मुख्यपृष्ठनए समाचारअपराधियों में कानून का डर खत्म! ...अंबादास दानवे ने `ईडी' सरकार को...

अपराधियों में कानून का डर खत्म! …अंबादास दानवे ने `ईडी’ सरकार को घेरा

राजन पारकर / मुंबई
महाराष्ट्र में कानून का कोई डर नहीं है। महाराष्ट्र में अपहरण, बलात्कार, लूटपाट और धोखाधड़ी जैसी घटनाएं दिनदहाड़े हो रही हैं। शिंदे सरकार के कार्यकाल में कानून व्यवस्था तार-तार हो गई है। विधान परिषद में विपक्ष के नेता अंबादास दानवे अंतिम सप्ताह प्रस्ताव विषय पर बोलते हुए उक्त बातें कहीं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ठाणे और गृहमंत्री नागपुर में महिलाएं और आम नागरिक सुरक्षित नही हैं। एक तरफ, एक नाबालिग लड़की को नागपुर में पुलिस ने प्रताड़ित किया, जो कि गृहमंत्री का जिला है, दूसरी तरफ ठाणे जिले के श्रीनगर पुलिस स्टेशन में एक महिला कर्मचारी ने आत्महत्या क्यों की? जो कि मुख्यमंत्री का जिला है। इस घटना में किसी का राजनीतिक दबाव था क्या? ठाणे में ऐसी घटना होना राज्य के लिए शर्म की बात है। ठाणे जिले में ही डांस बार खुले हैं। मीडिया ने एक स्टिंग ऑपरेशन किया और उसमें यह बात सामने आई है। यह शर्म की बात है कि मुख्यमंत्री और गृहमंत्री के जिले में लड़कियां और महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। पिछले २ महीने में नाबालिग लड़कियों, महिलाओं के खिलाफ हिंसा की घटनाओं में इजाफा हुआ है। दानवे ने आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की।

राज्य में बिगड़ती कानून-व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों की तत्काल भर्ती करने की मांग भी उन्होंने की। दानवे ने कहा कि अच्छा काम करने वाले पुलिसकर्मियों का मनोबल बढ़ाने की आवश्यकता है। विपक्ष के नेता ने सरकार से पूछा कि क्या सरकार इसके लिए कदम उठाएगी।

अन्य समाचार