मुख्यपृष्ठनए समाचारवो `मौत' की पार्टी थी!... चारों ओर गोलियां चल रही थीं, लोग...

वो `मौत’ की पार्टी थी!… चारों ओर गोलियां चल रही थीं, लोग कटे पेड़ों की तरह गिर रहे थे…

मनमोहन सिंह

पैराशूट और गाड़ियों से उतरे हथियारों से लैस लोगों ने उन नौजवानों पर अंधाधुंध गोलियों की बौछार शुरू कर दी। एकाएक हुए हमले से वहां भगदड़ मच गई। कुछ लोग कार से भाग निकलने की कोशिश में थे। जब गोलियां उनके चारों ओर उड़ रही थीं लोग कटे पेड़ों की तरह गिर रहे थे और साथी अपनी जान की भीख मांग रहे थे। कुछ युवा इजरायली ट्राइब ऑफ नोवा पार्टी नरसंहार से बच निकलने में कामयाब रहे…जीवित बचे लोगों के शब्दों में…
७ अक्टूबर, शुक्रवार की रात। किबुत्ज रीम।
इजरायल और गाजा सीमा से तकरीबन पांच किलोमीटर दूर। दोनों तरफ रेगिस्तान। इस रेतीले इलाके के बीच रंगीन जगमगाती रोशनियों की चकाचौंध… तेज आवाज की धुनों पर मस्ती में नाचते-गाते झूमते हजारों नौजवान युवक-युवतियों की टोलियां। सुपरनोवा म्यूजिक फेस्टिवल। रात भर यह मस्ती-भरा समा चलता रहा। शनिवार, सुबह लगभग ६ बजे के करीब रॉकेटों की चेतावनी देनेवाले सायरन की आवाज सुनाई देने लगती है। अचानक सब कुछ रुक जाता है… आसमान में पैराशूट चमकने लगते हैं… चारों तरफ से ट्रक गाड़ियों का काफिला।
गैड लेबरसन: मैं ४ बजे पार्टी में पहुंचा। लगभग ६, ६:३० बजे सायरन बजने लगा, संगीत बंद हो गया। हर तरफ से मिसाइलें और रॉकेट आने लगे…
यारिन आमर: जो दृश्य मैंने देखे हैं वे अभी लंबे समय तक मेरे दिमाग से नहीं उतरेंगे। दोस्तों के साथ एक पार्टी में नाचना-गाना और अचानक एक सेकंड भी नहीं बीता और सैकड़ों आतंकवादी हर दिशा से हम पर गोलीबारी कर रहे हैं।
गैड: लोग चिल्ला रहे थे ‘आतंकवादी! आतंकवादी! वे हम पर गोली चला रहे हैं!’ उन्होंने कारों पर, हम पर गोली चलानी शुरू कर दी। तभी सभी ने अपनी गाड़ियां खड़ी कर दीं और भागने लगे।
यारिन: कारों पर गोलीबारी हो रही है। मैंने कार छोड़ दी और भागा, बस भागा और रास्ते में मैंने देखा कि मेरे सामने लोगों की हत्या कर दी गई…
गैड: आप देखते हैं कि लोगों का आपके बगल में बतखों की तरह नरसंहार किया जा रहा है। एक व्यक्ति आपके बगल में गिरता है, उसे गोली लगती है, फिर दूसरा व्यक्ति आपके बगल में गिरता है, उसे गोली लगती है…
येले: हम एक बहुत बड़े समूह में शामिल हुए कुछ लोग जो सभी एक ही दिशा में, खेतों की ओर भाग गए थे। हम चलते रहे और वहां एक पुलिस अधिकारी था, उसकी बंदूक में कोई गोली नहीं बची थी, वह हमारी तरह ही बहुत डरा हुआ लग रहा था। उनके रेडियो पर रिसेप्शन सिग्नल नहीं था। उसके पास बहुत कुछ नहीं था…
गैड: मैं छिप रहा हूं और सुन रहा हूं कि लोगों का अपहरण हो रहा है और महिलाओं के साथ बलात्कार हो रहा है और आप लगातार लोगों को मरते हुए रहम की भीख मांगते हुए सुन रहे हैं… महिलाएं भीख मांग रही हैं अपनी जिंदगी के लिए और तुम आवाज भी नहीं निकाल सकते, क्योंकि वे तुम्हें भी ढूंढ़ लेंगे, अपहरण कर लेंगे, मार डालेंगे।
यारिन: मैंने नेतनेल की ओर देखा, मैंने उससे कहा, ‘अभी सांस मत लो और हिलो मत।’ हम कुछ घंटों तक बिना हिले-डुले रहे, इस उम्मीद में कि कोई चमत्कार होगा। मैंने आकाश की ओर देखा और वहां सिर्फ मैं और भगवान थे।
गैड: जब आप सड़क पर गाड़ी चलाते हैं तो आपको हर दिशा में लाशें दिखाई देती हैं, बहुत सारी लाशें, बहुत सारे मृत लोग। करीब नौ घंटे बाद सेना वहां पहुंची, बस… जब हम सड़क पर पहुंचे तो हमने पार्टी में शामिल लोगों की हर जगह लाशें देखीं। वे लोग जो हमारे साथ नाच-गा रहे थे… कारों को गोलियों से छलनी कर दिया गया है और सड़क पर लाशें बिखरी हुई थीं… (नरसंहार के अंत तक, २६० लोगों की हत्या कर दी गई थी। बचे हुए लोगों का कहना है कि उनमें से कुछ की बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई। अन्य लोगों को हमलावरों ने पकड़ लिया या गोलियों से घायल कर दिया। पूरे हमले के दौरान इलाके पर मिसाइलें बरसती रहीं।)
हमारे पास पानी नहीं था, हर कोई काफी शांत था। ऐसा महसूस हुआ मानो मौत का कारवां चल रहा हो, जैसे हम फिर से प्रलय का अनुभव कर रहे हों… हमारे पास कुछ भी नहीं था, लेकिन मुझे पता था कि हम कहीं न कहीं पहुंच रहे हैं, इसलिए हम चलते रहे…

अन्य समाचार