मुख्यपृष्ठनए समाचारचंद्रकांत पाटील के ‘अंधभक्ति' की चरम सीमा... मां-बाप को गाली दो पर...

चंद्रकांत पाटील के ‘अंधभक्ति’ की चरम सीमा… मां-बाप को गाली दो पर मोदी-शाह को नहीं !

सामना संवाददाता / मुंबई
भाजपा नेता व राज्य के उच्च व तकनीकी शिक्षामंत्री की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की ‘अंधभक्ति’ चरम सीमा पर पहुंच गई है। उन्होंने फिर से बयान दिया है कि मां-बाप को गाली दो पर मोदी और शाह को गाली देने वालों को मैं बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं करूंगा। उन्होंने यह भी कह डाला कि यदि केंद्रीय नेतृत्व २७वीं मंजिल से कूदने को कहेगा तो भी मैं कूद जाऊंगा।
पुणे भाजपा की ओर से चंद्रकांत पाटील के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया था। इस मौके पर हातकणंगले निर्वाचन क्षेत्र के चुनाव और उस समय लगे आरोपों-प्रत्यारोपों का उल्लेख करते हुए पाटील ने जुबानी हमला किया। हातकणंगले में चुनाव प्रचार के दौरान राजू शेट्टी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गालियां दे रहे थे। उन्हें हमने सवा लाख मतों से हरा दिया। परसों हमारे एक केंद्रीय नेता और राजू शेट्टी की मुलाकात हुई। उस समय शेट्टी ने बताया कि दादा ने मुझे समाप्त कर दिया। इस पर हमारे नेता ने कहा कि दादा किसी को नहीं समाप्त करते हैं। उन्होंने कहा कि एक बार अपने माता-पिता को गाली देंगे तो चलेगा। मां की गाली देने की हमारे कोल्हापुर की शैली है। लेकिन मोदी और शाह को गाली दिए तो मैं इसे बर्दाश्त नहीं कर सकता।

ढाई साल से शिवसेना को तोड़ने का चल रहा था प्लान!
‘बीते ढाई साल से मैं कह रहा था कि हमारी सरकार आएगी। मैं कोई पागल नहीं था। कुछ न कुछ प्लान मेरे मन में थे। उसकी योजना मेरे मन में थी। शिवसेना से ४० विधायकों को बाहर करना आसान नहीं था। इसमें समय लगनेवाला था। वैसा अवसर आया और मौका साधते हुए हमने अपनी सरकार बना ली। चंद्रकांत पाटील ने स्वीकार किया कि शिवसेना को तोड़ने में भाजपा का हाथ था।
वो कहेंगे तो २७वीं मंजिल से भी कूद जाऊंगा!

कोल्हापुर, सांगली, सातारा, सोलापुर, पुणे, बारामती को भी जीतना है। मुझे साल २०१९ में दिए गए मिशन को पूरा करना है। चंद्रकांत पाटील ने कहा कि मुझे जब कोथरुड की सीट दी गई, तो कुछ लोगों ने कहा कि ‘क्या मजा है, बाबा इसकी’ लेकिन इसके पीछे की पीड़ा को मैं जानता हूं। वास्तव में कोल्हापुर में चार निर्वाचन क्षेत्र ऐसे हैं, जहां मैं आसानी से चुनकर आ सकता था। अमित शाह द्वारा अपने गृह मंत्रालय के माध्यम से किए गए सर्वेक्षण में भी यह पाया गया था। बहरहाल उनका आदेश आया और मैं पुणे आ गया। मैं पुणे से चुनाव लड़ने के लिए तभी राजी हुआ, जब वे मान गए कि मुझे कोल्हापुर से चुना जा सकता है। पाटील ने कहा कि अंत में नेतृत्व के आदेशों का पालन करना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि यदि अमित भाई मुझे २७वीं मंजिल से कूदने के लिए कहते हैं, तो मैं भी ऐसा करने के लिए तैयार हूं। पाटील ने कहा कि महाराष्ट्र में अकेले भाजपा के दम पर सत्ता लाने के लिए जो `शॉर्टफॉल’ पड़ रहा है, उसे अब पूरा करना है। इसके लिए पुणे शहर और जिले की सभी सीटों को जीतना पड़ेगा।

अन्य समाचार