मुख्यपृष्ठस्तंभतड़का: खेल से झूमा सूबा, पर गिफ्ट ले डूबा!

तड़का: खेल से झूमा सूबा, पर गिफ्ट ले डूबा!

कविता श्रीवास्तव
इमरान खान अपने दौर के अव्वल तेज गेंदबाज रहे हैं। वे वह अद्भुत शख्सियत हैं, जिसने क्रिकेट के मैदान में भी अपने देश की कप्तानी संभाली और राजनीति के मैदान में भी देश का नेतृत्व किया। वे बने तो पाकिस्तान के २२वें प्रधानमंत्री थे, लेकिन वे पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्हें अविश्वास प्रस्ताव के जरिए सत्ता से बेदखल किया गया। अब वे गिरफ्तार हुए हैं। आरोप भ्रष्टाचार का है। वह भी ऐसा कि सुन कर ही ताज्जुब होता है। उन पर आरोप है कि उन्होंने पाकिस्तानी राष्ट्रप्रमुखों को मिले गिफ्ट में भ्रष्टाचार किया। उन्होंने वे गिफ्ट्स खरीद लिए। फिर लाभ के दाम पर बेच दिया। बस यही आरोप है उन पर। उन्हें दो साल वैâद की सजा मिली है। इसलिए वे अगला चुनाव भी नहीं लड़ पाएंगे। हम जानते हैं कि अपने युवा दौर में इमरान ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पाकिस्तान को कई बार विजय दिलाई है। वे आला दर्जे के लड़ाकू खिलाड़ी रहे हैं। लेकिन ७१ वर्ष की आयु में इमरान खान अपने देश में अब कानूनी जंग लड़ेंगे। वे अकेले नहीं हैं। उनके पीछे उनका राजनीतिक दल और समर्थकों की बड़ी फौज है। कुछ अर्सा पहले ही अपने देश के सर्वेसर्वा थे। लेकिन तख्ता पलट हुआ और वे जेल पहुंच गए। वैसे यह तो पाकिस्तानी राजनीति का अपना स्वभाव है। वहां सत्ता जाते ही बीते करतूतों की परतें खुरेद कर सत्ता से बेदखल किए गए नेता को जेल भेजने का इतिहास है।
क्रिकेट के मैदान पर इमरान की तूफानी गेंदबाजी खूब प्रभावित और रोमांचित करती रही है। उनका खेल पाकिस्तानी ही नहीं हर खेलप्रेमी पसंद करते रहे हैं। लेकिन खेल से रुखसत होने के बाद राजनीति के खेल में वे कई वर्षों से हार-जीत के दौर से गुजर रहे हैं। उन्होंने कई मैचों में अपनी सधी हुई घातक गेंदबाजी से पाकिस्तान को संकट से उबारा और पाकिस्तान का पूरा सूबा उनकी कामयाबियों पर गर्व करता रहा है। उन्होंने कई मौके पर बैटिंग से दनादन रन भी बटोरे। ऑलराउंडर इमरान ने क्रिकेट की लोकप्रियता के स्वर्णिम दौर में पाकिस्तान के लिए अनेक कामयाबी फतह कीं। फिर राजनीति में भी वे कामयाब हुए। पर राजनीति का खेल क्रिकेट नहीं है। वहां सफलता पर पीठ थपथपाने वाले भी हैं और टांग खींचने वाले भी। इसीलिए क्रिकेट में अनेक शील्ड और कप जीतने वाले इमरान को राजनीति में फिलहाल गिफ्ट का खेल ले डूबा है।

अन्य समाचार