मुख्यपृष्ठनए समाचारतेरा तुझको अर्पण.... सागर का रिटर्न गिफ्ट! समुद्र ने लौटाया कचरे का...

तेरा तुझको अर्पण…. सागर का रिटर्न गिफ्ट! समुद्र ने लौटाया कचरे का अंबार

  •  उत्तन किनारे जमा कचरे से मछुआरे परेशान
  • नगरसेविका ने प्रशासन से की मदद की मांग

विनोद मिश्र / भायंदर
तेरा तुझको अर्पण.. की तर्ज पर भायंदर-पश्चिम में अरब सागर ने उत्तन के समुद्री तट के किनारे हजारों टन कचरे का अंबार लौटाया है। लोग प्लास्टिक का व्यापक रूप से उपयोग कर पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहे हैं। प्रतिबंधित प्लास्टिक के उपयोग पर रोक के बावजूद हो रहे प्लास्टिक के अत्यधिक उपयोग का यह परिणाम है। बहुत से लोगों का मानना है कि समुद्र में बहुत कुछ समाहित करने की क्षमता है। अगर हम कूड़ा -करकट फेंकते  हैं तो समुद्र समाहित कर लेगा लेकिन उनकी सोच को समय-समय पर समुद्र ने झुठलाते हुए मनुष्यों द्वारा समुद्र में फेंके गए कचरे को समुद्र ने वापस लौटा दिया है।
मछुआरों को हो रही भारी परेशानी
शुक्रवार की सुबह उत्तन समुद्र किनारे के ब्रेक वाटर जेट्टी से पाली गांव जेट्टी तक पहली बार सैकड़ों टन कचरे का अंबार देखा गया। इससे पहले सिर्फ मोठागांव समुद्र के किनारे पर ही कचरा बहकर जमा होता था, जिससे मछुआरों को मछली पकड़ने के लिए समुद्र में जाने में परेशानी नहीं होती थी, लेकिन इस बार जहां से मछुआरे अपनी जाल, डीजल, बर्फ , पानी आदि अन्य सामग्री बोट में ले जाते थे। वहीं पर कचरे का अंबार लग गया है, जिससे मछुआरों के सामने परेशानी सामने आ गई है। ऐसी जानकारी शिवसेना नगरसेविका शर्मिला बगाजी ने मीरा भायंदर मनपा प्रशासन को दी है।
मनपा प्रशासन नहीं कर रहा है हस्तक्षेप
१ अगस्त से मछुआरों को समुद्र में मछली पकड़ने जाने की अनुमति दी गई है। मछली पकड़नेवाली बोट (जहाज) किनारे से कुछ अंदर समुद्र में लंगर डालकर खड़ी हैं। १ अगस्त से पूर्व समुद्र किनारे से इन कचरों को नहीं हटाया गया तो मछुआरों को बहुत क्षति पहुंचेगी। क्योंकि मानसून के थमते ही पहले जो मछली पकड़ते हैं, उस मछली को बाजार में अच्छा दाम मिलता है। वहीं स्थानीय मछुआरों का आरोप है कि समुद्र किनारे जमा हुए कचरे को साफ करने की दखल एमबीएमसी प्रशासन नहीं ले रही है।

 

अन्य समाचार