मुख्यपृष्ठसमाचारबढ़ रही है सेक्स चेंज की आदत

बढ़ रही है सेक्स चेंज की आदत

-मुंबई के २१ पुरुषों को बनना है औरत!

सामना संवाददाता / मुंबई

महाराष्ट्र में सबसे पहले बीड में महिला पुलिसकर्मी ललिता सालवे ने लिंग परिवर्तन सर्जरी कराई थी। इसके बाद से ही प्रदेश में लिंग परिवर्तन करानेवालों की संख्या बढ़ गई है। सबसे चौंकानेवाली जानकारी यह सामने आई है कि इस सर्जरी को करानेवालों में पुरुषों की संख्या अधिक है। एक आंकड़े के मुताबिक, मुंबई के सायन अस्पताल में पिछले कुछ महीनों में २१ पुरुषों ने लिंग परिवर्तन सर्जरी कराई है, जबकि सेंट जॉर्ज अस्पताल में लिंग परिवर्तन के लिए पंजीकृत चार में से तीन पुरुष हैं।
जेंडर चेंज कराना नहीं होता आसान
डॉक्टर बताते हैं कि जिन लोगों को जेंडर डायसफोरिया होता है, वो इस प्रकार का ऑपरेशन कराते हैं। इस बीमारी में लड़का, लड़की की तरह और लड़की, लड़के की तरह जीना चाहती है। कई लड़के और लड़कियों में १२ से १६ साल के बीच जेंडर डायसफोरिया के लक्षण शुरू हो जाते हैं। लेकिन समाज के डर की वजह से ये अपने माता-पिता को इन बदलावों के बारे में बताने से डरते हैं, लेकिन जो हिम्मत जुटाकर कदम उठाते हैं वे जेंडर चेंज के लिए सर्जरी कराने का फैसला लेते हैं।
ऐसे होती है जेंडर चेंज सर्जरी
सबसे पहले डॉक्टर एक मानसिक टेस्ट करते हैं। इसके बाद इलाज के लिए हार्मोन थेरेपी शुरू की जाती है। यानी जिस लड़के को लड़की वाले हार्मोन की जरूरत है वो इंजेक्शन और दवाओं के जरिए उसके शरीर में पहुंचाया जाता है। इस इंजेक्शन के करीब तीन से चार डोज देने के बाद बॉडी में हार्मोनल बदलाव होने लगते हैं। फिर इसका प्रोसीजर शुरू किया जाता है। इसमें पुरुष या महिला के प्राइवेट पार्ट और चेहरे की शेप को बदला जाता है। महिला से पुरुष बनने वाले में पहले ब्रेस्ट को हटाया जाता है और पुरुष का प्राइवेट पार्ट डेवलप किया जाता है।
बेहद जटिल होती है जेंडर चेंज की प्रक्रिया
सेक्स-रिअसाइनमेंट सर्जरी या फिर जेंडर चेंज सर्जरी कराना एक चुनौतीपूर्ण काम होता है। इसका खर्च भी लाखों में है। सेक्स चेंज कराने के ऑपरेशन की प्रक्रिया काफी लंबे समय तक चलती है। फीमेल से मेल बनने के लिए करीब ३२ तरह की प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है। पुरुष से महिला बनने में १८ चरण होते हैं। सर्जरी को करने से पहले डॉक्टर यह भी देखते हैं कि लड़का और लड़की इसके लिए मानसिक रूप से तैयार हैं या नहीं। इसके लिए मनोरोग विशेषज्ञ की सहायता ली जाती है।

अन्य समाचार