मुख्यपृष्ठनए समाचारढाई घंटे का हवाई सफर कर गुजरात से मुंबई पहुंचा धड़कता दिल!

ढाई घंटे का हवाई सफर कर गुजरात से मुंबई पहुंचा धड़कता दिल!

सामना  संवाददाता / मुंबई

अंगदान के प्रति लोगों में बीते कुछ समय से जागरूकता बढ़ी है। इतना ही नहीं लोगों के मन में भी अंगदान धीरे-धीरे जड़ें जमा रहा है। हालांकि इन सबके बीच सबसे महत्वपूर्ण यह है कि मानव शरीर का अंग सही समय पर सही व्यक्ति तक पहुंचे। इनमें से दिल बहुत ही नाजुक अंग है। इसे सावधानीपूर्वक और रफ्तार के साथ जरूरतमंद मरीज तक ले जाना होता है। हालांकि इन सभी कठिनाइयों को पार करते हुए धड़कता दिल ढाई घंटे से भी कम समय का हवाई सफर करते हुए गुजरात से मुंबई पहुंचा, जहां उसे एक मरीज में प्रत्यारोपित किया गया।
बनाया गया ग्रीन कॉरिडोर
मुंबई के परेल स्थित ग्लोबल अस्पताल में एक मरीज की हार्ट ट्रांसप्लांट सर्जरी हुई। हालांकि इस सर्जरी से पहले बड़ौदा अस्पताल में दान किए गए दिल को मुंबई लाया जाना था। इस प्रक्रिया में सबसे बड़ी चुनौती यह थी कि बड़ौदा में धड़कते हुए दिल को तीन घंटे के भीतर बिल्कुल सुरक्षित मुंबई के ग्लोबल अस्पताल के अंदर ऑपरेशन रूम तक पहुंचाना जरूरी था। ऐसी स्थिति में एयरलाइन विकल्प को चुना गया। इंडिगो के ६ई-६७३४ विमान से धड़कता दिल मुंबई लाया गया। इसके लिए बड़ौदा अस्पताल से एयरपोर्ट और मुंबई एयरपोर्ट से ग्लोबल अस्पताल तक ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया।
२.२२ घंटे में मुंबई पहुंचा दिल
ट्रैफिक विभाग की एक टीम के साथ चिकित्सा विशेषज्ञों के बड़ौदा स्थित अस्पताल में पंहुचते ही संबंधित व्यक्ति का दिल उन्हें सौंप दिया गया, जिसे महज दो घंटे २२ मिनट में मुंबई के ग्लोबल अस्पताल के ऑपरेटिंग रूम में ले जाया गया। नतीजतन मरीज में उसे प्रत्यारोपित कर उसे नई जिंदगी दी गई।
हर जीवन है कीमती
इस मिशन को सफलतापूर्वक अंजाम देने के बाद इंडिगो के सीईओ रोनोजॉय दत्ता ने अपनी टीम को बधाई दी। साथ ही उन्होंने कहा है कि हर जीवन कीमती है।

अन्य समाचार