मुख्यपृष्ठनए समाचारश्रीराम की नगरी, `रावण' राज! अयोध्या में सरयू तट पर पक रहा...

श्रीराम की नगरी, `रावण’ राज! अयोध्या में सरयू तट पर पक रहा मुर्गा-मटन

  • पांच दिन में दूसरी घटना आई सामने
  • रामघाट के बाद अब सरयू घाट पर मांस भक्षण
  • लखनऊ निवासी आरोपी गिरफ्तार

विक्रम सिंह / अयोध्या
उत्तर प्रदेश में योगीराज है। भगवान श्रीराम के नाम का जाप कर सत्ता में आनेवाली भारतीय जनता पार्टी खुद को सच्चे ‘हिंदुत्व’ की उत्तराधिकारी होने का दम भरती आ रही है लेकिन धर्मनगरी में यहां खुलेआम ‘अधर्म’ हो रहा है। प्रयागराज में संगम तट के बाद अब अयोध्या के सरयू घाट के किनारे चिकन-मटन पकाकर खाने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। सरयू की पवित्रता से खुलेआम न सिर्फ खिलवाड़, बल्कि राक्षसी कृत्य हो रहा है। साधु-संत आक्रोशित हैं लेकिन सत्तासीन राजनीतिज्ञ मौन हैं। आम जनमानस में इस घटनाक्रम से शासन-प्रशासन की नीयत पर सवाल उठने लगे हैं। लोग कह रहे हैं कि श्रीराम की नगरी में ‘रावण राज’ चल रहा है। इसके पहले प्रयागराज में भी ऐसा ही मामला सामने आया था।
संत समाज नाराज, ये राक्षसी कृत्य है
संत समाज प्रयागराज व अयोध्या में सरयू तट पर हो रहे अधर्म पर अवाक है। वेदांती आश्रम, गोलाघाट, कुशनगरी (सुल्तानपुर) के महंत जगद््गुरु स्वामी मधुसूदनाचार्य कहते हैं कि हम व्यथित और दुखी हैं। ऐसी अपेक्षा हमें नहीं थी। योगी जी खुद महंत हैं और प्रभु श्रीराम की नगरी में सरयू किनारे मांस भक्षण विचलित कर देनेवाला सच है। इसे तत्काल रोका जाए अन्यथा संत समाज स्वयं पीएम और सीएम को ज्ञापन भेजेगा।
पूजा स्थल पर नॉनवेज पार्टी
प्रभु श्रीराम ने जिस सरयू के किनारे बाल लीलाएं कीं, खेले-वूâदे और बड़े हुए उसी सरयू के किनारे आज मुर्गा-मटन पकाया जा रहा है। लोग सरयू नदी में पिकनिक मनाते हुए नॉनवेज की पार्टी कर रहे हैं, इससे बड़ी विडंबना और क्या हो सकती है? पहले ३१ अगस्त को रामघाट हाल्ट पर बंजारा समुदाय के लोग मुर्गा पकाकर खाते हुए पकड़ में आए थे। उन्हें गोरक्षक व रामरक्षकों ने चेतावनी देकर छोड़ दिया था लेकिन प्रशासन सख्त नहीं हुआ। नतीजतन, चौधरी चरण सिंह घाट पर चिकन बनाए जाने का वीडियो रविवार को वायरल हो गया। हनुमानगढ़ी के संतों ने यहां अधर्मियों को चिकन और मटन बनाते हुए पकड़ा। गौरक्षक रितेश दास की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। एक युवक को हिरासत में लिया और पुलिस उसे कोतवाली ले गई लेकिन संत नाराज हैं।

अन्य समाचार