मुख्यपृष्ठनए समाचारमांसाहेब को संपूर्ण देश ने दी भावपूर्ण आदरांजलि 

मांसाहेब को संपूर्ण देश ने दी भावपूर्ण आदरांजलि 

सामना संवाददाता / मुंबई 
तमाम शिवसैनिकों की दुलारी वात्सल्यमूर्ति स्व. सौ. मीनाताई ठाकरे के २७वें स्मृतिदिन पर संपूर्ण देश में शिवसैनिकों ने उन्हें भावपूर्ण आदरांजलि अर्पित की। शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्षप्रमुख, राज्य के भूतपूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मांसाहेब की प्रतिमा पर पुष्पहार अर्पित किया। इस दौरान श्रीमती रश्मि उद्धव ठाकरे, शिवसेना नेता दिवाकर रावते, अरविंद सावंत, शिवसेना सचिव व सांसद विनायक राऊत, शिवसेना उपनेता मिलिंद वैद्य, रवींद्र मिर्लेकर, विजय कदम, ज्योति ठाकरे, रघुनाथ कुचिक, विशाखा राऊत, मीना कांबली, अरुण दुधवाडकर उपस्थित थे।
स्व. मांसाहेब श्रीमती मीनाताई ठाकरे के स्मृति दिवस के अवसर पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए पदाधिकारी और शिवसैनिक शिवतीर्थ में उपस्थित थे। मांसाहेब के स्मारक के समक्ष फूल चढ़ाए गए। शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेताओं और शिवसैनिकों ने बेहद भावुक माहौल में मांसाहेब को श्रद्धांजलि दी। स्व. श्रीमती मीनाताई ठाकरे स्मारक समिति द्वारा शिवतीर्थ पर मांसाहेब की प्रतिमा के पास कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन उपनेता विशाखा राऊत, जी. एस. परब, प्रवीण पंडित द्वारा किया गया। जलपान की व्यवस्था उपनेता विधायक रवींद्र वायकर, उपविभाग प्रमुख यशवंत विचले ने की। मंडप सजावट पूर्व महापौर श्रद्धा जाधव और मनोहर डेकोरेशन के श्रीधर जाधव ने की। कार्यक्रम को सफल बनाने में नरेंद्र भोसले उपशाखा प्रमुख, सागर पवार, प्रशांत जाधव, सदानंद जाधव, सिद्धार्थ जामसंडेकर, तुलसीदास देसाई, स्वप्निल माने, गौरव नरेंद्र भोसले, सौरभ लोखंड, मंदार नार्वेकर, दिनकर पारधी, संजय मोहिते, विनायक कालेलकर ने विशेष प्रयास किया। कार्यक्रम का संचालन सूर्यकांत बिरजे ने किया।
भजन, कीर्तन का आयोजन
कार्यक्रम सुबह ७ बजे से मांसाहेब की प्रतिमा के पास शुरू हुआ। प्रथम सत्र में रविराज नर, राजा कदम, मधुकर वस्त, हर्षदा वेलहाल, स्मिता ताइशेटे, सुहास जपवंत, चंद्रकांत सखारपेकर, सचिन नवले, सचिन मोहिते, संकेत पांचाल, बाला परब, अभय बगायतकर ने मधुर भक्ति गीतों का कार्यक्रम प्रस्तुत किया। दूसरे सत्र में दादर के आर्यदुर्गा भजन मंडल एवं दैवज्ञ हितरकधा महिला भजन मंडल की ओर से भजनों का कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर शिवसेना संपर्क प्रमुख राजेश हजारे, (अमरावती) रमाकांत रात (पालघर), विभाग प्रमुख महेश सावंत, आशीष चेंबूरकर, विधायक अजय चौधरी, पूर्व विधायक दगड़ू सकपाल, प्रदेश संयोजक शिव आरोग्य सेना जीतेंद्र दगड़ू सकपाल, रेशमा सकपाल-गवकर, संपर्क समन्वयक मृणाल यज्ञेश्वर (कल्याण लोकसभा), ममता चेंबूरकर (पालघर जिला), मंदाकिनी लेलेंद्र भावे (नागपुर शहर), पूर्व महापौर महादेव देवले, पूर्व संवाददाता राजेंद्र सूर्यवंशी, हर्षला मोरे, उर्मिला पांचाल, सुरेश काले, एडवोकेट मिराज शेख, वंदना शिंदे, बाला नर, रामदास कांबले, माया जाधव (धारावी विधानसभा समन्वयक), शिवसेना विधानसभा आयोजक कृष्णा मुलिक (कांदिवली-पूर्व), विट्ठल पवार (धारावी), राजू पाटणकर, जावेद खान (विभाग समन्वयक धारावी विधानसभा), अशोक कुंचीकुर्वेे (शाखा संयोजक), कल्पना पालयेकर (शाखा संयोजक), विजया चव्हाण (शाखा संयोजक), दत्ता पाटकर (विधानसभा संयोजक), सुनीता आयरे (विधानसभा संयोजक), रवींद्र साल्वी (विधानसभा संयोजक जोगेश्वरी), विनय सालुंखे, शरद पोवार (उपशाखा संयोजक), संजय केनी (उपशाखा संयोजक), ज्योति भोसले (मुंबई स्वास्थ्य सेना, मुंबई सचिव, संपर्क प्रमुख खेड़, गुहागर), आरती किनरे (विधानसभा आयोजक माहिम), कविता जाधव (विधानसभा आयोजक, धारावी), पद्मावती शिंदे (विधानसभा आयोजक), शारदा गोले (उप प्रभाग आयोजक), प्रणिता वाघधरे, सुहासिनी ठाकुर, नीता राउल (उप प्रभाग आयोजक), रेखा देवकर (उप प्रभाग आयोजक), बेबी मोरे (शाखा समन्वयक) , राजुल पटेल (विभाग संगठिका), महिला शाखा संगठिका माया राउल आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहीं।
