मुख्यपृष्ठनए समाचारदुबई दर्शन का बढ़ा क्रेज! मई महीने में जमकर हुई उड़ान

दुबई दर्शन का बढ़ा क्रेज! मई महीने में जमकर हुई उड़ान

  • मुंबई से दुबई गई ४०६ फ्लाइट्स
  • दिल्ली से दुबई ३३२ फ्लाइट्स

सामना संवाददाता / मुंबई
विगत कुछ वर्षों में भारतीय लोगों में इंटरनेशनल हवाई यात्रा का क्रेज बढ़ा है। कोरोना महामारी से पहले भारत से उड़ान भरनेवाली २० इंटरनेशनल उड़ानों में से महज दो उड़ानें ही दुबई के लिए होती थीं परंतु प्राप्त आंकड़ों को देखें तो भारत से उड़ने वाली इंटरनेशनल फ्लाइट्स के लिए २० सबसे व्यस्त अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा मार्गों में से मई महीने में ७ सिर्फ दुबई के लिए इस्तेमाल किए गए हैं।
विमानन विश्लेषण कंपनी सीरियम की ओर से जारी आंकड़ों पर गौर करें तो भारतीयों में दुबई दर्शन का क्रेज बढ़ा है। आंकड़ों के मुताबिक मई महीने में जहां मुंबई से सबसे अधिक ४०६ फ्लाइट्स दुबई के लिए उड़ाई गईं तो वहीं दिल्ली से दुबई ३३२ फ्लाइटों ने उड़ान भरी हैं।
कोविड के बाद बढ़ा क्रेज
प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, मई २०१९ में कोविड-१९ महामारी के वैश्विक उड़ानों को प्रभावित करने से पहले भारत से २० अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा मार्गों में से केवल दो दुबई के लिए थे। आंकड़ों के मुताबिक मई २०१९ में भारत से सबसे व्यस्त अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा मार्ग ३०१ उड़ानों के साथ कोलकाता-ढाका था। हालांकि मई २०२२ में भारत में सबसे व्यस्त अंतरराष्ट्रीय मार्ग ४०६ उड़ानों के साथ मुंबई-दुबई का रहा है, वहीं इस दौरान दूसरा सबसे व्यस्त अंतरराष्ट्रीय मार्ग ३३२ उड़ानों के साथ दिल्ली-दुबई था।
पहले दुबई के थे सिर्फ दो मार्ग
आंकड़ों के अनुसार, मई २०२२ में कोचीन-दुबई, हैदराबाद-दुबई, चेन्नई-दुबई, बंगलुरु-दुबई और कोलकाता-दुबई मार्गों पर क्रमश: १६७, १५२, १३६, १३३ और १३१ उड़ानें थीं। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में शहर के लिए ये सात मार्ग मई २०२२ में भारत को जोड़ने वाले शीर्ष २० अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा मार्गों में शामिल थे। इसकी तुलना में दुबई के सिर्फ दो मार्ग थे- मुंबई-दुबई (२५२ उड़ानें) और दिल्ली-दुबई (२१८ उड़ानें), वहीं आंकड़ों से पता चलता है कि इस साल मई में भारत से तीसरा सबसे व्यस्त अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा मार्ग चेन्नई-कोलंबो था, जिसमें १८३ उड़ानें थीं। चौथा सबसे व्यस्त मार्ग कोचीन-दुबई था, जिसमें १६७ उड़ानें थीं।

अन्य समाचार