मुख्यपृष्ठनए समाचारचक्का जाम से दो दिनों तक दहशत में रहा देश ...आम आदमी...

चक्का जाम से दो दिनों तक दहशत में रहा देश …आम आदमी की थाली पर असर

तीन दिनों में रु. ४५० करोड़ का हो सकता है नुकसान
धीरेंद्र उपाध्याय / मुंबई
नए ‘हिट एंड रन’ कानून के विरोध में कल भी ट्रक ड्राइवरों की हड़ताल के कारण देशभर में चक्काजाम रहा। महाराष्ट्र, दिल्ली, मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ समेत १० राज्यों में ट्रक ड्राइवर तीन दिन के हड़ताल पर रहें। इस हड़ताल की वजह से सभी पेट्रोल पंपों पर वाहनों की लंबी कतारें लगी रही। इससे कई शहरों में पेट्रोल-डीजल की कमी भी देखी गई। बताया गया कि दो दिन की हड़ताल से ही पेट्रोल और डीजल की किल्लत का सीधा असर आम आदमी की थाली पर पड़ा है। इसके कारण सब्जियां और किराना के सामान महंगे हो गए हैं। इसके साथ ही दूध की आपूर्ति भी बुरी तरह प्रभावित हुई है। इसका असर आम आदमी की जेब पर पड़ सकता है। हड़ताल की वजह से खाद्यान्न, दवाओं और रसोई गैस जैसी आवश्यक वस्तुओं की किल्लत हो सकती है। एक तरफ आगे और महंगाई बढ़ने की आशंका जताई गई है और लोग अभी से ही परेशान हो गए हैं, तो वहीं दूसरी तरफ तीन दिन के इस हड़ताल से ४५० करोड़ रुपए का नुकसान होने की संभावना वित्तीय जानकारों ने जताई है। सूत्रों के मुताबिक, भारी वाहनों के ड्राइवरों से अकेले मुंबई से हर रोज करीब १६० करोड़ रुपए का कारोबार होता है।
मुंबई में दूध की आपूर्ति हुई बाधित
चालकों के हड़ताल से मुंबई में दूध की आपूर्ति बुरी तरह बाधित हुई। दूध ले जाने वाले हजारों ट्रक राष्ट्रीय, अंतर-राज्य या राज्य राजमार्गों पर विभिन्न स्थानों पर फंसे रहे और शहर में नहीं पहुंच सके। बड़ी संख्या में मुंबई वालों को अपनी पसंदीदा सुबह की चाय और बच्चों के लिए दूध के बिना काम चलाना पड़ा। कुछ क्षेत्रों में डिलीवरी सुबह १० बजे या उसके बाद बहुत देर से हुई।
हड़ताल का आम आदमी पर असर
इस हड़ताल का आम आदमी पर सीधा असर देखने को मिल सकता है। ट्रकों की हड़ताल होने से दूध, सब्जी और फलों की आवक नहीं होने से कीमतों पर इसका सीधा असर देखने को मिलेगा, जो अभी से ही महसूस किया जाने लगा है। बता दें कि हिंदुस्थान में ९५ लाख से ज्यादा ट्रक हर साल १०० अरब किलोमीटर से ज्यादा की दूरी तय करते हैं। देश में ८० लाख से ज्यादा ट्रक ड्राइवर हैं, जो हर दिन जरूरत का सामान एक शहर से दूसरे शहर ट्रांसपोर्ट करते हैं।
४५० करोड़ रुपए का नुकसान
ट्रांसपोर्ट बॉडी के मुताबिक एक दिन की हड़ताल से करीब १२० से १५० करोड़ के कारोबार पर असर होता है। ऐसे में तीन दिन की हड़ताल से ४५० करोड़ के नुकसान की आशंका है। अकेले मुंबई में रोजाना १.२० लाख ट्रक और कंटेनर्स एमएमआर रीजन में आते हैं।
हाईकोर्ट का आदेश, परिवहन बहाल करवाएं
मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को हड़ताल खत्म कराने के निर्देश दिए हैं। दो याचिकाओं पर मंगलवार को हुई सुनवाई में हाईकोर्ट ने कहा कि हड़ताल को तुरंत खत्म करवाया जाए। सरकार परिवहन बहाल करवाए। इस पर सरकार की तरफ से महाधिवक्ता ने कहा कि शाम तक इस मामले में अहम निर्णय लिया जा रहा है।

अन्य समाचार