मुख्यपृष्ठनए समाचारशुद्ध होगा रानी बाग का गंदा पानी!...रोजाना मिलेगा पांच लाख लीटर जल...

शुद्ध होगा रानी बाग का गंदा पानी!…रोजाना मिलेगा पांच लाख लीटर जल पानी पर होगा प्रोसेस

सामना संवाददाता / मुंबई । भायखला स्थित रानी बाग मुंबईकरों के साथ-साथ विदेशी पर्यटकों को भी आकर्षित करता है। इसी रानी बाग से निकलनेवाले गंदे पानी को प्रोसेस कर मनपा प्रशासन रोजाना पांच लाख लीटर शुद्ध पानी तैयार करेगा। इसके चलते मनपा द्वारा आपूर्ति किए जानेवाले शुद्ध पानी की लागत में काफी बचत होगी। यह जानकारी रानी बाग संग्रहालय के निदेशक डॉ. संजय त्रिपाठी ने दिया।
मुंबई में बढ़ती आबादी के कारण सात जलाशयों से रोजाना ३,८५० एमएलडी पानी की आपूर्ति होती है। हालांकि इसका २७ प्रतिशत पानी चोरी या बर्बाद हो जाता है। इसके चलते मुंबईकरों को पर्याप्त जलापूर्ति नहीं हो पा रही है।
गंदे पानी पर प्रोसेस करने का लिया गया निर्णय
पानी की कमी को देखते हुए राज्य सरकार और मुंबई मनपा ने नए जलाशय का निर्माण करने की अपेक्षा गंदे पानी पर प्रोसेस कर उससे तैयार हुए शुद्ध पानी को पेयजल के लिए इस्तेमाल करने की बजाय दूसरे कामों के लिए उपलब्ध कराने का निर्णय लिया। इसके साथ ही सागर के पानी पर वैज्ञानिक तरीके से प्रक्रिया कर पीने के लिए इस्तेमाल करने का पैâसला किया है।
मिल सकेगा पर्याप्त पानी
इन दोनों निर्णयों से एक तरफ पीने के पानी की भारी बचत होगी, तो वहीं दूसरी तरफ मुंबई में प्रचुर मात्रा में पेयजल की आपूर्ति होगी। यह योजना रानी बाग में भी अपनाई जाएगी। फिलहाल वर्तमान में रानी बाग में जानवरों को पीने का साफ पानी उपलब्ध कराया जा रहा है। आनेवाले दिनों में रानी बाग में पक्षियों और जानवरों के लिए वॉटर स्पोर्ट्स का लुत्फ उठाने के लिए वॉटर स्टोरेज की व्यवस्था की जाएगी।
शुद्ध पानी का ऐसे होगा इस्तेमाल
रानी बाग से निकलनेवाले गंदे पानी पर प्रोसेस कर न केवल उसे शुद्ध बनाया जाएगा, बल्कि उसका इस्तेमाल बाग के कामों, पक्षी, जानवरों को जलक्रीड़ा का आनंद उठाने, पिंजरों को धोने, सफाई, शौचालयों आदि में किया जाएगा।

अन्य समाचार