मुख्यपृष्ठखबरेंशव विच्छेदन केंद्र के फ्रीजर पड़े हैं बंद! पं.भीमसेन जोशी (टेम्बा) अस्पताल...

शव विच्छेदन केंद्र के फ्रीजर पड़े हैं बंद! पं.भीमसेन जोशी (टेम्बा) अस्पताल के शव रखने में हो रही परेशानी, शहर में राज्य सत्ता पर आसीन पार्टी के दो-दो विधायक, फिर भी अस्पताल बेहाल

अमर झा / भायंदर
मीरा-भायंदर में स्थित इकलौता सरकारी अस्पताल हमेशा अपनी बदहाली के कारण हमेशा चर्चा में रहता है। बदहाली का अब नया मामला यह है कि अस्पताल का फ्रीजर काफी दिनों से खराब है, लोगों को शव रखने में काफी परेशानी हो रही है। लगभग १२ से १५ लाख की आबादी वाले मुंबई से सटे मीरा-भायंदर में मात्र एक सरकारी अस्पताल पं. भीमसेन जोशी अस्पताल है, जो बहुत ज्यादा सुविधायुक्त नहीं होने के वावजूद भी यहां मरीजों की अच्छी खासी भीड़ लगी रहती है।
राज्य सरकार की उपेक्षा के कारण यह अस्पताल खुद ही बीमार रहता है। अपनी बदहाली के कारण यह अस्पताल हमेशा सुुर्खियों में रहता है। कभी सफाई कर्मचारी की कमी, तो कभी स्टॉफ की कमी, तो कभी समय पर वेतन नहीं मिलने के मामले मीडिया में छपते रहते हैं। अस्पताल की कुव्यवस्था का एक ओर मामला सामने आया है। अस्पताल के शव विच्छेदन केंद्र में शव रखने वाले पड़े हुए हैं। यह मामला तब उजागर हुआ, जब एक शव को अस्पताल में रखने से मना कर दिया गया। परिजनों ने जब पता किया तो पता चला कि अस्पताल में शव गृह के फ्रीजर खराब पड़े हुए हैं। हालांकि, एक स्थानीय पत्रकार व समाजसेवक ने तत्काल परिजनों से बात कर बर्फ की व्यवस्था करवाकर शव को एंबुलेंस में रखवा दिया।
गौरतलब है कि शव केंद्र में कुल २१ फ्रीजर शव रखने के लिए उपलब्ध हैं, जिसमें ९ फ्रीजर कुछ सप्ताह से खराब पड़े हुए हैं। स्थानीय लोगों ने इस कुव्यवस्था पर नाराज होकर कहा कि शहर में दो दो विधायक वर्तमान में सत्ता में आसीन हैं फिर भी अस्पताल की यह दुर्दशा है। एक विधायक सिर्फ समाज भवन बनाने की घोषणा व भूमिपूजन करने में व्यस्त है तो दूसरे विधायक को कोई चिंता नहीं है। राज्य शासन के अधीन अस्पताल के साथ-साथ मनपा के अधीन मीरा रोड के इंदिरा गांधी अस्पताल में भी शव रखने वाले फ्रीजर कई महीनों से बंद पड़ा है। इस मामले में टेम्बा अस्पताल के हेड डॉ.जफर तडवी ने बताया कि कुछ फ्रीजर खराब हैं, उन्हें जल्द ही ठीक कराया जाएगा।

अन्य समाचार