मुख्यपृष्ठग्लैमरवो बड़ा रोमांचक अनुभव था! -जया एहसान

वो बड़ा रोमांचक अनुभव था! -जया एहसान

जया अहसान बांग्लादेश की मशहूर अभिनेत्री हैं वो एक मॉडल, फिल्म निर्माता और गायिका भी हैं। इस मल्टी टैलेंटेड अभिनेत्री ने बांग्लादेश से ६ बार नेशनल अवॉर्ड पाया है, ३ मर्तबा फिल्मफेयर पुरस्कार पाया है। इन पुरस्कारों के अलावा कई अन्य प्रतिष्ठित पुरस्कार वो पा चुकी हैं। कोका कोला के विज्ञापन में उनका चेहरा पहली बार १९९७ में नजर आया कई बांगला फिल्मों में उनकी अदाकारी देखने मिली। इस वक्त `कड़क सिंह’ फिल्म में जया के परफॉर्मेंस को बहुत सहज माना जा रहा है। पेश हैं, जया एहसान से पूजा सामंत की हुई बातचीत के कुछ अंश:

` कड़क सिंह’ आपकी पहली हिंदी फिल्म है। इस फिल्म को करने का आपका अनुभव कैसा रहा?
मुश्किलों पर ध्यान न देना यह निहायत जरूरी है। अगर मैं अपनी बात करूं तो मेरे लिए कई मुश्किलें हो सकती थीं। यह देश, यहां के लोग, संस्कृति सब अलग है। लेकिन सबसे ज्यादा मायने रखता है मुझे इस हिंदुस्थान और दुनिया की नंबर वन फिल्म इंडस्ट्री मानी जानेवाली बॉलीवुड का हिस्सा बनने का मौका मिला। `कड़क सिंह’ फिल्म के जरिए मैं इस देश में आ सकी, फिल्म कर पायी, सभी ने मेरे काम की भी तारीफ की। मेरे लिए यह दिल छू लेने वाली बात है। मुश्किलें तो हर क्षेत्र में आती हैं।

पंकज त्रिपाठी के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा?
पंकज त्रिपाठी के साथ पूरी फिल्म करना ही बड़ा पुरस्कार लेने जैसा है। उनके सामने जो भी कलाकार हो उन्हें वो बहुत सपोर्ट करते हैं। बहुत सादगी है इस शख्स में। आत्मीयता से भरे हैं पंकज जी। पंकज त्रिपाठी अपने आप में एक्टिंग इंस्टिट्यूट है, क्या आप कल्पना करेंगी? मुझे कम्फर्टेबल महसूस हो इसलिए वे मुझ से बांग्ला भाषा में बात करते। हम कलाकारों के लिए घर से टिफिन ले आते थे। हम सभी ने मिलकर सेट पर खूब मजे किए।

आपकी जर्नी कैसी रही?
अगर लड़कियां इंडस्ट्री में मिडल क्लास परिवार से आती हैं तो जाहिर सी बात है उनके पोशाकों से लेकर इंटिमेट सीन तक और आउटडोर शूट जैसे कई मुद्दों पर अपने परिवारों में बात करनी होती है। मिडल क्लास परिवारों की सोच आजाद नहीं होती। पैâशनेबल और रिवीलिंग परिधान पहनना भी उनके लिए आसान नहीं होता। इस दौर में कलाकार नेगेटिव -ग्रे शेड्स वाले रोल करना चैलेंजिंग समझते हैं। किरदारों के जरिये आपका अपना चरित्र भी नजर आता है। मेरा परिवार मध्यम वर्गीय भी है और रूढ़िवादी भी। मुझे लगता है यह जिम्मेदारी मुझ पर भी थी कि मैं दुनिया के सामने अपनी संस्कृति और गर्व के साथ इस करियर में आगे बढूं। मैं बांग्लादेशीय हूं और पिछले कुछ समय से बांगला देशी कलाकार ग्लोबली काम करते नजर आ रहे हैं।

आप एक ग्लोबल कलाकार हैं, आपके लिए पुरस्कार कितना मायने रखता है?
पुरस्कारों की अहमियत कोई नकार नहीं सकता। लेकिन मेरी राय में कलाकारों के जीवन में पुरस्कार एक अतिरिक्त बोनस की तरह है। दर्शकों का प्यार मिलना, उनके परफॉर्मेंस की सराहना होना यह किसी भी कलाकार के लिए दुनिया का सबसे प्यारा और बड़ा पुरस्कार होता है। अगर कलाकार अपने अभिनय की जर्नी को एन्जॉय करते हैं, हर किरदार उन्हें कुछ न कुछ सीख देता है तो यह भी एक पुरस्कार है। मैं जिंदगी भर स्टूडेंट बनकर रहना चाहती हूं, ताकि एक्टिंग के प्रोसेस में सीखती रहूं, मुझे टीचर नहीं बनना।

अन्य समाचार