मुख्यपृष्ठखबरेंइस्लामिक देशों के नए नियम से रुकेगी पाकिस्तान की धूर्तता ...आईओसी में...

इस्लामिक देशों के नए नियम से रुकेगी पाकिस्तान की धूर्तता …आईओसी में बंद होगा कश्मीर का राग!

अब सदस्य देश के किसी भी प्रस्ताव को नहीं मिलेगी मंजूरी!
सामना संवाददाता / नई दिल्ली
मंच या मौका कोई भी हो, पाकिस्तान कश्मीर का राग अलापने से बाज नहीं आता है। खासकर, इस्लामिक राष्ट्रों के मंच (आईओसी) के माध्यम से पाकिस्तान, हिंदुस्थान को बदनाम करने और डराने का हरसंभव प्रयास करता रहा है। लेकिन आईओसी के नए नियमों से पाकिस्तान को बड़ा झटका लगनेवाला है। उसे कश्मीर का राग अलापने का मौका नहीं मिलेगा।
बता दें कि दुनिया के दूसरे सबसे बड़े अंतरराष्ट्रीय संगठन ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉर्पोरेशन से पाकिस्तान को बड़ा झटका लगने वाला है। दरअसल, ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉर्पोरेशन मुस्लिम देशों का एक संगठन है, जो कि वैश्विक स्तर पर सिर्फ संयुक्त राष्ट्र से ही छोटा है। कुल ५६ देश इस फोरम के सदस्य हैं। इस संगठन में अभी तक यह नियम लागू था कि कोई भी इस्लामिक देश किसी प्रस्ताव को लाता है तो उसे सभी देशों को मानना पड़ता है लेकिन अब अरब देशों की पहल पर नियमों में बदलाव किया जा रहा है।
नापाक प्रयास होंगे नाकाम
अभी तक यहां पर सदस्य देश जो भी प्रस्ताव लाते थे उसे बिना किसी बहस के पारित कर दिया जाता था। इसी बात का फायदा उठाकर पाकिस्तान हर बार इस फोरम में कश्मीर से जुड़ा प्रस्ताव लेकर जाता था, जिसे बिना किसी बहस के सर्वसम्मति से पारित किया जाता था। लेकिन अब पाकिस्तान कश्मीर की बात करेगा तो दूसरे देश उस पर अपनी राय रख सकते हैं।

अन्य समाचार