कामगारों को फल वितरित
दादर पश्चिम के `स्वर्गीय मांसाहेब मीनाताई ठाकरे फूल बाजार व्यापारी मंडल’ की ओर से फूलबाजार में मांसाहेब की प्रतिमा पर पुष्पहार अर्पित कर उन्हें आदरांजलि दी गई। इसके बाद कामगारों को फल वितरित किये गए। इस अवसर पर शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता दिवाकर रावते, उपनेता विशाखा राऊत, मीणा कांबली, विभागप्रमुख महेश सावंत, उपविभागप्रमुख यशवंत विचले, पूर्व महापौर श्रद्धा जाधव सहित तमाम शिवसैनिक मौजूद थे।
मध्य प्रदेश के शिवसैनिकों ने दी
मांसाहेब को आदरांजलि
शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) मध्य प्रदेश-उपराज्यप्रमुख व ग्वालियर के संभाग प्रभारी प्रदीप भावसार (भाऊ) के नेतृत्व में मध्य प्रदेश के सैकड़ों शिवसैनिकों ने कल श्रद्धेय स्व. मीनाताई ठाकरे (मांसाहेब) की पुण्यतिथि पर दादर स्थित शिवाजी पार्क में मांसाहेब की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें आदरांजलि अर्पित की। विगत २५ वर्षों से प्रदीप भावसार लगातार मध्य प्रदेश के इंदौर, खंडवा, रुस्तमपुर, देवास, उज्जैन, ओंकारेश्वर, नागदा, रतलाम, नीमच, भोपाल, ग्वालियर आदि शहरों से शिवसैनिकों के साथ आकर मांसाहेब को आदरांजलि अर्पित करते हैं और पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात कर प्रदेश की स्थिति से अवगत कराते हैं। प्रदेश के नवनियुक्त राज्यप्रमुख सुनील शर्मा के नेतृत्व में सभी शिवसैनिकों व पदाधिकारियों ने संगठन को और भी ज्यादा मजबूत बनाने का संकल्प लिया।
शिवसेना की जम्मू इकाई ने अर्पित की मांसाहेब को श्रद्धांजलि
शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) के जम्मू स्थित  प्रदेश मध्यवर्ती कार्यालय में शिवसैनिकों ने मांसाहेब स्वर्गीय  मीना ताई ठाकरे के २७वें स्मृति दिवस पर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।‌ इस मौके पर प्रदेश प्रमुख मनीष साहनी ने मांसाहेब को श्रद्धासुमन अर्पित किए। साहनी ने देश की आधी आबादी महिलाओं के सशक्तिकरण पर आवाज बुलंद करते हुए देशभर में तमाम चुनावों में महिलाओं के लिए ५० प्रतिशत आरक्षण की मांग उठाई।
साहनी ने कहा कि आजादी के ७५ साल बाद भी महिलाओं को राजनीतिक क्षेत्र में उनका उचित हक नहीं दिया जा रहा है। सरकार की ओर से अमृत महोत्सव और हर घर तिरंगा जैसे कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है, लेकिन इन सबके बीच आज भी हमारे आजाद देश में महिलाओं की आजादी सवालों के घेरे में है। साहनी ने कहा कि महाराष्ट्र, बिहार, मध्य प्रदेश में पंचायत तथा निकायों में महिलाओं के लिए ५० प्रतिशत आरक्षण सुनिश्चित करने के लिए कानूनी प्रावधान किए हैं। २०१९ के हालिया लोकसभा चुनाव में महिलाओं ने पुरुषों के बराबर ही मतदान किया, जो राजनीति में लैंगिक समानता की दिशा में भारत की यात्रा में एक महत्वपूर्ण मोड़ है। साहनी ने जम्मू-कश्मीर के स्थानीय निकाय वार्डों के लिए कल जारी आरक्षण ड्राफ्ट पर कड़ी आपत्ति जताते हुए महिलाओं के लिए निगम चुनावों समेत तमाम चुनावों में ५० प्रतिशत आरक्षण की मांग की है। साहनी ने कहा कि भारतीय संसद के दोनों सदनों में कुल मिला कर ७८८ सदस्य हैं जिनमें से मात्र १०३ महिलाएं हैं, यानी सिर्फ १३ प्रतिशत। राज्य सभा के २४५ सदस्यों में से सिर्फ २५ महिलाएं हैं, यानी लगभग १० प्रतिशत। वहीं विधान सभाओं में तो स्थिति और खराब है। साहनी ने कहा कि १८-२२ सितंबर को संसद के  विशेष सत्र  में  लोकसभा और विधान सभाओं में  महिलाओं के लिए ३३ प्रतिशत सीटें आरक्षित करने वाले विधेयक को लेकर चर्चाएं गर्म हैं। अगर सरकार ऐसा करने का मन बना रही है तो इसे ३३ प्रतिशत से बढ़कर ५० प्रतिशत किया जाना चाहिए।

 

अन्य समाचार