मुख्यपृष्ठनए समाचारठाणेकरों को पानी का टेंशन!

ठाणेकरों को पानी का टेंशन!

सामना संवाददाता / ठाणे

डेढ़ वर्ष बाद बढ़ेगा अतिरिक्त पानी, एमआईडीसी ने जिले की महानगरपालिकाओं को किया सूचित

ठाणे और पालघर के प्रमुख शहरों के लिए पानी का मुख्य स्रोत बारवी बांध से मिलनेवाले अतिरिक्त पानी के लिए अभी डेढ़ साल और इतंजार करना होगा। इस संदर्भ में महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम (एमआईडीसी) ने दोनों जिलों के स्थानीय स्व-सरकारी निकायों को सूचित किया है। बारवी जलापूर्ति विस्तार योजना के तहत कई कार्य अभी चल रहे हैं। इसलिए जब तक ये कार्य पूरे नहीं हो जाते, तब तक अतिरिक्त पानी नहीं दिया जा सकता।
चार साल पहले जिले में महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम के बारवी बांध के विस्तार का तीसरा चरण पूरा हुआ था। इससे बांध की क्षमता बढ़कर ३४० मिलियन क्यूबिक मीटर हो गई। बांध की ऊंचाई बढ़ने के कारण ठाणे जिले की सभी महानगरपालिकाओं ने इस बात पर जोर दिया है कि बारवी बांध से बढ़े हुए जल भंडारण को मंजूरी दी जाए। हालांकि, ऊंचाई बढ़ने के कारण बांध से अतिरिक्त जल भंडारण तो उपलब्ध हो गया है, लेकिन अब यह बात सामने आ रही है कि यह पानी अगले डेढ़ साल यानी मई २०२५ तक उपयोग के लायक नहीं रहेगा।

नये साल के शुरुआत में होगी पानी की किल्लत

इस साल बारिश जल्दी शुरू होने के कारण बारवी डैम के पानी पर निर्भर रहनेवाले शहरों को नये साल की शुरुआत में पानी की कमी का सामना करना पड़ सकता है। इस पृष्ठभूमि में एमआईडीसी के निदेशक मंडल की बैठक में सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पर सहमति व्यक्त की गई है कि सभी स्थानीय निकायों को सूचित किया जाना चाहिए कि कोई अतिरिक्त पानी उपलब्ध नहीं होगा। बारवी जल शुद्धिकरण वेंâद्र, बारवी जल आपूर्ति योजना के तहत प्रस्तावित कार्य और जल आपूर्ति समस्याओं को हल करने के लिए सहायक कार्य शुरू किए गए हैं। इसमें ७५१ करोड़ ११ लाख रुपए जल शुद्धिकरण और ८६३ करोड़ ७८ लाख रुपए के पाइपलाइन विस्तारीकरण व जल शोधन संयंत्र की क्षमता बढ़ाने के लिए काम चल रहा है।

अन्य समाचार