मुख्यपृष्ठनए समाचारमुंबई-अमदाबाद महामार्ग की हालत खराब : मानसून में बन सकता है मुसीबत...

मुंबई-अमदाबाद महामार्ग की हालत खराब : मानसून में बन सकता है मुसीबत का महामार्ग! …मरम्मत के दो महीने बाद ही पड़ गए गड्ढे 

यात्री हो रहे हैं दुर्घटना का शिकार
योगेंद्र सिंह ठाकुर / पालघर
पालघर इलाके में मुंबई-अमदाबाद महामार्ग का दो महीने पहले ही कांक्रीटीकरण का काम किया गया था। महामार्ग का काम अभी भी शुरू है, लेकिन उसमें अभी से ही गड्ढे पड़ने शुरू हो गए हैं। इस महामार्ग में कई जगहों पर गिट्टियां निकल आई हैं। गड्ढों और गिट्टियों के निकलने से दुर्घटना होने की संभावना भी बढ़ गई है। सवाल उठता है कि जब अभी से यह हाल है तो मानसून में क्या होगा?
मानसून में और विकट हो सकती है स्थिति 
दरअसल, निर्माण के साथ ही यह हाइवे उखड़ना शुरू हो गया है। इससे आने-जाने वाले वाहन चालकों में आक्रोश है। लोगों का कहना है कि अगर बारिश में इन गड्ढों में पानी भर जाता है तो दोपहिया वाहन चालक दुर्घटना का शिकार हो सकता है, उसकी मौत भी हो सकती है, जो कि अक्सर सुनने को मिलती भी है, और जो जाम लगेगा वह अलग। हालांकि, हाइवे पर ट्रैफिक जाम तो अभी से ही होने लगा है। वाहन चालकों को एक घंटे की दूरी तय करने में २ से ४ घंटे तक लग जाते हैं।
अधिकारियों और ठेकेदार पर उठ रहे सवाल 
बता दें कि मुंबई-अमदाबाद हाइवे के गुजरात बॉर्डर स्थित तलासरी से लेकर काशीमीरा के बीच लगभग १२१ किमी की दूरी है। एनएचएआई ५५३ करोड़ की लागत से हाइवे का कांक्रीटीकरण कर रहा है। इस कार्य का ठेका गुजरात की निर्मल बिल्ड इंप्रâा प्राइवेट लिमिटेड को दिया गया है। हाइवे पर हो रहे घटिया काम की वजह से मुंबई-अमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग गांव की कच्ची सड़क जैसा नजर आ रहा है। स्थानीय लोग घटिया कार्य का ठीकरा अधिकारियों और ठेकेदार पर फोड़ रहे हैं।

पहली बरसात में डूब सकता है ठाणे
मनपा ने इस साल बरसात से पहले ही नालों की सफाई का काम समय पर पूर्ण करने के लिए कदम उठाया था, लेकिन ठेकेदारों द्वारा कोई जवाब नहीं मिलने से मई के तीसरे सप्ताह से नाला सफाई का काम शुरू हुआ है। शहर के तमाम हिस्सों में अब भी नालों की सफाई नहीं हो पाई है। जिसमें घोड़बंदर, कलवा, मुंब्रा, दिवा सहित लोकमान्य नगर, कामगार अस्पताल, शास्त्री नगर आदि इलाके शामिल हैं। मनपा ने ३१ मई के अंत तक नाला सफाई का काम पूरा करने का दावा किया है, लेकिन ऐसा होगा या नहीं, यह तो वक्त बताएगा। वहीं यदि समय पर सफाई नहीं हो पाई तो ठाणे शहर पहली बारिश में ही डूब जाएगा।

अन्य समाचार