मुख्यपृष्ठस्तंभसेहत का तड़का :फिटनेस टिकाए रखना जरूरी; जिम, डाइट और आराम मोहित...

सेहत का तड़का :फिटनेस टिकाए रखना जरूरी; जिम, डाइट और आराम मोहित रैना की फिटनेस का मूल-मंत्र

  • एस.पी.यादव

‘देवों के देव महादेव’ फेम मोहित रैना का जन्म १४ अगस्त १९८२ को जम्मू में एक कश्मीरी ब्राह्मण परिवार में हुआ। टीवी, वेब सीरीज और बॉलीवुड में अपना एक खास मुकाम बना चुके मोहित रैना अपनी फिटनेस को लेकर भी बेहद लोकप्रिय हैं। नियमित व्यायाम और योग करनेवाले मोहित रैना ‘सही मात्रा में भोजन, सही कसरत और सही मात्रा में नींद’ को अपनी फिटनेस का मूल-मंत्र मानते हैं।
जम्मू के केंद्रीय विद्यालय से पढ़ाई करने के बाद मोहित रैना ने जम्मू यूनिवर्सिटी से बी.कॉम की डिग्री ली और फिर मॉडलिंग करने के लिए मुंबई चले आए। मॉडलिंग के दौरान २००४ में उन्होंने साइंस फिक्शन शो ‘अंतरिक्ष’ से अपना एक्टिंग करियर शुरू किया। २००५ में ग्रासिम मिस्टर इंडिया प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए तब १०७ किलो के मोहित ने अपना २९ किलो वजन घटा कर सबको चौंका दिया और प्रतियोगिता में टॉप फाइव में अपना स्थान पक्का किया। मोहित ने २००८ में कॉमेडी फिल्म ‘डॉन मुथू स्वामी’ से बॉलीवुड में पारी शुरू की लेकिन २०११ में ‘देवों के देव महादेव’ में भगवान शिव के किरदार ने उन्हें बेहद लोकप्रिय बना दिया। २०२० में वेब सीरीज ‘भौकाल’ से उन्होंने ओटीटी क्षेत्र में भी अपना दबदबा कायम किया।
गुड मॉर्निंग मैन
मोहित रैना कहते हैं कि फिट होना आसान है लेकिन फिटनेस को टिकाए रखना बेहद मुश्किल है इसलिए वे रोज सुबह पांच बजे उठ जाते हैं और सबसे पहले तीन-चार गिलास गर्म पानी पीते हैं। वर्कआउट करने से पहले वे शकरकंद खाते हैं और वर्कआउट करने के बाद प्रोटीन शेक पीते हैं। वे सप्ताह में पांच दिन लगभग एक घंटे कसरत करते हैं। जिम में वे पुलअप्स, कार्डियो, विशेषकर ट्रेडमिल स्प्रिंट्स, कोर चेस्ट, बाइसेप्स और लेग एक्सरसाइज करते हैं।
मौसम के अनुसार व्यायाम में बदलाव
मोहित मौसम के अनुसार अपनी एक्सरसाइज में बदलाव लाते हैं। बरसात के दिनों में इनडोर व्यायाम को तवज्जो देते हैं लेकिन बरसात न होने पर स्विमिंग, रनिंग और खेल गतिविधियों में व्यस्त हो जाते हैं। खेलकूद से वे तरोताजा महसूस करते हैं। वीकेंड पर वे ध्यान, योग-अभ्यास, खेलकूद और अच्छी किताबें पढ़ने में समय व्यतीत करते हैं। मोहित का कहना है कि स्वस्थ व फिट रहने के लिए किसी व्यक्ति को कम से कम छह घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए। यदि दिन में २०-२५ मिनट की झपकी लें, तो स्वास्थ्य के लिए और बेहतर होता है।
डाइट का विशेष ख्याल
मोहित रैना अपनी डाइट का विशेष ख्याल रखते हैं। वे अपने शरीर के वजन के हिसाब से प्रति किलो तीन ग्राम प्रोटीन का सेवन करते हैं। प्रोटीन और कार्बाेहाइड्रेट्स का सेवन करते समय ६०:४० का औसत बनाए रखते हैं। वे नाश्ते में ओटमिल और ताजे फल लेते हैं। लंच में चिकन, दाल-रोटी और पर्याप्त सब्जियां खाते हैं। शाम को अंडे का सैंडविच खाते हैं। डिनर में अक्सर सलाद और सूप लेते हैं। मोहित रैना को आलू की सब्जी, राजमा-चावल, कश्मीरी पुलाव, गाजर का हलवा, समोसा बहुत पसंद है। कभी-कभी केएफसी का बर्गर खाना पसंद करते हैं।
कश्मीरी पुलाव की रेसिपी
सामग्री: एक कप बासमती चावल, आठ-दस काजू, आठ-दस बादाम, चार-पांच चम्मच अनार के दाने, बारीक कटा आधा सेब, आधा चम्मच इलायची पाउडर, दो बड़ी इलायची, दालचीनी का एक छोटा टुकड़ा, तीन लौंग, आधा चम्मच कश्मीरी लाल मिर्च,एक तेजपत्ता, एक चम्मच शक्कर, दो चुटकी केसर, दो चम्मच बारीक कटा हरा धनिया, दो-तीन चम्मच घी और स्वादानुसार नमक।
विधि: आधा घंटा पानी में भिगोने के बाद बासमती चावल को अलग निकालकर रख दें। कड़ाही में घी गर्म करें और कुछ देर बाद उसमें लौंग, दालचीनी, तेजपत्ता और बड़ी इलायची डालकर भूनें। अब इन खड़े मसालों में लाल मिर्च पाउडर, चीनी, केसर और स्वादानुसार नमक मिला दें और चलाते हुए एक मिनट तक भून लें। अब इसमें बासमती चावल डाल दें। इसे दो मिनट तक फ्राई करने के बाद चावल में दो कप पानी डालकर लगभग १० मिनट तक पकाएं। अच्छी तरह पक जाने के बाद चावल को एक बर्तन में निकाल लें। इसमें बारीक कटा काजू-बादाम डाल दें। अब इसमें अनार दाना और सेब के टुकड़े डाल दें। बाद में हरी धनिया से गार्निश कर परोसें।
फायदे: यह एक संतुलित आहार है। इसमें प्रोटीन और कार्बाेहाइड्रेट्स की संतुलित मात्रा होती है। यह वैंâसर से लड़ने में कारगर है। पर्याप्त फाइबर होने के कारण यह पाचनतंत्र को बेहतर बनाता है।

(लेखक स्वास्थ्य विषयों के जानकार, वरिष्ठ पत्रकार व अनुवादक हैं। ‘स्वास्थ्य सुख’ मासिक के संपादक रह चुके हैं।)

अन्य समाचार