मुख्यपृष्ठनए समाचारचैलेंज है, दादा नहीं बनेंगे मुख्यमंत्री! ... संभाजीराजे का दावा

चैलेंज है, दादा नहीं बनेंगे मुख्यमंत्री! … संभाजीराजे का दावा

सामना संवाददाता / मुंबई
राज्य में मुख्यमंत्री बदलने की चर्चा पर स्वराज्य संगठन के अध्यक्ष संभाजी राजे छत्रपति ने टिप्पणी की है। उन्होंने कहा है कि मैं चुनौती देकर कहता हूं कि अजीत पवार राज्य के मुख्यमंत्री नहीं बनेंगे। वह मुंबई के यशवंतराव चव्हाण केंद्र में आयोजित स्वराज्य संगठन की पहली वर्षगांठ कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस मौके पर उन्होंने राज्य की राजनीति पर टिप्पणी करते हुए अजीत पवार की भी जमकर आलोचना की।
संभाजी राजे ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस पहले कह रहे थे कि राकांपा के साथ कभी गठबंधन नहीं करेंगे और अजीत पवार को जेल भेजने की भी बात कर रहे थे। लेकिन अब फडणवीस उन्हें अपने साथ ले लिए हैं। आवश्यकता न होते हुए भी फडणवीस ने पवार को साथ लिया है, लोकसभा के लिए फडणवीस ने यह सब किया है। चुनाव के बाद अजीत पवार फिर शरद पवार के साथ चले जाएंगे, ऐसा भी संभाजी राजे ने कहा। कई लोग कहते हैं कि एकनाथ शिंदे का मुख्यमंत्री पद चला जाएगा और अजीत पवार मुख्यमंत्री बनेंगे, लेकिन मैं चुनौती देकर कहता हूं कि अजीत पवार मुख्यमंत्री नहीं बनेंगे।
शिवस्मारक का क्या हुआ?
इस दौरान संभाजी राजे ने भाजपा को उनके पुराने वादे को याद दिलाते हुए कहा कि मराठा आरक्षण और अरब सागर में शिवस्मारक का क्या हुआ? प्रधानमंत्री के हाथों जल पूजन के नौ साल बाद भी यह काम अब तक शुरू क्यों नहीं हुआ? ऐसा सवाल उन्होंने इस मौके पर किया।

‘ईडी के डर से नहीं गया हूं भाजपा में’
महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने बीड में हुई सभा में एलान किया है कि वह जिले के पालकमंत्री का पद अपने गुट को देंगे। इसके साथ ही ईडी के डर से भाजपा में शामिल होने के आरोप का खंडन करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्रीय एजेंसियों के डर से भाजपा सरकार से हाथ नहीं मिलाया है। हम विकास के लिए महायुति सरकार में गए हैं। इस बात में कोई सच्चाई नहीं है कि हमारा कोई स्वार्थ है। उन्होंने कहा कि हमने हमेशा काम पर ध्यान केंद्रित किया है। मराठवाड़ा को पानी देने का निर्णय लिया गया है, चाहे इसके लिए एक लाख करोड़ रुपए ही क्यों न लगें। उन्होंने कहा कि मैं एक कामकाजी आदमी हूं। सुबह जल्दी काम शुरू कर देता हूं क्योंकि मेरा काम मेरा पेशा है।
उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य एकमत हैं। मुंबई से लगभग ३९० किलोमीटर दूर बीड में एक रैली को संबोधित करते हुए पवार ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्मे से धर्मनिरपेक्ष विचारों पर चलनेवाले महाराष्ट्र को फायदा होगा।

दादा की सभा में भीड़ जुटाने के लिए मंत्री ने किया सत्ता का भरपूर उपयोग! -रोहित पवार ने साधा निशाना

अजीत पवार गुट की कल बीड में सभा हुई। इस सभा में अजीत पवार समेत अन्य नेताओं ने जोशीले भाषण दिए। इस सभा पर राकांपा के कर्जत-जामखेड विधायक रोहित पवार ने ट्वीट करके निशाना साधा है। बीड में अजीत पवार की सभा के लिए एक मंत्री ने अपनी ताकत का भरपूर इस्तेमाल किया। लेकिन यह एक बार फिर स्पष्ट हो गया है कि महाराष्ट्र के लोग बुद्धिमान और स्वाभिमानी हैं, ऐसा रोहित पवार ने कहा। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा है कि एक मंत्री ने शरद पवार के खिलाफ आवाज निकाली, परिणाम स्वरूप लोगों के विरोध के कारण संबंधित मंत्री को अपने भाषण को दो मिनट में समाप्त करना पड़ा। इस संपूर्ण सभा में भाजपा का गुणगान किया गया। भाजपा की आरती सुन स्वाभिमानी लोगों ने तालियां तक नहीं बजाई और कुर्सियां ​​खाली होने लगीं। क्योंकि बारामती हो या बीड हो, एक बार फिर स्पष्ट हो गया है कि पूरे महाराष्ट्र की जनता बुद्धिमान और स्वाभिमानी है, ऐसा रोहित पवार ने कहा।
मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे कल एक बैठक के लिए गुजरात गए थे। इस पर रोहित पवार ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि आज स्थिति अलग है। पहले दिल्ली नेता महाराष्ट्र आते थे, अब महाराष्ट्र के नेता गुजरात जा रहे है।

अन्य समाचार