" /> वैद्यजी बताइए……फैटी लीवर की समस्या सताए!

वैद्यजी बताइए……फैटी लीवर की समस्या सताए!

चित्रकादि वटी सुबह-शाम खाएं

सितंबर, २०२० में मुझे कोरोना संक्रमण हुआ था। अब मैं बिल्कुल ठीक हूं लेकिन सीढ़ी चढ़ते समय हल्की सांस फूलने लगती है। क्या मुझे कोई टेस्ट कराने की जरूरत है? आयुर्वेदिक दवा बताएं?
– गोविंद देव, मीरा रोड
कोरोना संक्रमण के कारण फेफड़ों में तकलीफ हो जाती है और लंग्स फाइब्रोसिस होने की प्रबल संभावना रहती है। काम करते समय या ब्रिज चढ़ते समय हल्का-सा दम लगना कोई बड़ी बात नहीं है, परंतु शरीर में उत्पन्न हुए लक्षणों को अनदेखा नहीं किया जा सकता। अत: आप चेस्ट एचआरसीटी करवा लें तो बेहतर होगा। अनुलोम-विलोम, भ्रामरी, प्राणायाम नियमित करें। रोज ४ से ५ किलोमीटर पैदल चलें। चौसठी प्रहर पीपली की एक गोली सुबह खाली पेट गर्म पानी के साथ ले। यष्टिमधु घनवटी की एक-एक गोली-सुबह शाम गर्म पानी के साथ लें। चित्रक हरीतकी अवलेह दो चम्मच सुबह नाश्ते के पूर्व दूध या पानी के साथ लें। इन सभी से आपके फेफड़ों के कार्य क्षमता में सुधार होगा व उनमें मजबूती आएगी।
जून, २०१८ में मेरे ५६ वर्षीय चाचाजी को लकवा हो गया था। बार्इं तरफ का हिस्सा काम नहीं कर रहा है। ३ सालों से उनका उपचार चल रहा है, परंतु हाथ-पैर में ताकत नहीं आई है। मालिश से भी विशेष फर्वâ नहीं पड़ा। उनकी ब्लड प्रेशर की दवा चालू है। आयुर्वेदिक उपचार बताएं?
– एच.आर. सोनी, कुर्ला
लकवा रोग पूरी तरह से साध्य नहीं है और लकवा होने के कई कारण होते हैं। अत: रोगी का इतिहास जानना आवश्यक है और उसी के मुताबिक चिकित्सा की जा सकेगी। औषधि उपचार एवं आयुर्वेद पंचकर्म चिकित्सा से ५० से ६० प्रतिशत तक सफलता मिलती है, परंतु रोगी पहले की तरह पूर्ण सामान्य नहीं हो पाता। ब्लड प्रेशर की दवा देने के साथ ही नियमित जांच करते रहें। ज्यादातर लोग ब्लड प्रेशर नॉर्मल होने के बाद दवाइयां बंद कर देते हैं। अनियंत्रित ब्लड प्रेशर के कारण ही लकवे की संभावना बढ़ जाती है। योगराज गुग्गुल और एकांगवीर रस की दो-दो गोलियां दिन में तीन बार गर्म पानी के साथ दें। महारास्नादि क्वॉथ ६-६ चम्मच दो बार भोजन के बाद समप्रमाण पानी मिलाकर दें। पंचकर्म चिकित्सा के अंतर्गत बस्ती चिकित्सा नास्य चिकित्सा एवं स्नेहन, स्वेदन करवाएं।
मैं ३९ वर्ष का हूं और कोई व्यसन नहीं करता। ५ साल पहले सप्ताह में एक-दो बार अल्कोहल का सेवन करता था। मुझे फैटी लीवर की शिकायत है। मेरा पाचन भी ठीक नहीं है और भूख भी नहीं लगती। मुझे आयुर्वेदिक दवा बताएं?
– पी.पी. गुप्ता, उल्हासनगर
आयुर्वेद में बहुत सारी दवाएं लीवर तथा पाचन तंत्र को मजबूत व ठीक करने में उपयोगी हैं, परंतु लीवर की रामबाण दवा है आरोग्यवर्धिनी, जोकि बहुउपयोगी दवा है। भोजन के पूर्व आप चित्रकादि वटी एक एक-एक गोली सुबह-शाम चूसकर खाएं। इससे पाचन ठीक होता है व भूख बढ़ती है। आप आरोग्यवर्धिनी दो-दो गोली दिन में पानी के साथ लें। साथ ही साथ पुनर्नवा क्वाथ ६-६-चम्मच दो बार लें। आप डीप प्रâाइड फूड, चर्बी युक्त खाद्य पदार्थ, जंक फूड, फास्ट फूड, कोल्ड ड्रिंक, शराब, पेन किलर मेडिसिन आदि का सेवन कम करें या बंद कर दें।
एम.डी., पीएच.डी. (आयुर्वेद) प्राध्यापक व वरिष्ठ चिकित्सक, केजी मित्तल पुर्नवसु आयुर्वेद महाविद्यालय व अस्पताल, चर्नी रोड, मुंबई-०२