मुख्यपृष्ठविश्वछात्रों के कैसे पूरे होंगे अरमान, स्कूल बंद कराया तालिबान!

छात्रों के कैसे पूरे होंगे अरमान, स्कूल बंद कराया तालिबान!

• आदेश के २४ घंटे के पहले ही बंद कर दिए सभी स्कूल
एजेंसी / काबुल । पिछले साल अगस्त में अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद तालिबान ने दुनिया से महिला शिक्षा समेत कई वादे किए थे। ८ महीने बाद भी तालिबान हुकूमत इन्हें पूरा करने में नाकाम रहा। बुधवार को यहां पहली बार लड़कियों के स्कूल खोले गए लेकिन चंद घंटे बाद ही इन्हें बंद कर दिया गया। अब सवाल उठ रहा है कि क्या ये लड़कियां फिर स्कूल जा भी पाएंगी या नहीं। बता दें कि अगस्त में तालिबान ने सत्ता में आने के बाद लड़कियों की पढ़ाई बंद करवा दी थी। इस साल लड़कियों के स्कूलों को दोबारा खोलने की घोषणा की थी। कल स्कूल खोला भी गया, लेकिन कुछ देर बाद स्कूलों को फिर से बंद कर दिया गया।
तालिबान की वादाखिलाफी
देश में सत्ता पर कब्जा करने के बाद तालिबान ने महिला शिक्षा समेत कई वादे किए थे। सितंबर २०२१ में कक्षा ६ तक की लड़कियों के लिए स्कूल खोले थे। कक्षा ७ से १२ तक की लड़कियों के लिए जल्द से जल्द स्कूल खोलने की बात कही थी। लेकिन तानाशाही के चलते फिर ८ माह के बाद छात्रों के चेहरे पर आई मुस्कान गायब हो गई।
तालिबान हुकूमत ने महिलाओं पर लगाई पाबंदियां
तालिबान ने अफगानिस्तान में कब्जा करने के साथ ही इस्लामी शरिया कानून लागू कर दिया था। इसके मुताबिक कोई भी महिला बिना बुर्का पहने बाहर नहीं निकल सकती। साथ ही किसी भी महिला का अकेले अपने घर से बाहर निकलना मना है, अगर किसी महिला को बाहर निकलने की जरूरत भी पड़े तो उसे अपने साथ किसी पुरुष को ले जाना जरूरी है। यह कोई करीबी रिश्तेदार या परिवार का सदस्य होना चाहिए।

अन्य समाचार