलियों की खाक छान रहे चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर महात्मा गांधी के जन्मदिन २ अक्टूबर को सीतामढ़ी में अपनी नई पार्टी का एलान कर सकते हैं। इस दिन उनकी पदयात्रा का पहला चरण सीतामढ़ी में खत्म हो जाएगा। पार्टी के नाम और निशान पर चर्चा अंतिम पड़ाव पर है। पीके कोर टीम के अधिकांश सदस्य जन सुराज नाम पर ही सहमत हैं। पीके की नजर उत्तर बिहार की २० लोकसभा सीटों पर है, जिसमें मोतिहारी, बेतिया, गोपालगंज, वाल्मिकीनगर, सीवान, सारण, महाराजगंज, शिवहर, वैशाली, दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, समस्तीपुर, उजियारपुर और मुजफ्फरपुर शामिल हैं। पिछले साल गांधी जयंती के दिन प्रशांत किशोर ने चंपारण से पदयात्रा शुरू की थी। अब तक चंपारण (पूर्वी और पश्चिमी), गोपालगंज, सीवान, सारण, वैशाली और समस्तीपुर की यात्रा कर चुके पीके की पदयात्रा इन दिनों मुजफ्फरपुर में है, जो दरभंगा और मधुबनी होते हुए सीतामढ़ी तक जाएगी। नई पार्टी में सलाहकार की भूमिका अपनाकर प्रशांत किशोर द्वारा किसी दलित या मुस्लिम को पार्टी अध्यक्ष बनाने की चर्चा है। पार्टी का सांगठनिक ढांचा तृणमूल कांग्रेस की तरह प्रखंड और जिला स्तर पर संगठन बनाने की कवायद शुरू भी हो गई है। अब तक पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, सीवान, सारण और गोपालगंज जिलों के हर प्रखंड में एक सभापति, एक अध्यक्ष और १० सदस्यों की जिला स्तर पर कार्यकारिणी समितियां बनाई गई हैं। पार्टी की घोषणा के बाद यहां पदाधिकारी बनाए जाएंगे।

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं तथा व्यंग्यात्मक लेखन में महारत रखते हैं।)

अन्य समाचार

लालमलाल!