मुख्यपृष्ठनए समाचारविद्युत कंपनियों के सामने है चुनौती अपने बल पर होना होगा सक्षम!

विद्युत कंपनियों के सामने है चुनौती अपने बल पर होना होगा सक्षम!

सामना संवाददाता / मुंबई

ऊर्जा मंत्री देवेंद्र फडणवीस की सलाह

महाराष्ट्र राज्य विद्युत कंपनियों के सामने चुनौती है। यह बात राज्य के ऊर्जा मंत्री देवेंद्र फडणवीस ने गत दिवस हुई बैठक में स्वीकार की थी। उन्होंने कहा था कि राज्य में विश्वसनीय, गुणवत्तापूर्ण और निर्बाध बिजली आपूर्ति प्रदान करना है। इसके लिए पारंपरिक ऊर्जा के साथ-साथ गैर-पारंपरिक ऊर्जा का उत्पादन बढ़ाने के लिए राज्य सरकार तीनों बिजली कंपनियों को सभी आवश्यक सहायता और संसाधन निश्चित रूप से प्रदान करेगी। उन्होंने आगे कहा कि युवाओं को रोजगार देने के लिए सरकार ने पहले चरण में ७५ हजार पदों पर भर्ती करने का फैसला किया है। महानिर्मिति ने पिछले एक साल में पारदर्शिता के साथ विभिन्न संवर्गों से १०४२ उम्मीदवारों का चयन किया है।

आर्थिक विकास की रीढ़ ऊर्जा क्षेत्र है। जैसा कि विशेषज्ञों का अनुमान है कि आनेवाले वर्षों में ऊर्जा की मांग बढ़ेगी, ऊर्जा क्षेत्र के सामने कई चुनौतियां हैं। इसके लिए तीनों कंपनियों को अपने-अपने तरीके से सक्षम होना होगा। फडणवीस ने कहा कि ऊर्जा विभाग को वर्ष २०३५ तक का रोडमैप तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं। सौर कृषि चैनल योजना वर्तमान स्थिति और भविष्य में भी बड़ा बदलाव लाएगी। उपमुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि राज्य ने पंप स्टोरेज, ग्रीन हाइड्रोजन जैसी नीतियां बनाई हैं। इस मौके पर प्रधान सचिव लोकेशचंद्र ने कहा कि जीवन की गुणवत्ता, औद्योगिक एवं आर्थिक विकास ऊर्जा आपूर्ति पर निर्भर करता है। महासंकल्प रोजगार अभियान के तहत ऊर्जा क्षेत्र की तीनों कंपनियों में करीब १५ हजार भर्ती प्रक्रिया जल्द की जाएगी। उन्होंने पिछले डेढ़ वर्ष की अवधि में ऊर्जा विभाग द्वारा लिए गए महत्वपूर्ण निर्णयों एवं विभिन्न महत्वाकांक्षी योजनाओं तथा ऊर्जा विभाग के उल्लेखनीय प्रदर्शन की जानकारी दी। महानिर्मिति के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक डॉ. अनबलगन ने कहा कि मानव संसाधन विभाग के दिन-प्रतिदिन के कार्यों को डिजिटल किया जाएगा और इसमें स्थानांतरण, पदोन्नति, पोस्टिंग, उच्च ग्रेड लाभ, गोपनीय रिपोर्ट, ई-सेवा पुस्तिकाएं शामिल होंगी। राज्यभर में महानिर्मिति परियोजनाओं से कुल ९ हजार ९१५ लोग प्रभावित हैं, जिनमें से अब तक ६,८१४ लोगों को रोजगार दिया गया है। २ हजार १०३ पात्र परियोजना लाभार्थियों को उन्नत कुशल योजना के तहत प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

अन्य समाचार