मुख्यपृष्ठनए समाचारभाजपा को मतदान कराने में जुटा रहा प्रशासन! ... मोबाइल पर लगाया...

भाजपा को मतदान कराने में जुटा रहा प्रशासन! … मोबाइल पर लगाया था बैन, ताकि कहीं धांधली रिकॉर्ड न हो जाए

सामना संवाददाता / मुंबई
सोमवार को लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण का मतदान पूरा हुआ। मुंबई सहित महाराष्ट्र में संपन्न मतदान के दौरान बड़ी संख्या में धांधली और गड़बड़ी के मामले सामने आए। मुंबई में कहीं वोटिंग मशीन बंद रही, तो कहीं भाजपाइयों को मतदाता केंद्र परिसर में भीतर प्रचार करने दिया गया। मतदान परिसर में आयोग की ओर से मोबाइल पर बैन लगाया गया था, ताकि वहां धांधली की कोई तस्वीर न खींच सके।
बता दें कि कल भाजपाइयों की किस तरह से मदद की जाए, इस कोशिश में चुनाव आयोग के साथ पूरा प्रशासन जुटा रहा। चुनाव आयोग की ओर से भाजपा को मदद करने की कोशिश गई। चुनाव अधिकारी भी मौज में दिखाई दिए। राजनीतिक जानकारों की माने तो पूरा प्रशासन भाजपा को मतदान कराने में जुटा रहा। भाजपाइयों को लाभ पहुंचाने के लिए प्रशासन आम मतदाताओं को जमकर कन्फ्यूज कर रहे थे। इसके लिए सामान्य मतदाताओं को गलत जानकारी भी दी जा रही थी।
बता दें कि चुनाव आयोग ने मोबाइल के इस्तेमाल को मतदान केंद्र परिसर में १०० मीटर दूर तक बैन कर दिया था। जिसके बाद कई लोग मोबाइल लेकर नहीं गए, जो लेकर गए भी तो उनके मोबाइल को स्विच ऑफ करवा दिया गया या उन्हें बाहर रखवा दिया गया। जिसके चलते मतदान केंद्र पर हुई तमाम गड़बड़ियों और धांधली के सबूत को रिकॉर्ड नहीं किया जा सका। कई जगह पर तो मतदान अधिकारियों ने वोटिंग रोककर लंच ब्रेक ले लिया। भायंदर में चुनाव ड्यूटी पर लगे कर्मचारी लंच करने चले गए। मतदाता सुरेश पाटील ने बताया कि दोपहर को मतदान केंद्र पर पहुंचे तो उन्हें बाहर ही रोक दिया गया। जब उन्होंने कारण पूछा तो बताया गया कि कर्मचारी लंच कर रहे हैं। आपको इंतजार करना होगा। ईशान्य मुंबई के पवई में तो वोटिंग मशीन ही बंद हो गई, जिसे लेकर काफी देर तक हंगामा होता रहा। शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्ष के पदाधिकारी ने जब आवाज उठाई तो कई घंटे के बाद बंद वोटिंग मशीन बदली गई, लेकिन उसके बाद भी मतदान काफी देर तक शुरू नहीं हो पाया। नासिक में फर्जी वोटिंग जमकर कराई गई, तो मुंबई के वर्सोवा में मतदान केंद्र में ही भाजपा के लोग प्रचार करने लग गए थे और इन्हें चुनाव आयोग की ओर से संरक्षण मिल रहा था, ऐसा आरोप भी लगा। इस बारे में राजनीतिक जानकारों ने बताया कि मतदाताओं को फोटो खींचने पर बैन का विकल्प हो सकता था लेकिन मोबाइल लेकर जाने पर प्रतिबंध क्यों लगाया गया? उन्हें कोई भी मोबाइल, स्मार्ट वॉच, जिसमें वैâमरा हो या वॉइस रिकॉर्डिंग डिवाइस ले जाने पर बैन था।

अन्य समाचार